फ़ायरवॉल (Firewall) क्या होता है एवं फ़ायरवॉल के प्रकार

फ़ायरवॉल (Firewall) क्या होता है एवं फ़ायरवॉल के प्रकार

फ़ायरवॉल क्या होता है (What is a Firewall in hindi), फ़ायरवॉल के प्रकार (Type of Firewall in hindi), Firewall क्या होता है आदि प्रश्नों के उत्तर यहाँ दिए गए हैं।

फ़ायरवॉल क्या होता है ? (What is a Firewall in hindi)

फ़ायरवॉल (Firewall) एक तरह की सुरक्षा योजना है जो कंप्यूटर को सुरक्षित रखने में सहायक होता है। फ़ायरवॉल एक व्यवस्था है, जो सभी तरह के कम्प्यूटरों और उसके नेटवर्कों को हैकर्स, मैलवेयर और घुसपेठियों से हमारे द्वारा बनाया गए डाटा और पर्सनल डिटेल को सुरक्षित रखता है। फ़ायरवॉल दो प्रकार की होते है जो कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के रूप में या हार्डवेयर डिवाइस के रूप में रहता है। फ़ायरवॉल हमारे कंप्यूटर में आ रहे ट्रैफिक को कंप्यूटर के अंदर नहीं आने देता है और सुरक्षा प्रदान करता है। फ़ायरवॉल एक प्रकार से कंप्यूटर के बॉडीगार्ड के रूप में कार्य करता है।

फ़ायरवॉल के प्रकार (Type of Firewall in hindi)

फ़ायरवॉल दो प्रकार की होती हैं
1- हार्डवेयर फ़ायरवॉल
2- सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल

हार्डवेयर फ़ायरवॉल (Hardware Firewall) –

हार्डवेयर फ़ायरवॉल (Hardware Firewall) ज्यादातर सभी Routers में पहले से ही मौजूद रहता है। हार्डवेयर फ़ायरवॉल का काम एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक वायरस नहीं जाने देता है और यह कंप्यूटर में वायरस को फैलने नहीं देता है। यदि बहुत सारे कंप्यूटर एक साथ नेटवर्क से जुड़े हों तो फ़ायरवॉल इन सभी कम्प्यूटरों को वायरस और मैलवेयर से सुरक्षित रखता है। फ़ायरवॉल का दूसरा कार्य यह होता है की यदि किसी भी कंप्यूटर में गलती से वायरस आ गया हो तो वह उस कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक वायरस न पहुंचें इसका ध्यान रखता है।

सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल (Software Firewall) –

सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल (Software Firewall) नई पीढ़ी (New Generation) के विंडोज OP (ऑपरेटिंग सिस्टम) जैसे- विंडोस 7, 8, 10, Vista, XP आदि में पहले से ही इनबिल्ट हो कर रहता है और बॉय डिफ़ॉल्ट ऑन रहता है। सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल को हम अपनी मर्जी के हिसाब से कंप्यूटर में देख कर उसे सेट कर सकते है। यदि हम कोई गेम या प्रोग्राम को इनस्टॉल करते है और उसमे वायरस मौजूद हो तो फ़ायरवॉल उसे रोक लेता है और हमे निर्देश देता है की उसे अंदर भेजना है या नहीं हम चाहे तो उस प्रोग्राम को ले भी सकते है और नहीं भी यह फ़ायरवॉल इसी तरह कंप्यूटर में कार्य करता है हमारे पर्सनल डाटा को हैकर से सुरक्षित रखता है।

पढ़ें – कंप्यूटर वायरस क्या होता है ? कंप्यूटर में वायरस संक्रमण के कारण

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*