भारत में पेट्रोलियम संसाधन

भारत में पेट्रोलियम संसाधन

भारत में पेट्रोलियम संसाधन :- भारत में पेट्रोलियम संसाधन भी पाए जाते हैं। पेट्रोलियम में 70% तेल एवं 30% प्राकृतिक गैस होती है। Petroleum Resources in India notes in Hindi for UPSC & PCS.

  • पेट्रोलियम टर्शियरी युग की अवसादी चट्टानों में पाया जाता है।
  • पेट्रोलियम, हाइड्रोकार्बन यौगिकों का मिश्रण है जिसमें 70% तेल एवं 30% प्राकृतिक गैस होती है।
  • भारत में पेट्रोलियम उत्पादन में प्रमुख योगदान अपतटीय क्षेत्रों का है। देश में अपतटीय क्षेत्रों का पेट्रोलियम उत्पादन में कुल योगदान 66% है।
  • 1867 में असम के माकूम नामक स्थान पर एसिया का प्रथम तेल का कुआँ खोदा गया। ये मात्र एक प्रयोग स्तर पर था।
  • 1889 में असम के ही डिग्बोई में पेट्रोलियम निष्कर्षण को उद्योग के स्तर पर शुरू किया गया था।
  • स्वतंत्रता के उपरान्त देश में पेट्रोलियम के सम्भावित भण्डारों की खोज करने के लिए ONGC (Oil & Natural Gas Corporation Ltd) की स्थापना 1956 में की गयी। इसी क्रम में 1959 में OIL (Oil India Ltd) की भी स्थापना की गयी।
  • देश में ONGC की सफलता को देखते हुए। अन्य देशों में तेल भण्डारों का पता लगाने के लिए OVL (ONGC Videsh Ltd) की स्थापना 1965 में की गयी। वर्तमान में OVL की कुल 17 देशों में 21 परियोजनाएँ चल रही हैं।

भारत में प्रमुख तेल क्षेत्र

भारत में कुल 4 प्रमुख तेल क्षेत्र है-

1. असम या ब्रह्मपुत्र घाटी तेल क्षेत्र

  • इसके अंतर्गत कुल 4 तेल क्षेत्र है।
  • डिग्बोई, नहरकाटिया, हुगरीजन मोरेन, सूरमा घाटी।

2. गुजरात तट तेल क्षेत्र

  • गुजरात में 5 तेल क्षेत्र हैं।
  • खम्भात, अंकलेश्वर, कल्लोल, सानन्द नदी घाटी, लुनेज क्षेत्र।

3. पश्चिमी अपतटीय तेल क्षेत्र

  • देश का सबसे समृद्ध तेल क्षेत्र।
  • इसके अंतर्गत 2 तेल क्षेत्र आते है। बसीन एवं मुम्बई हाई तेल क्षेत्र।
  • मुम्बई हाई की खोज 1976 में की गयी थी । देश के कुल तेल उत्पादन में से 60% यहीं होता है।

4. पूर्वी अपतटीय तेल क्षेत्र

  • देश का सबसे नवीन तेल क्षेत्र।
  • गोदावरी-कृष्णा नदी डेल्टा के मुहाने पर रावा अपतटीय क्षेत्र।

इसे भी पढ़ें –

Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*