प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत

प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत

प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत : प्रायद्वीपीय भारत के पर्वतों को मुख्यतः तीन भागों में बाँटा जा सकता है। Mountains of peninsular India-  Praydvipiy bharat ke parvat notes in hindi for UPSC & PCS.

प्रायद्वीपीय किसे कहते हैं?

प्रायद्वीप भूमि के वो भाग होते हैं जिनके तीन तरफ जल तथा एक ओर स्थल (भूमि) होता है। भारत के दक्षिणी तिकोनी आकृति के भू-भाग को प्रायद्वीपीय भारत कहते हैं।

प्रायद्वीपीय भारत की पहाड़ियाँ

प्रायद्वीपीय भारत की पहाड़ियों को तीन मुख्य भागों में बाँटा जाता है –

  1. गुजरात के पहाड़
  2. पश्चिमी घाट की पहाड़ियां
  3. पूर्वी घाट की पहड़ियां

1. गुजरात की पहाड़ियां

  • गुजरात की सभी पहाड़ियां दो प्रमुख क्षेत्र में फैली हुयी है ।
    • कच्छ के रण में ।
    • सौराष्ट्र के क्षेत्र में । इसी सौराष्ट्र वाले क्षेत्र को काठियावाड़ प्रायद्वीप भी कहते है ।
  • गुजरात की पहाड़ियों को पांच भागों में बाँटा जाता है –
  • कच्छ की पहाड़ियां

    • कच्छ के रण के पास है ।
    • यहां पर राजस्थान से आ रही लूनी नदी (लवण नदी) सूख जाती है ।
    • सबसे उच्चतम बिन्दु को कालो डंगर कहा जाता है । इसकी ऊँचाई 462 मी0 है ।
  • बरदा या बरड़ा की पहाड़ियां

    • ये गुजरात के सौराष्ट्र वाले हिस्से में है ।
    • जामनगर क्षेत्र में पड़ती है ।
    • बड़ा वन्यजीव भंडार भी है ।
    • पोरबंदर बंदरगाह से 15 कि0मी0 दूर है ।
    • इस पहाड़ी की सबसे ऊँची चोटी “आभपरा” है ।
  • गिरनार पहाड़ियां

    • ये गुजरात के सौराष्ट्र वाले हिस्से में है ।
    • इनको रोवात्त पहाड़ी भी कहा जाता है।
    • जूनागड़ के पास है।
    • इसकी औसत ऊँचाई 3500 फिट है ।
    • उच्चतम बिन्दु गोरखनाथ है।
    • सम्राट अशोक के 14 धर्मलेख यहीं पर है।
  • गिर पहाड़ियां

    • यहां पर गिर राष्ट्रीय उद्यान स्थित है।
    • एशियाई शेर यहां पाये जाते हैं।
  • माण्डव पहाड़ियां

    • ये गुजरात में है।
    • यहां की सबसे ऊँची चोटी है।

2. पश्चिमी घाट पहाड़ियां

  • पश्चिमी घाट पर्वत को सहयाद्री पर्वत भी कहा जाता है।
  • पश्चिमी घाट को 2 भागों में बाँटा गया है।
    • कोंकण तट- गुजरात से गोवा पार करके कुछ कर्नाटक तक।
    • मालाबार तट- कर्नाटक से केरल तक
  • पश्चिमी घाट की प्रमुख पहाड़िया निम्नवत हैं –
  • सातमाला श्रेणी

    • नासिक(महाराष्ट्र) में है।
    • उच्चतम बिन्दु 1472 मी0 है।
  • अजन्ता पहाड़ियां

    • ये औरंगाबाद में है।
    • अजन्ता और एलोरा की गुफायें यहीं पर हैं।
    • यूनेस्को की विश्व विरासत स्थलों की सूची में से एक है।
  • हरिश्चन्द्र श्रेणी

    • महाराष्ट्र में है।
    • इसकी औसत ऊँचाई 600 मी0 है।
  • बालाघाट श्रेणी

    • महाराष्ट्र में है।
    • इसकी औसत ऊँचाई 550 मी0 से 825 मी0 है।
    • हरिश्चन्द्र एंव बालाघाट पर्वत श्रेणियां दो नदियों गोदावरी एंव भीमा नदी के मध्य में है । उत्तर में गोदावरी तथा दक्षिण में भीमा नदी । अतः ये दोनों पहाड़ियां गोदावरी एंव भीमा नदी को अलग अलग करती है।
  • कालसुबाई चोटी

    • महाराष्ट्र के नासिक में है।
    • औसत ऊँचाई 1646 मी0 है।
  • महाबलेश्वर चोटी

    • महाराष्ट्र में है।
    • कृष्णा नदी यहीं से निकलती है।
  • कुद्रेमुख पहाड़ी

    • कर्नाटक में है।
    • इसके समांतर में एक पहाड़ी है जिसे बाबा बुद्धनगिरी पहाड़ी के नाम से जाना जाता है।
  • ब्रह्मगिरी पहाड़ी

    • कर्नाटक में है।
    • यहां कुर्ग जिले से कावेरी नदी निकलती है। आगे जाकर बंगाल की खाड़ी में गिर जाती है।
  • नीलगिरी पहाड़ी

    • केरल, तमिलनाडु एवं कर्नाटक की सीमा पर पश्चिमी एवं पूर्वी घाट मिलते है । यहीं पर नीलगिरी पर्वत है।
    • इसका उच्चतम बिन्दु दोद्दा बेट्टा है, जिसकी ऊँचाई 2637 मी0 है । ये पश्चिमी घाट का द्वितीय उच्चतम शिखर है।
    • इसके नीचे पाल घाट दर्रा है।
    • ऊटी या उटकमंड पर्यटक स्थल यहीं पर है।
  • अन्ना मलाई पहाड़ियां

    • केरल एवं तमिलनाडु की सीमा पर है ।
    • सबसे उच्चतम बिन्दु अन्नामुदी है जिसकी ऊँचाई 2695 मी0 है । ये पश्चिमी घाट का सबसे उच्चतम शिखर है ।
  • पालनी पहाड़ियां

    • ये पहाड़ियां तमिलनाडु में स्थित है ।
    • यहाँ पर एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल कोडैकनाल है ।
  • इलाईची पहाड़िया

    • कार्डमोम की पहाड़ियां भी कहा जाता है ।
    • केरल एवं तमिलनाडु की सीमा पर स्थित है ।
    • यही पर शेनकोट्टा दर्रा है ।
    • भारत की सबसे दक्षिणी पहाड़िया यही है ।
    • महेन्द्रगिरी चोटी सबसे दक्षिणी चोटी है ।

3. पूर्वी घाट की पहाड़ियां

  • पश्चिमी घाट से निकलने वाली सारी नदियां पूर्वी घाट में ही आकर गिरती है। इसका कारण यह है कि पश्चिमी घाट की ऊँचाई पूर्वी घाट से अधिक है । इसलिए नदियां ढाल की तरफ अपना रास्ता बनाती है।
  • नदियों के प्राकृतिक बहाव के कारण हुए कटाव से यहां के पहाड़ों के बीच काफी खाली जगह बन गयी है।
  • पूर्वी घाट की प्रमुख पहाड़िया मुख्यतः तीन राज्यों ओड़िशा, आंध्र प्रदेश एवं तमिलनाडु में विभक्त है। जिसका विवरण निम्नवत हैं –
  • ओडिशा की पहाड़ियां

    • गड़जात की पहाड़ियां
    • अस्सीया पहाड़ियां भूवनेश्वर के पास
    • टिकरपारा पर्वत श्रेणी
    • न्यागढ़ पहाड़ियां
  • आंध्र प्रदेश की पहाड़ियां

    • एरामाला पहाड़ियां
      • आन्द्र प्रदेश के कुरनूल जिले में है।
      • इसके पूर्व में तुंग भद्रा नदी जोकि कृष्णा नदी की सहायक नदी है उसमें मिलती है।
    • शेषचलम पहाड़ियां
    • नल्लामलाई पहाड़ियां
    • वेलीकोंडा पहाड़ियां
    • पालकोण्डा पहाड़ियां
    • नागरी पहाड़ियां
  • तमिलनाडु की पहाड़िया

    • जावादी पहाड़ी
    • शिवराय पहाड़ी
    • पचाईमलाई पहाड़ी
    • सिरूमलाई पहाड़ियां
Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

1 Comment

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*