भारत के विद्युत ऊर्जा स्रोतों का परिचय 

भारत के विद्युत ऊर्जा स्रोतों का परिचय 

  • भारत विश्व में विद्युत के कुल उत्पादन एवं उपभोग में 5वें स्थान पर आता है। इस सूची में यू०एस०ए० प्रथम है।
  • वर्ष 2020 के आकड़ों के अनुसार भारत की कुल संस्थापित क्षमता 3,71,054 MW है।
क्र.सं.नामक्षमता प्रतिशतसंस्थापित क्षमता
1तापीय विद्युत67%2,30,906 MW
2जल विद्युत12.30%45,699 MW
3परमाणु विद्युत1.80%6,780 MW
4नवीकरणीय विद्युत23.60%87,699 MW
  • विद्युत की कुल संस्थापित क्षमता एक राज्य की विद्युत उत्पादन की कुल क्षमता को दर्शाता है। ये क्षमता का कुल उत्पादन से अलग होती है।
  • देश में सर्वाधिक ऊर्जा की खपत क्रमशः उद्योग (35%) तथा कृषि(27%) और घरेलू क्षेत्र में होती है।
  • सर्वाधिक विद्युत संस्थापित क्षमता वाला राज्य- महाराष्ट्र
    सर्वाधिक विद्युत उत्पादन वाला राज्य- महाराष्ट्र
  • सर्वाधिक ताप विद्युत संस्थापित क्षमता वाला राज्य- महाराष्ट्र
    सर्वाधिक ताप विद्युत उत्पादन वाला राज्य- महाराष्ट्र
  • सर्वाधिक जल विद्युत संस्थापित क्षमता वाला राज्य- आंध्र प्रदेश
    सर्वाधिक जल विद्युत उत्पादन वाला राज्य- हिमाचल प्रदेश
  • सर्वाधिक सौर विद्युत सम्भावना वाला राज्य- राजस्थान
    सर्वाधिक सौर विद्युत उत्पादन वाला राज्य- गुजरात
  • सर्वाधिक पवन ऊर्जा उत्पादक राज्य- तमिलनाडु
  • सर्वाधिक नाभिकीय विद्युत की संस्थापित क्षमता वाला राज्य- तमिलनाडु
  • वर्तमान में देश में 5 ऊर्जा ग्रिड है –
    1. उत्तर भारत ग्रिड
    2. पश्चिम भारत ग्रिड
    3. दक्षिण भारत ग्रिड
    4. पूर्वी भारत ग्रिड
    5. पूर्वोत्तर भारत ग्रिड
  • शत प्रतिशत ग्रामीण विद्युतीकरण वाला पहरा राज्य- हरियाणा
  • संख्या के आधार पर सर्वाधिक ग्राम विद्युतीकरण वाला राज्य- उत्तर प्रदेश
  • सर्वाधिक विद्युत की मांग और खपत वाला राज्य- महाराष्ट्र
  • भारत में सर्वप्रथम विद्युत आपूर्ति 1897 में दार्जिलिंग में की गयी थी।
Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*