करेंट अफेयर्स

करेंट अफेयर्स (28 अगस्त – 04 सितम्बर 2017)

1. भारत, चीन ने डॉकलाम से अपनी सेना पीछे हटायी।

विस्तार : – डोकलाम (Doklam) पठार और घाटी से बना स्थान है, जिसके उत्तर में चीन के नियंत्रण वाले तिब्बत की चुंबी घाटी (Chumbi Valley) है, पूर्व में भूटान की हा घाटी (Ha Valley) है तथा पश्चिम में भारत का सिक्किम (Sikkim) राज्य है। वर्ष 1961 से भूटान मानचित्रों में इसे अपने भू-भाग के रूप में दिखाता आ रहा है लेकिन चीन भी इसे अपना हिस्सा बताता रहा है। भारत ने हालांकि डोकलाम को अपना भू-भाग नहीं माना है लेकिन वह भूटान के दावे को मानता आ रहा है। यह विवाद 16 जून 2017 को उस समय शुरू हुआ जब चीन के फौजी दस्ते अपने निर्माण वाहनों तथा सड़क बनाने के उपकरणों के साथ डोकलाम में प्रविष्ट हो गए तथा उन्होंने उत्तर में चल रही अपनी सड़क परियोजना को यहाँ विस्तारित करना शुरू कर दिया। भूटान से इसे अपनी संप्रभुता पर वार बताया। वहीं चीन के इस अवैध निर्माण को रोकने के लिए 18 जून 2017 को 270 भारतीय सैनिक हथियारों तथा दो बुलडोज़रों के साथ डोकलाम में प्रविष्ट हो गए। तबसे डोकलाम विवाद (Doklam Controversy) चालू था तथा चीनी सरकार तथा वहां का सरकारी नियंत्रण वाला मीडिया भारत को तमाम तरह से डराने की कोशिश करता रहा। लेकिन 28 अगस्त 2017 को इस विवाद का शांतिपूर्ण तरीके से पटाक्षेप हो गया जब दोनों देशों ने अपनी सैन्य टुकड़ियों को वापस बुलाने पर सहमति जता दी। भारत ने अपनी टुकड़ी को सिक्किम वापस बुला लिया। उल्लेखनीय है कि इस मामले को ऐसे समय पर सुलझाया गया है जब एक सप्ताह के भीतर भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 3 सितम्बर 2017 से चीन में शुरू हो रहे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन (BRICS Summit) में भाग लेने वहाँ रवाना होने वाले थे।

2. दीपक मिश्रा ने नए मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ग्रहण की ।

Advertisement

विस्तार : – राष्ट्रपति भवन के दरबार हाल में 28 अगस्त 2017 को हुए एक सादे समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा (Justice Dipak Misra) को सर्वोच्च न्यायालय के नए मुख्य न्यायाधीश (Chief Justice of Supreme Court) की शपथ दिलाई। वे देश के 45वें मुख्य न्यायाधीश बने। उन्होंने एक दिन पूर्व 27 अगस्त 2017 को सेवानिवृत्त हुए न्यायमूर्ति जे.एस. खेहर (Justice J.S. Khehar) का स्थान लिया। न्यायमूर्ति मिश्रा उस समय चर्चा में आए थे जब मुम्बई बम धमाकों के एकमात्र सजा-प्राप्त मुजरिम याकूब मेमन (Yakub Memon) ने अपनी फाँसी रोकने के लिए अपनी फाँसी के दिन सर्वोच्च न्यायालय में गुहार लगाई थी तथा न्यायमूर्ति मिश्रा की अध्यक्षता में सर्वोच्च न्यायालय की 3-सदस्यीय पीठ ने तड़के यह सुनवाई की थी। इसके अलावा न्यायमूर्ति मिश्रा देश के मुख्य न्यायाधीश बनने वाले ओडीशा (Odisha) के तीसरे व्यक्ति हैं। इससे पहले न्यायमूर्ति रंगनाथ मिश्र (Justice Ranganath Misra) और न्यायमूर्ति जी.बी. पटनायक (Justice G.B. Pattanaik) यह मुकाम हासिल कर चुके हैं।

3. अरुण जेटली ने भारतीय नौसेना को एलआरएसएएम मिसाइल सौपी।

विस्तार : – रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने भारत डायनामिक्स लिमिटेड (बीडीएल) में भारत और इजराइल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित लंबी-दूरी वाली सतह-से-वायु में मारने वाली मिसाइल (एलआरएसएएम) को भारतीय नौसेना को सौंप दिया। एलआरएसएएम हवाई लक्ष्यों और मिसाइलों के खिलाफ एक उन्नत मिसाइल रक्षा कवच है, और वायु और सतह के निगरानी, ​​खतरे की चेतावनी और आग नियंत्रण पूरी क्षमता रखती है। मंत्री ने अपनी तरह का पहला 50 टन का रॉकेट मोटर स्टैटिक टेस्ट सुविधा भी समर्पित किया था। उन्होंने बीएसडीएल के भानूर इकाई में एस्ट्रा मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का उद्घाटन किया।

4. दिल्ली में ग्रामीण खेलों का आयोजन किया जायेगा।

विस्तार : – युवा मामलों और खेल मंत्री श्री विजय गोयल ने ग्रामीण खेल या ग्रामीण खेल महोत्सव के पहले संस्करण का दिल्ली में शुभारंभ किया। यह समारोह 28 अगस्त से 3 सितंबर, 2017 के बीच आयोजित किया जायेगा। ग्रामीण खेलों का उद्देश्य कुश्ती, एथलेटिक्स जैसे स्वदेशी खेलों को लोकप्रिय बनाना है और मटका रेस जैसे मज़ेदार खेल भी इसमें शामिल होंगे, वरिष्ठ नागरिकों के लिए रस्साकशी जैसे मजेदार जोड़े गए है।

5. सुषमा स्वराज ने मुंबई में पहले ‘विदेश भवन’ का उद्घाटन किया।

विस्तार : – विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने देश के पहली ‘विदेश भवन’ का उद्घाटन किया। यह भवन महाराष्ट्र में विदेश मंत्रालय (विदेश मंत्रालय) के सभी कार्यालयों को एकीकृत करता है। यह मुंबई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (बीकेसी) में स्थापति है। पहले पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर, विदेश मंत्रालय के चार कार्यालय – क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय (आरपीओ), आतिथ्य संरक्षक (पीओई) कार्यालय, शाखा सचिवालय और आईसीसीआर के क्षेत्रीय कार्यालय को स्टेट-ऑफ़-आर्ट कार्यालय में एक छत के नीचे आत्मसात किया गया है।

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*