भारत में प्राकृतिक गैस संसाधन

भारत में प्राकृतिक गैस संसाधन

  • प्राकृतिक गैस पेट्रोलियम भण्डारों के ऊपर उपस्थित होती है, तथा पेट्रोलियम निष्कर्षण के समय सबसे पहले यही प्राप्त होती है।
    प्राकृतिक गैस, द्रवित पेट्रोलियम गैस (LIQUEFIED PETROLEUM GAS / LPG) से अलग होती है। प्राकृतिक गैस पेट्रोलियम के प्राकृतिक भण्डारों से प्राप्त होती है जबकि द्रवित पेट्रोलियम गैस (LIQUEFIED PETROLEUM GAS / LPG) तेल रिफाइनरियों में तेल शोधन प्रक्रिया के उप-उत्पाद के रूप में प्राप्त की जाती है।

      • प्राकृतिक गैस का मुख्य तत्व मिथेन है जबकि द्रवित पेट्रोलियम गैस (LIQUEFIED PETROLEUM GAS / LPG) का मुख्य तत्व ब्यूटेन है।
  • प्राकृतिक गैस की खोज एवं उत्पादन ONGC (Oil and Natural Gas Corporation) तथा OIL (Oil India Ltd.) द्वारा किया जाता है परन्तु इसका वितरण और शोधन GAIL (Gas Authority of India Ltd.) द्वारा किया जाता है। GAIL की स्थापना वर्ष 1984 में की गयी थी।
  • भारत के पश्चिमी अपतटीय क्षेत्र में स्थित मुम्बई हाई तेल क्षेत्र से सबसे ज्यादा प्राकृतिक गैस प्राप्त होती है।
  • भारत में प्राकृतिक गैस की सर्वाधिक खपत विद्युत क्षेत्र में होती है तथा उसके बाद उर्वरक संयत्र दूसरे सबसे बड़े उपभोग कर्ता है। उत्तर प्रदेश में 2 गैस आधारित विद्युत संयंत्र है-

1. दादरी (गौतमबुद्ध नगर)
2. औरैया

  • देश में प्राकृतिक गैस का सबसे बड़ा भण्डार कृष्णा-गोदावरी घाटी में अनुमानित है। इस क्षेत्र को D6 ब्लाक नाम दिया गया है।
  • भारतीय पेट्रोलियम संस्थान देहरादून(उत्तराखण्ड) में स्थित है।
  • राजीव गाँधी पेट्रोलियम तकनीक संस्थान सिबसागर (असम) में स्थित है।
  • वर्तमान में केवल 40% पेट्रोलियम उत्पादों का परिवहन पाइपलाइन के द्वारा होता है। कच्चे पेट्रोलियम के परिवहन हेतु देश की पहली पाइपलाइन असम से बिहार तक है। जिसे नहार्काटिया-नूमामाटी-बरौनी के नाम से जाना जाता है।
  • देश की सबसे लम्बी गैस पाइपलाइन हाजिरा-विजयपुर-जगदीशपुर है। इसे HVJ पाइपलाइन के नाम से भी जाना जाता है। ये गुजरात से शुरू होकर मध्य प्रदेश होते हुए उत्तर प्रदेश तक जाती है। ये पाइनलाइन मुम्बई हाई से प्राप्त प्राकृतिक गैस के परिवहन हेतु प्रयोग की जाती है।

इसे भी पढ़ें –

Geography Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*