Important questions related to Indian economy in Hindi

भारतीय अर्थव्यवस्था से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

भारतीय अर्थव्यवस्था से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न :- भारतीय अर्थव्यवस्था से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न (Important questions related to Indian economy in Hindi) यहाँ दिए गए हैं। economic questions in hindi

भारतीय अर्थव्यवस्था से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

  • एडम स्मिथ को अर्थव्यवस्था का पिता कहा जाता है।
  • दास कैपिटल किसने और कब लिखी थी- कार्ल मार्क्स द्वारा वर्ष 1867 में Germany में।
  • द फ्यूचर ऑफ इण्डिया पुस्तक किसने लिखी थी- विमल जालान।
  • संरचनात्मक बेरोजगारी का प्रमुख कारण- अपर्याप्त उत्पादन क्षमता।
  • भारत में बेरोजगारी के आंकड़े प्रकाशित करता है- NSSO(National Sample Survey office)। वर्तमान में NSSO को CSO(Central Statistics Office) के साथ मिला दिया गया है।
  • भारतीय रिजर्व बैंक का मुख्यालय- मुम्बई में स्थित है। भारतीय रिजर्व बैंक का लेखा वर्ष 1-जुलाई से 30-जून तक होता है, जबकि देश का वित्तीय वर्ष 1-अप्रैल से 31- मार्च तक होता है।
  • रिजर्व बैंक द्वारा CDR(Cash Deposit Ratio) को कम किया जाता है तो साख सृजन में वृद्धि होगी।
  • अर्थव्यवस्था में मुद्रा का मूल्य तथा कीमत का स्तर, में प्रतिलोम (Inverse) संबंध होता है।
  • SDR (Special Drawing Rights) एक प्रकार की कृत्रिम मुद्रा है।
  • घाटे की वित्तीय व्यवस्था का अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ता है- मुद्रा आपूर्ति में बढ़ोतरी होती है।
  • TRIPS एवं TRIMS पर WTO आधारित हैं।
    • TRIPS- Trade Related Aspect of Intellectual property Rights
    • TRIMS- Trade Related Investment Measures
  • भारतीय रिजर्व बैंक करेंसी नोट जारी करता है- नियत न्यूनतम आरक्षण प्रणाली से।
  • भारतीय रिजर्व बैंक के नोट निर्गमन विभाग को 200 करोड़ का सोना हर समय बनाये रखना अनिवार्य है नए नोटों को छापने के लिए।
  • भारतीय मुद्रा के नोटों के पीछे 15 भाषाएं लिखी रहती हैं।
  • VAT लागू करने वाला पहला राज्य- हरयाणा।
  • मुद्रास्फीति की सबसे प्रचलित माप – WPI (Wholesale price index)।
  • दलाल स्ट्रीट (Broker Street)- Mumbai में स्थित है।
  • अल्पकालिक सरकारी प्रतिभूति पत्र का अन्य नाम – ट्रेजरी बिल।
  • South India Bank- एक Private bank है।
  • कराधान (Taxation) एक उपकरण है– राजकोषीय नीति (Fiscal Policy) का।
  • PURA (Providing Urban Amenities to Rural Areas) ग्रामीण विकास क्रायक्रम है जिसे डा0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम ने सर्वप्रथम वर्ष 2003 में प्रस्तुत किया था। ग्रामीण क्षेत्रों में शहरी सुविधाएं।
  • हरित सूचकांक किससे सम्बन्धित है- UNEP(United Nations Environment Program)
  • World Development Report- IRBD(International Bank for Reconstruction and Development) द्वारा प्रकाशित की जाती है।
  • ‘अपना वन अपना धन योजना’ किस राज्य ने शुरू की- हिमाचल प्रदेश।
  • केन्द्र सरकार के कर (Central Govt. Taxes)- उत्पाद शुल्क, आयकर, कॉर्पोरेट कर, सीमा शुल्क।
  • राज्य सरकार के कर (State Govt. Taxes)- व्यापार कर, कृषि आय पर कर, मनोरंजन कर।
  • प्रत्यक्ष कर- सम्पदा कर, आयकर आदि।
  • अप्रत्यक्ष कर- विक्रय कर, एक्साइज कर, कस्टम आदि।
  • भारत में आयकर को सबसे पहले किसने लागू किया था- सर जेम्स विल्सन ने वर्ष 1860 में।
  • Insight Trading सम्बन्धित है- शेयर बाजार से।
  • एशियन टाइगर (Asian Tiger) कहे जाने वाले 4 देश- Hong-Kong, Singapore, South Korea, Taiwan
  • प्रमुख भारतीय वित्तीय संस्थानों की स्थापना-
    • NABARD स्थापना- 1982
    • SEBI की स्थापना- वर्ष1992 में
    • SIDBI की स्थापना- वर्ष1990 में
    • SBI की स्थापना-1955 पुराना नाम Imperial Bank of India
    • Imperial Bank की स्थापना-1921
    • प्रथम ग्रामीण बैंक की स्थापना (5 एक साथ)- 1975
    • पहली बार बैंकों का राष्ट्रीयकरण-1969
    • भारत में सेवा कर प्रारम्भ- 1994-1995
    • LIC की स्थापना- 1956
    • सम्पदा कर भारत में पहली बार- 1957
    • Decimal Currency System- 1957
  • ग्रामीण भारत से गरीबी दूर करने हेतु कार्यक्रम
    • IRDP- Integrated Rural Development Program
    • TRYSEM- Training of Rural Youth for Self employment
    • NREP- National Rural Employment Program
  • इंदिरा आवास योजना गंदी बस्ती में रहने वाले के लिए आवास से सम्बन्धित है।
  • प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना में गाँव की जनसंख्या न्यूनतम 1000 से अधिक होनी चाहिए।
  • स्वाभीमान योजना- ग्रामीण बैंकिंग से सम्बन्धित है।
  • जवाहर रोजगार योजना को शुरू किया गया- 1 अप्रैल 1989 (केंद्र और राज्य की 80:20 की हिस्सेदारी) इस योजना का क्रियान्वयन ग्राम पंचायत द्वारा किया जाता है।
  • सर्वशिक्षा अभियान विश्व बैंक द्वारा वित्त पोषित है।
  • किसान क्रेडिट कार्ड योजना का शुभारम्भ- अगस्त 1998 (NDA Govt.)।
  • मुद्रास्फीति की स्थिति में- सबसे अधिक लाभ उद्योगपतियों को होता है।
  • आय विधि से राष्ट्रीय आय का आकलन करते समय अवितरित आय को शामिल नहीं किया जाता।
  • मुद्रास्फीति (Inflation) की उच्च दर और बेरोजगारी की उच्च दर की एक साथ उपस्थिति को स्टैगफ्लेशन (stagflation) कहते है।
  • मुद्रास्फीति (Inflation) के कारण सबसे अधिक हानि – देनदार को होती है क्योकिं करों में बढ़ोतरी हो जाती है। इसे मांगों पर नियंत्रण, मुद्रा की आपूर्ति पर नियंत्रण तथा राशनिंग (खाद्य पदार्थों या दैनिक उपभोग के अन्य वस्तुओं का समान अनुपात में वितरण की व्यवस्था) से Control करा जाता है।
  • अत्यधिक कुपोषण के कारण मध्य प्रदेश को भारत का इथोपिया कहा जाता है।
  • भारतीय बैंको की अधिकतम शाखा किस देश में हैं- यूनाइटेड किंगड़म (UK)
  • भारत में गरीबी की माप का सूचकांक बहुआयामी गरीबी सूचकांक है।
  • भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक का मुख्यालय लखनऊ में स्थित है।
  • रिजर्व बैंक की दूसरी अनुसूची में शामिल बैंकों को अनुसूचित बैंक कहा जाता है।
  • IRDA (Insurance Regulatory and Development Authority) का मुख्यालय हैदराबाद में स्थित है।
  • भारत का आर्थिक सर्वेक्षण, वित्त मंत्रालय द्वारा प्रकाशित किया जाता है।
  • अब तक भारतीय रुपये का 2 बार अवमूल्यन हुआ है वर्ष 1991 और वर्ष 1992 में।
  • रिजर्व बैंक की खुला बाजार कार्यवाही (OMO-Open Market Operation)- सरकारी बान्डों का क्रय एवं विक्रय है।
  • किसान क्लबों को- क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक द्वारा बनाया जाता है।
  • एक रुपये के नोट पर वित्त मंत्रालय के सचिव के हस्ताक्षर होते हैं।
  • IMF के नियमानुसार हर सदस्य को अपनी वैध मुद्रा को US Dollar तथा Pound Sterling में घोषित करना अनिवार्य है।
  • भारतीय बैंको से सम्बन्धित महत्वपूर्ण तथ्य-
    • SBI का जन्म 1806 को Bank of Calcutta के रूप में हुआ। 1921 में SBI तथा Bank of Madras (1843) तथा Bank of Mumbai (1840) को मिलाकर Imperial Of India का नाम दिया गया।
    • भारत का सबसे पहला बैंक- Bank of Hindustan(1770)
    • भारतीय स्टेट बैंक(SBI) की स्थापना- 1 July 1955(HQ Mumbai)
    • रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया(RBI) की स्थापना- 1 April 1935(HQ Mumbai)
    • RBI की राष्ट्रीयकरण- 1 Jan 1949
    • भारत में कुल राष्ट्रीयकृत बैंक- 19
      • वर्ष 1969 में 14
      • वर्ष 1980 में 6
      • बाद में वर्ष 1993 में New Bank of India का विलय Punjab National Bank में कर दिया गया। अतः कुल राष्ट्रीयकृत बैंकों की संख्या 20 से घटकर 19 रह गयी।
      • वर्ष 1990 में नरसिंह समिति किस से सम्बन्धित थी- बैंकिंग सुधार से।
  • सिक्के तथा एक रूपये का नोट- वित्त मंत्रालय बनाते है।
  • 100 रू0 के नोट पर पारिस्थितिकी (Ecology) का चित्र अंकित है और 50 रू0 पर संसद भवन।
  • Forced Saving (मजबूरन बचत)- वो बचत जोकि कीमतों में बढोतरी के कारण होती है। इस विषय पर शोध हेतु फ्रेडरिक वॉन को नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था।
  • गिफिन वस्तुएं (निम्न स्तरीय) सदा घटिया भी अवश्य होंगी। इन वस्तुओं पर मांग का नियम लागू नहीं होता तथा मूल्य में वृद्धि से इनकी मांग बढ़ जाती है तथा मूल्य कम होने से मांग कम हो जाती है। इन वस्तुओं पर उपभोक्ता अपनी आय का बड़ा भाग खर्च करता है।
  • घटिया वस्तु की मांग गिरती है जब आय बढ़ती है।
  • विज्ञापन तथा जन संपर्क पर किया गया व्यय- मध्यवर्ती उपभोग (Intermediate Consumption) का भाग होता है।
  • एंजेल का उपभोग नियम – अर्नस्ट एंजिल (Ernst Engel) एक जर्मन अर्थशास्त्री थे तथा उनके नियमानुसार आय के बढ़ने पर निम्न तीन क्रियाएं होंगी-
    1. भोजन पर होने वाले व्यय के अनुपात में कमी आती है।
    2. मकान तथा कपड़े पर होने वाला व्यय स्थिर रहता है।
    3. शिक्षा, स्वास्थ्य एवं मनोरंजन पर होने वाला व्यय के अनुपात में वृद्धि होती है।
  • ऊपरी लागत- वह लागत जो उत्पादन के साथ कम या ज्यादा न हो अर्थात उत्पादन से स्वतंत्र हो। उदाहरण के लिए यदि कोई उद्योग कुछ समय के लिए बंद भी हो जाए तब भी किराया, वेतन आदि देना ही पड़ेगा।
  • किसी अर्थव्यवस्था में उत्कर्ष अवस्था वह अवस्था है जब अर्थव्यवस्था में “स्थिर वृद्धि प्रारम्भ” होने लगे।
  • साम्यवाद के अनुसार समाज का मुख्य दुश्मन “निजी संपत्तियां” है।
  • कीमत तथा मांग में विलोम संबंध होता है। एक बढ़ेगा तो एक घटेगा।
    1. बेलोच (Inelastic Demand)- जब वस्तु की कीमत में काफी परिवर्तन होने पर उसकी मांग में अपेक्षाकृत मामूली परिवर्तन हो तो (E<∞)। उदाहरण के लिए चावल, दियासलाई।
    2. लोचदार (Elastic Demand)- जब वस्तु की कीमत में थोडे से परिवर्तन से उसकी मांग में अपेक्षाकृत काफी अधिक परिवर्तन हो तो (E>1)। उदाहरण के लिए बिजली।
    3. पूर्ण लोचदार (Perfectly Elastic)- जब वस्तु की कीमत में थोड़े या मामूली परिवर्तन से मांग पर काफी ज्यादा परिवर्तन हो तो (E=∞)। उदाहरण के लिए गहने, वाहन आदि।
    4. पूर्ण बेलोच (Perfectly Inelastic)- जब वस्तु की कीमत में किसी परिवर्तन से मांग पर कोई परिवर्तन न हो तो(E=0)। उदाहरण के लिए पानी, तंबाकू आदि।
    5. समानुपाती मांग लोच (Unit Elasticity)- जब कीमत में परिवर्तन तथा मांग में परिवर्तन समान अनुपात में होता है (E=1)।
Economics Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

2 Comments

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*