भारत में परमाणु ऊर्जा

भारत में परमाणु ऊर्जा

  • भारत में परमाणु ऊर्जा की कुल संस्थापित क्षमता 6780MW है। जोकि भारत की कुल संस्थापित क्षमता का 1.8% है।
  • भारत में सबसे नवीनतम परमाणु विद्युत संयंत्र तमिलनाडु के तिरूनेवेल्ली जिले में कुडनकुलम में रूस की सहायता से स्थापित किया गया है। यहां पर 1-1 हजार मेगावाट के 2 रिएक्टर स्थापित किए गए है।
  • डा0 होमी जहांगीर भाभा को भारत के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम का जनक माना जाता है। इनकी के प्रयासों से भारत में परमाणु ऊर्जा अनुसंधान केन्द्र की स्थापना 1948 में की गयी थी।
  • भारत में परमाणु विद्युत उत्पादन हेतु नीति निर्माण के कार्यों के लिए “परमाणु ऊर्जा आयोग” की स्थापना वर्ष 1948 में की गयी।
  • परमाणु ऊर्जा से विद्युत उत्पादन प्रारम्भ करने हेतु “परमाणु ऊर्जा विभाग” की स्थापना वर्ष 1954 में की गयी थी।
  • वर्ष 1954 में भाभा एटामिक रिसर्च सेंटर(BARC) की स्थापना मुम्बई के ट्राम्बे में की गयी। BARC की स्थापना परमाणु ऊर्जा पर अनुसंधान हेतु की गयी थी। यहीं पर भारत का पहला परमाणु अनुसंधान रिएक्टर “अपसरा” स्थापित किया गया था।
  • भारत में प्रथम परमाणु विद्युत संयंत्र की स्थापना USA की सहायता से वर्ष 1969 में महाराष्ट्र के तारापुर में की गयी थी।
  • परमाणु विद्युत गृहों के सुरक्षित संचालन एवं भारत सरकार की योजनाओं और कार्यक्रमों के अनुसरण में बिजली उत्पादन के लिए परमाणु ऊर्जा परियोजनाओं को लागू करना हेतु वर्ष 1987 में “न्यूक्लियर पावर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया”(NPCIL) की स्थापना की गयी।
  • भारत में कुल 8 परमाणु विद्युत गृह है। इन 8 विद्युत गृहों में 22 परमाणु रिएक्टर सक्रीय है।
  • भारत के आठों परमाणु विद्युत गृहों का संचालन “न्यूक्लियर पॉवर कॉर्पोरेशन ऑफ इंड़िया”(NPCIL) द्वारा किया जाता है। इनका विवरण निम्नवत है –
क्र0सं0परमाणु विद्युत गृह का नामजिला का नामराज्य का नामवर्षकिस राष्ट्र की सहायताकुल क्षमता
 1तारापुर पालघरमहाराष्ट्र1969USA 1400MW
 2रावतभाटाचितौड़गढ़राजस्थान1973कनाड़ा 1180MW
 3काकरपारासूरतगुजरात1993 440MW
 4जैतपुरारतनागिरीमहाराष्ट्र1972 9900MW
 5नरौराबुलंदशहरउत्तर प्रदेश1989 440MW
 6कलपक्कमकांचीपुरमतमिलनाडु1989स्वदेशी 440MW
 7कैगा उत्तर कन्नड़कर्नाटक2000फ्रांस 840MW
 8कुडानकुल तिरूनेवेल्लीतमिलनाडु2017रूस 2000MW

 

  • NPCIL की वैबसाइट(https://npcil.nic.in/) के अनुसार जैतपुरा परमाणु विद्युत गृह अभी कार्यरत नहीं है। अतः इस परमाणु विद्युत गृह की क्षमता को देश की कुल संस्थापित क्षमता में नहीं जोड़ा गया है।
Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

1 Comment

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*