अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस

अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस

अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस : अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस (अंग्रेज़ी: International Museum Day) हर वर्ष ’18 मई’ को मनाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाने का मूल उद्देश्य जनसामान्य में संग्रहालयों के प्रति जागरूकता तथा उनके कार्यकलापों के बारे में जन जागृति फैलाना तथा लोगों को संग्रहालयों में जाने के लिए प्रेरित करना है ताकि लोग अपने इतिहास को अपनी प्राचीन समृद्ध परंपराओ को जाने और समझे।

अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस की शुरुआत कैसे हुई ?

18 मई 1983 को संयुक्त राष्ट्र (अंग्रेज़ी: United Nations) ने संग्रहालय (अंग्रेज़ी: Museum) की विशेषता एवं महत्व को समझते हुए अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाने का निर्णय लिया था।

अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाने का उद्देश्य क्या है ?

अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों को संग्रहालय जाने के लिए प्रेरित करना और जागरूकता फैलाना है ताकि हमें अपनी समृद्ध संस्कृति की जानकारी मिले जिसे संग्रहालय में संग्रहित किया गया है। संगृहालय में ऐसी विभिन्न कृतियाँ एवं वस्तुओं को संग्रहित कर सुरक्षित रखा जाता है जोकि मानव सभ्यता की याद दिलाता है, संगृहालय में रखी वस्तु मानवसमाज की समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर तथा प्रकृति को प्रदर्शित करती है। आधुनिक युग में ओझल होती सांस्कृतिक परम्परा को जानने का सबसे अच्छा श्रोत संग्रहालय ही हैं जहाँ पारम्परिक और सांस्कृतिक दुर्लभ वस्तुओं को संभालके रखा जाता है। संग्रहालयों में किताबें, पाण्डुलिपियाँ, रत्न, चित्र, शिलाचित्र और अन्य महत्वपूर्ण सांस्कृतिक धरोहरों को संभाल कर रखा जाता है।


अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय परिषद द्वारा वर्ष 1992 में यह निर्णय लिया कि वह प्रत्येक वर्ष एक नए विषय (अंग्रेज़ी: theme) का चयन करेंगे जिससे जन सामान्य को संग्राहालय विशेषज्ञों से मिलने के लिए प्रेरित किया जायेगा ताकि जन सामान्य भी संग्रहालयों की चुनौतियों से समझ सके।

अन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस की वर्षवार विषयवस्तु (Year wise Theme of International Museum Day in Hindi)

2018 – में अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का मुख्य विषय – हाइपरकनेक्टेड संग्रहालय: नए दृष्टिकोण, नए प्रकाशन (Hyperconnected museums: New approaches, new Public’s)

2017 – संग्रहालय और विवादास्पद इतिहास: संग्रहालय अकथनीय तथ्य बताते है

2016 – संग्रहालय और सांस्कृतिक परिदृश्य

2015 – एक सस्टेनेबल सोसाइटी के लिए संग्रहालय

2014 – संग्रहालय संग्रह संपर्क बनाते हैं

2013 – संग्रहालय (स्मृति + रचनात्मकता = सामाजिक परिवर्तन )

2012 – एक बदलती दुनिया में संग्रहालय नई चुनौतियां, नई प्रेरणा

2011 – संग्रहालय और स्मरण

2010 – सामाजिक सद्भाव के लिए संग्रहालय

200 9 – संग्रहालय और पर्यटन

2008 – सामाजिक परिवर्तन और विकास के एजेंट के रूप में संग्रहालय

2007 – संग्रहालय और सार्वभौमिक विरासत




2006 – संग्रहालय और युवा लोग

2005 – संग्रहालय और संस्कृतिए के बीच सेतु

2004 – संग्रहालय और अमूर्त विरासत ( अमूर्त सांस्कृतिक विरासत )

2003 – संग्रहालय और मित्र

2002 – संग्रहालय और वैश्वीकरण

2001 – संग्रहालय: इमारत समुदाय

2000 – समाज में शांति और सद्भाव के लिए संग्रहालय

1999 – खोज के सुख

1998-1997 – सांस्कृतिक संपत्ति के अवैध तस्करी के खिलाफ लड़ाई

1996 – आज कल के लिए एकत्रित करना

1995 – उत्तरदायित्व और उत्तरदायित्व

1994 – संग्रहालयों के दृश्यों के पीछे

1993 – संग्रहालय और स्वदेशी लोग

1992 – संग्रहालय और पर्यावरण

 

इसे भी जरूर पढ़ें — भारत में हुए प्रमुख युद्ध

You may also like :

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*