Computer, Data and Information in Hindi

कंप्यूटर – डाटा और इंफॉर्मेशन

कंप्यूटर एक सुचना या जानकारी प्रसंस्करण करने वाली मशीन है (information processing machine) जो डाटा का प्रयोग कर, उस डाटा को उपयोगी सुचना या जानकारी में बदलता है।

डाटा क्या है ?

डाटा निर्देशों, तथ्यों और जानकारियों का वह समूह होता है जो मनुष्य या इलेक्ट्रॉनिक मशीन (Computer) द्वारा संचार (Communication), विवेचन (interpretation) और प्रसंस्करण (processing) के लिए प्रयोग किया जाता है। कंप्यूटर द्वारा इसी डाटा को प्रोसेस कर एक उपयोगी जानकारी (Useful Information) में बदला जाता है।

डाटा को अक्षरों (A-Z, a-z), नंबर (0,1,2-9) और विशेष वर्णों (+,-,/,?,*,<,>,= आदि) के रूप में दर्शाया जा सकता है।

Advertisement

सामान्य शब्दों में कहा जाये तो डाटा अक्षरों, नंबर व स्पेशल केरेक्टर्स का ऐसा समूह होता है, जिसे बिना प्रसंस्करण (processing ) किये किसी निष्कर्ष पर नहीं पंहुचा जा सकता है। यानि डाटा मात्र अर्थहीन सूचनाओं का एक समूह है जिसको प्रसंस्करण द्वारा एक अर्थपूर्ण सुचना या जानकारी (Information) में बदला जाता है।

सुचना या जानकारी (Information) क्या है ?

इनफार्मेशन, डाटा का एक संगठित और सुनियोजित समूह होता है, जिसका इनफार्मेशन प्राप्तकर्ता (receiver) के लिए कोई अर्थपूर्ण मतलब (meaning) हो, और डाटा को प्रोसेस्ड करके प्राप्त हुई इसी जानकारी पर, जानकारी को पानेवाले (receiver) की क्रियाएं और निर्णय निर्भर करते हैं।

उदहारण स्वरूप :- [डाटा] A, pl, e, p → Data Processing → Apple [इनफार्मेशन]
उपरोक्त उदहारण में {A, pl, e, p} अक्षरों का एक समूह मात्र है जिसका अपने आप में कोई पूर्ण अर्थ नहीं है, जिसे हम डाटा बोल सकते हैं। अगर इस डाटा को प्रोसेस्ड करके इन अक्षरों को सही क्रम में सुनियोजित कर दिया जाये तो यही अक्षरों का समूह मिलकर के एक शब्द {Apple} बन जायेगा जोकि एक पूर्ण शब्द है जोकि अपना एक अर्थ लिए हुए है {Apple – सेब या फल} इसी पूर्ण जानकारी को ही इनफार्मेशन कहा जाता है। अतः

“पूर्णतः संगठित (Organized) और सुनियोजित डाटा (Well Planned Data) को ही जानकारी (Information) कहा जाता है।”

Data Processing Cycle in hindi
Data Processing Cycle

Data Processing Cycle (डाटा प्रसंस्करण चक्र)

डाटा प्रोसेसिंग, इलेक्ट्रॉनिक मशीन या मनुष्य द्वारा उपलब्ध या एकत्रित किये गए डाटा से कोई उपयोगी या अर्थपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए, डाटा को सही क्रम में लगाने की प्रक्रिया को डाटा प्रोसेसिंग कहा जाता है।

अर्थहीन डाटा को अर्थपूर्ण व उपयोगी जानकारी में बदलना ही Data Processing Cycle (डाटा प्रसंस्करण चक्र) का काम है।

डाटा प्रोसेसिंग तीन चरणों में पूर्ण होती है – Input, Processing, and Output
ये तीन चरण मिलकर डेटा प्रोसेसिंग चक्र का गठन करते हैं। यही कंप्यूटिंग के तीन चरण इनपुट, प्रसंस्करण और आउटपुट हैं।

इनपुट (Input) 

उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए कंप्यूटर को दिये जाने वाले डाटा और निर्देशों के समूह को ही इनपुट कहा जाता है। ऐसा करने के लिए इनपुट डिवाइस का प्रयोग किया जाता है। कीबोर्ड और माउस कंप्यूटर को इनपुट प्रदान करने के लिए प्रयोग की जाने वाली प्रमुख डिवाइस हैं। इनपुट डिवाइस के बारे में अधिक जानकारी के लिए पढ़ें

प्रसंस्करण (Processing)

कंप्यूटर को प्रदान किये गए डाटा को किस प्रकार इस्तेमाल कर आउटपुट या उपयोगी इनफार्मेशन प्राप्त करनी है, यह जानकारी व निर्देश कंप्यूटर प्रोग्राम द्वारा निर्देशित किये जाते हैं। इन्हीं निर्देशों के आधार पर कंप्यूटर प्रोग्राम उपलब्ध डाटा को पुनर्व्यवस्थित और संगठित कर आउटपुट प्रदान करता है। यह पूर्ण प्रक्रिया कंप्यूटर के मस्तिष्क कहे जाने वाले भाग CPU (Central Processing Unit) में पूर्ण होती है। कंप्यूटर के इसी भाग में डेटा की खोज, छंटनी, गणना और निर्णय लेने की प्रक्रिया चलती है। CPU में मुख्य मेमोरी (Main Memory), नियंत्रण इकाई (Control Unit) और, अंकगणित इकाई (Arithmetic unit) और तर्क इकाई (Logic unit) (ALU) शामिल रहते हैं। इसी पूर्ण प्रक्रिया को प्रोसेसिंग कहा जाता है जिसके पूर्ण होने पर आउटपुट प्राप्त होता है।

आउटपुट (Output)

आउटपुट चरण में कंप्यूटर उपलब्ध डाटा को उपयोगी जानकारी में बदलकर उपयोगकर्ता को समझने और देखने या सुनने योग्य स्वरूप में उपलब्ध कराता है। आउटपुट प्रदान करने के लिए कंप्यूटर द्वारा आउटपुट डिवाइस का प्रयोग किया जाता है प्रमुखतः दृश्य प्रदर्शन इकाई (visual display unit) का प्रयोग किया जाता है जिसे मॉनिटर भी कहा जाता है। साथ ही प्रिंटर को भी आउटपुट डिवाइस के रूप में बड़े स्तर पर प्रयोग किया जाता है। आउटपुट डिवाइस के बारे में अधिक जानकारी के लिए पढ़ें

1 Comment

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*