भारत की प्रमुख नकदी फसलें

भारत की प्रमुख नकदी फसलें

भारत की प्रमुख नकदी फसलें :- नकदी फसलों को व्यापारिक फसलें भी कहा जाता है। ये वे फसलें होती है जिनकी कृषि व्यापारिक क्रिया कलापों हेतु की जाती है। भारत की प्रमुख व्यापारिक फसलें हैं- रबड़, गन्ना, कपास, जूट, चाय, कहवा एवं तम्बाकू। (India’s major cash crops Notes in Hindi for UPSC, PCS)

भारत की प्रमुख व्यापारिक फसलें (भारत की प्रमुख नकदी फसलें)

गन्ना (Sugarcane)

  • गन्ना एक ग्रेमिनी कुल का पौधा है। धान की ही तरह यह भी एक उष्णकटिबन्धीय फसल है।
  • गन्ना भारत की सर्वाधिक सिंचित फसल है। इसे पूरी तरह से तैयार होने में 1 वर्ष का समय लगता है।
  • गन्ना एवं चीनी उत्पादन में भारत, ब्राजील के बाद दूसरे स्थान पर आता है। जबकि चीनी की खपत में भारत प्रथम स्थान पर है।
  • प्रति हेक्टेयर उत्पादन में विश्व में हवाई प्रथम एवं क्यूबा दूसरे स्थान पर आता है।
  • भारत में सर्वाधिक गन्ना एवं चीनी उत्पादक राज्य क्रमशः – 1. उत्तर प्रदेश – भारत की कुल चीनी का 45%, 2. महाराष्ट्र हैं।
  • भारत में सर्वाधिक चीनी मिलें महाराष्ट्र में है।
  • गन्ना उत्पादन के लिए दक्षिण भारत की जलवायु अधिक उपयुक्त है। अतः दक्षिण भारत का गन्ना अधिक रस वाला होता है।
  • भारतीय चीनी तकनीकी संस्थान- कानपुर(उत्तर प्रदेश) में स्थित है।
  • भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान- लखनऊ(उत्तर प्रदेश) में स्थित है।
  • भारत सरकार प्रति वर्ष गन्ने का “उचित और लाभकारी मूल्य” तय करती है। यह वह मूल्य है जो चीनी मिलों द्वारा गन्ना किसानों को चुकाना
  • अनिवार्य है।
  • गन्ना एक C4 पौधा है।
  • भारत में कपड़ा उद्योग के बाद चीनी उद्योग देश का दूसरा सबसे बड़ा कृषि आधारित उद्योग है।

रबड़ (Rubber)

  • रबड़ एक उष्णकटिबन्धीय पौधा है।
  • रबड़ मूलतः अमेजन नदी की घाटी(ब्राजील) का पौधा है।
  • विश्व में रबड़ का सबसे अधिक उत्पादन ब्राजील में होता है।
  • भारत प्रति हेक्टेयर उत्पादन में विश्व में प्रथम परन्तु कुल उत्पादन में विश्व में चौथे स्थान पर आता है।
  • भारत में सर्वाधिक उत्पादन “केरल” राज्य में होता है।
  • “पारा” किस्म का रबड़ विश्व में सर्वोत्तम माना जाता है।
  • रबड़ को वृक्ष के पत्ते के दूध (लैटेक्स) से प्राप्त का जाता है।
  • रबड़ के वृक्ष के उत्पादन की अनुकूल परिस्थितियां हैं-
    i. उच्च तापमान एवं धूप।
    ii. 200 से०मी० से अधिक वार्षिक वर्षा।
    iii. लैटेराइट या लाल मृदा का क्षेत्र।

कपास (Cotton)

  • कपास मालवेसी कुल का पौधा है।
  • भारत में कपास की खेती का क्षेत्रफल विश्व में सर्वाधिक है।
    कुल कपास उत्पादन या प्रति हेक्टेयर उत्पादन में भारत का स्थान चीन के बाद दूसरा है।
  • भारत में लावा मिट्टी जिसे काली मिट्टी या रेगुर मिट्टी भी कहा जाता है, के क्षेत्र में की जाती है। प्रमुखतः गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश एवं पंजाब में।
  • कपास उत्पादन में गुजरात प्रथम स्थान पर है। ये भारत के कुल उत्पादन का 34% उत्पादन स्वयं करता है।
  • भारतीय कपास के रेशे की लम्बाई 2.5 से 5 से०मी० तक होती है।
  • कपड़ा उद्योग देश का सबसे बड़ा संगठित उद्योग है।

चाय (Tea)

  • चाय की व्यापारिक खेती सर्वप्रथम वर्ष 1834 में अंग्रेजों द्वारा असम घाटी में शुरू की गयी थी।
  • चाय मूलतः चीनी पौधा है।
  • चाय की खेती के लिए अनुकूल दशाएं-
    i. 150-250 से०मी० वार्षिक वर्षा।
    ii. उच्च तापमान।
    iii. भूमि पर्वतीय ढ़ालदार होनी चाहिए ताकि वर्षा का जल जड़ों में जमा न होने पाये।
    iv. गंधक युक्त मिट्टी की आवश्यकता।
  • भारत में तीन चाय के शीर्ष उत्पादक राज्य क्रमशः है-
    i. असम – भारत के कुल उत्पादन का 50%
    ii. पश्चिम बंगाल
    iii. तमिलनाडु – दक्षिण भारत का अकेला अग्रणी राज्य है।
  • असम में ब्रह्मपुत्र एवं सूरमा नदी की घाटी में चाय की खेती की जाती है।
  • विश्व के तीन शीर्ष चाय उत्पादक देश हैं –
    i. चीन
    ii. भारत
    iii. केन्या
  • विश्व में शीर्ष तीन चाय निर्यातक देश –
    i. केन्या
    ii. चीन
    iii. श्रीलंका

कहवा (कॉफी – Coffee)

  • कहवा अथवा कॉफी का मूल स्थान अमेजन नदी की घाटी(ब्राजील) है।
  • भारत में 17वीं शताब्दी में अरब क्षेत्र से लाकर दक्षिण भारत में बाबा बुदन की पहाड़ी पर लगाया गया था।
  • कहवा की खेती दक्षिण भारत की पर्वतीय ढालों तक ही सीमित है, कर्नाटक, केरल एवं तमिलनाडु। सर्वाधिक उत्पादन कर्नाटक में 68% और फिर केरल में होता है।
  • कहवा की कुल 5 किस्में होती हैं। भारत में केवल अरेबिका(68% क्षेत्रफल में) तथा रोबस्टा की खेती होती है।
  • कहवा के शीर्ष 3 उत्पादक देश क्रमशः निम्नलिखित हैं-
    i. ब्राजील
    ii. वियतनाम
    iii. इंडोनेशिया
  • चाय के पौधे से एक वर्ष में 3 बार पत्तियां चुनी जाती है। परन्तु कॉफी का पौधा 4 वर्ष में एक बार कली देता है।

तम्बाकू (Tobacco)

  • तम्बाकू का मूल स्थान अमेजन नदी की घाटी(ब्राजील) है।
  • तम्बाकू की दो किस्में पायी जाती हैं –
    i. निकोटियाना टोबैकम- तम्बाकू की इस किस्म को भारत में उगाया जाता है।
    ii. रस्टिका
  • सर्वप्रथम 17वीं शताब्दी में जहांगीर के काल में पुर्तगालियों द्वारा भारत लाया गया था।
  • भारत के दो शीर्ष तम्बाकू उत्पादक राज्य हैं –
    i. आन्ध्र प्रदेश
    ii. गुजरात
  • विश्व में सबसे बड़ा तम्बाकू उत्पादक और उपभोक्ता देश है –
    i. चीन
    ii. भारत

जूट (Jute)

  • जूट एक रेशेदार फसल है।
  • भारत का 70% जूट पश्चिम बंगाल में उगाया जाता है।
  • गंगा-ब्रह्मपुत्र डेल्टा को जूट उत्पादन में एकाधिकार प्राप्त है।
  • विश्व का सर्वाधिक जूट उत्पादक देश बांग्लादेश है।

इन्हें भी पढ़ें —

Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*