भारत में निवास करने वाली जनजातियाँ

भारत में निवास करने वाली जनजातियाँ

भारत में निवास करने वाली जनजातियाँ :- जनजातियाँ एक ऐसा मानव समूह है जोकि अपने आदिम रीति-रिवाज के तरीकों से एक निश्चित भू-भाग पर निवास करते हैं। भारतीय जनजातियों को भू-भाग के अनुसार उत्तर, पूर्वोत्तर, मध्य तथा दक्षिणीय क्षेत्र में वर्गीकृत किया गया है। Indian tribes related important UPSC and PCS notes in Hindi.

  • जनजातियों में धार्मिक पुरूष(पुजारी) को पाहन कहा जाता है।
  • अफ्रीका महाद्वीप को जनजाति महाद्वीप भी कहा जाता है।
  • भारत देश में सर्वाधिक जनजाति जनसंख्या वाला राज्य मध्य प्रदेश है उसके बाद महाराष्ट्र का स्थान है।
  • भारत देश में सर्वाधिक जनजाति प्रतिशत जनसंख्या वाला राज्य मिजोरम (94%) है।
  • भारत देश में सर्वाधिक जनजाति प्रतिशत जनसंख्या वाला केन्द्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप (94%) है।
  • भारत देश में न्यूनतम जनजाति जनसंख्या वाला राज्य गोवा तथा इसके बाद उत्तर प्रदेश का स्थान आता है।
  • पंजाब, हरियाणा, दिल्ली एवं चंडीगढ़ में कोई भी जनजातियां निवास नहीं करती हैं।
  • किसी भी जनजाति समुदायको अधिसूचित करने का अधिकार राष्ट्रपति के पास है।

देश जनसंख्या के आधार पर सबसे बड़े तीन जन जातीय समूह-

    1. गोण्ड
    2. भील
    3. संथाल
  • पशुपालक जनजातियां
    1. टोडा जनजाति तमिलनाडु के नीलगिरी पहाड़ी पर निवास करती है तथा भैंस पालन करती है।
    2. गद्दी एवं बकरवाल जनजाति हिमाचल प्रदेश में निवास करती है तथा भेड़-बकरी पालन करती है।
  • चकमा जनजाति के लोग बांग्लादेश के मूल निवासी है तथा ये पूर्वोत्तर भारत में प्रमुखतः त्रिपुरा में शरणार्थी के रूप में प्रवेश कर गए है।

भारत की प्रमुख जनजातियाँ

देश में निवास करने वाली प्रमुख जनजातियों का विवरण निम्नलिखित है-

राज्यजनजाति का नामप्रमुख बाते
जम्मू कश्मीरगुज्जरएक मुस्लिम जनजाति है।
हिमाचल प्रदेशगद्दी, बकरवाल, जद्दा, किन्नौर1. पहाड़ी ढ़ालों पर निवास करती हैं।
2. गद्दी तथा बकरवाल जनजाति बकरी तथा भेड़ों को पालती है तथा उन्हीं के उत्पादों पर आश्रित हैं।
उत्तराखण्डथारू, बुक्सा, भोटिया, जौनसारीथारू जनजाति के लोग दीपावली को शोक पर्व के रूप में मनाते हैं।
उत्तर प्रदेशकोई विशेष जनजातियाँ निवास नहीं करती हैंहिमालय के तराई वाले क्षेत्रों में उत्तराखण्ड की ही जनजातियां निवास करती है।
राजस्थानमीणा, गरसिया, कालबेलियाकालबेलिया एक सपेरा जनजाती सुमादाय है।
मध्य प्रदेशकोल, भील, लम्बाड़ी, बैगा, सहरियाबैगा जनजाति पूरी तरह से प्रकृति पर निर्भर रहती है।
छत्तीसगढ़अगरिया, भारियाकुछ मात्रा में मध्य प्रदेश की जनजातियाँ भी यहां निवास करती हैं।
झारखण्डसंथाल, मुण्डा, गोंड, बिरहोर, हो1. स्वतंत्रता आंदोलन में बिरसा मुण्डा आंदोलन एक प्रमुख आंदोलन था।
2. मुण्ड़ा जनजाति का प्रमुख त्यौहार सरहुल, बसंत आगमन पर मनाया जाता है।
3. मुण्ड़ा जनजाति मृतकों की हड्डियाँ मिट्टी के बर्तन में रखी जाती है। इसे जंगटोपा अनुष्ठान कहा जाता है।
4. गोड़ जनजाति जंगलों को जलाकर, दहिया खेती करती है।
5. संथाल जनजाति की लेखन लिपी ओलाचिकी कही जाती है।
6. हो जनजाति के लोग वर्षा कराने हेतु आग जलाकर धुआँ करते हैं।
पश्चिम बंगालभूमिज, लेप्चा
महाराष्ट्रकोली, बंजारा
गुजरातकोली, बंजारा, मुरिया
आंध्र प्रदेशचेंचू, लंबाड़ा, बहुरूपिया, कोचा
तमिलनाडुटोड़ा, मन्नार इरूला1. टोड़ो जनजाति जोकि नीलगिरी की पहाड़ियों पर रहती है
2. टोड़ो जनजाति में कन्या वध की प्रथा के चलते, लिंग अनुपात में कमी आ गयी है। जिस कारण यहां बहुपति विवाह प्रचलित है।
केरलकोटा, नायर, कडार
ओड़िशाजुआंग, जटायु, उरांव
सिक्किमलेप्चा
मेघालयगारो, खासी, जयंतिया
असमबोड़ो, गारो, खासी, जयंतिया
अरूणाचल प्रदेशडफला, मिरी, अबोर, मिश्मी
नागालैण्डनागा, कोन्यकनागा जनजाति में विवाह समारोह में नर मुण्ड माला को पहनकर शौर्य का प्रदर्शन करा जाता है।
मणीपुरकूकी
त्रिपुरालुशाई, रियांग
दादर और नगर हवेलीढ़ोढिया

 

Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*