अंतरराष्ट्रीय संगठन की परिभाषा - अंतरराष्ट्रीय संगठन की लिस्ट

अंतरराष्ट्रीय संगठन की परिभाषा – अंतरराष्ट्रीय संगठन की लिस्ट

अंतरराष्ट्रीय संगठन की परिभाषा : अंतरराष्ट्रीय संगठन परिभाषा, अंतरराष्ट्रीय संगठन का निष्कर्ष, अंतरराष्ट्रीय संगठन का महत्व, अंतरराष्ट्रीय संगठन लिस्ट, अंतरराष्ट्रीय संगठन की लिस्ट (list of international organizations in hindi) आदि महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर यहाँ दिए गए हैं।

Table of Contents

अंतरराष्ट्रीय संगठन की परिभाषा (definition of international organization in hindi)

जिन संस्थाओं की सदस्यता, कार्यप्रणाली एवं उपस्थिति अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होती है उन संस्थाओं को अंतरराष्ट्रीय संगठन के नाम से जाना जाता है। अंतरराष्ट्रीय संगठन सभी लोकतांत्रिक देशों एवं राज्यों का संगठन है जिसके माध्यम से अंतरराष्ट्रीय शांति, सुरक्षा एवं सहयोग से संबंधित सभी कार्य किए जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय संगठन शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम स्कॉटलैंड के प्रमुख विधि वेत्ता जेम्स लोरिमर ने 18 मई वर्ष 1857 में एक भाषण के दौरान किया था। यह एक ऐसा संगठन होता है जिसमें विश्व में मौजूद सभी स्वतंत्र देशों की की भागीदारी को सुनिश्चित किया जाता है। कुछ इतिहासकारों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय संगठन की स्थापना कई राष्ट्रों की एकता को दर्शाता है जिससे उन सभी राष्ट्रों को कई प्रकार से लाभ मिलता है। अंतरराष्ट्रीय संगठन किसी देश की क्षेत्रीय संगठन की समस्याओं को दूर करने का कार्य बेहद प्रभावशाली तरीके से कर सकता है। यह संगठन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विवादों को सुलझाने का कार्य करके विश्व में शांति एवं सुरक्षा को स्थापित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

अंतरराष्ट्रीय संगठन मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं:-

  • अंतरराष्ट्रीय अशासकीय संगठन (International non-Governmental organizations (INGOs)
  • अंतरशासकीय संगठन (Inter-Governmental organizations)

अंतरराष्ट्रीय अशासकीय संगठन (International Non-Governmental Organizations (INGOs)

अंतरराष्ट्रीय अशासकीय संगठन या अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन वह संगठन होते हैं जो गैर सरकारी रूप से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भूमिका निभाते हैं। यह अधिकतर निजी संगठन होते हैं जिनकी भागीदारी से नागरिकों में लोकतंत्र की भावना का विकास होता है। यह समाज में परामर्श देने, जागरूकता फैलाने, सेवा करने, प्रशिक्षण करने, समाज का एकीकरण करने आदि के कार्यों में सहयोग करते हैं। अंतरराष्ट्रीय अशासकीय संगठन वह गैर सरकारी संस्थाएं होती हैं जिन्हें एनजीओ (NGO) के नाम से भी जाना जाता है। इन संगठनों के माध्यम से जनता एवं सरकार के बीच गैर राजनीतिक जुड़ाव प्रभावशाली रूप से होता है।

अंतर शासकीय संगठन (Inter-Governmental Organizations)

अंतर शासकीय संगठन के अंतर्गत दो या दो से अधिक लोकतांत्रिक देश शामिल होते हैं जो किसी राष्ट्रीय मामलों पर आपसी सहयोग से निर्णय लेते हैं। अंतर शासकीय संगठन का संबंध सीधे तौर पर अंतरराष्ट्रीय संगठन से होता है। आमतौर पर इस प्रकार के संगठन का निर्माण संप्रभु राज्यों से संधि करके किया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय संगठन का उद्देश्य

अंतरराष्ट्रीय संगठन का मुख्य उद्देश्य सभी देशों की समस्याओं को दूर करना एवं युद्ध की रोकथाम करके विश्व में शांति व्यवस्था को स्थापित करना होता है। युद्ध की रोकथाम करके विश्व में सुरक्षा की स्थापना का श्रेय भी अंतर्राष्ट्रीय संगठन को ही जाता है। राष्ट्र-संघ (League of Nations) की संविदा (Covenant) के अनुसार राष्ट्रीय संगठन का उद्देश्य सभी देशों में अंतरराष्ट्रीय संबंध की स्थापना करके युद्ध की संभावनाओं को कम करना होता है। इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय संगठन राष्ट्रों के मध्य सहयोग को भी प्रोत्साहन देने का कार्य करता है। वर्तमान समय में संयुक्त राष्ट्र संघ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था की रक्षा करता है जिससे सभी राष्ट्रों के मध्य संबंध स्थापित होता है।

इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय संगठन को कुछ अन्य कारणों से भी स्थापित किया गया है जो कुछ इस प्रकार हैं:-

  • मानवाधिकारों की रक्षा करने हेतु
  • किसी राष्ट्र का सामाजिक एवं आर्थिक विकास करने हेतु
  • महामारी से बचाव करने हेतु
  • जीवन स्तर में सुधार करने हेतु
  • अंतरराष्ट्रीय कानून को प्रबल बनाने हेतु
  • वैश्विक स्तर पर युद्ध की रोकथाम हेतु
  • विभिन्न देशों को आर्थिक मदद करने हेतु
  • दो देशों के बीच शत्रुता को कम करने हेतु

अंतरराष्ट्रीय संगठन ने दुनिया भर में अलग-अलग समय पर मानव जीवन की सेवा करके एक आदर्श प्रस्तुत किया है जिसके कारण इस संगठन की महत्ता में वृद्धि हुई है। 20 वीं शताब्दी में अंतरराष्ट्रीय संगठन ने मानव जीवन को कई प्रकार से प्रभावित किया है। यह संगठन मानव इतिहास में अत्यंत महत्वपूर्ण मानी जाती है।

अंतरराष्ट्रीय संगठन का महत्व

विश्व भर में सभी देशों की समस्याओं को शांतिपूर्ण ढंग से समाधान करने हेतु अंतरराष्ट्रीय संगठन बेहद जरूरी है। वर्तमान समय में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का पूरे विश्व में विस्तार करने में अंतरराष्ट्रीय संगठनों की एक मुख्य भूमिका होती है। अंतरराष्ट्रीय संगठन एक देश का धार्मिक, सांस्कृतिक, आर्थिक, स्वास्थ्य, खेलकूद, राजनीति आदि क्षेत्रों से संबंधित विकास करने का कार्य करती है। इसके अलावा यह संगठन विश्व में लगभग सभी देशों को स्वतंत्रता भी प्राप्त कराती है जिससे कमजोर देशों को लाभ मिलता है। अंतरराष्ट्रीय संगठन एक राष्ट्र की सभी समस्याओं को अंतरराष्ट्रीय रूप से प्रदर्शित करने का कार्य करती है। केवल इतना ही नहीं अंतर्राष्ट्रीय संगठनों का यह भी दायित्व होता है कि वह एक राष्ट्र में शिक्षा पद्धति, स्वास्थ्य सेवाएं, व्यापार आदि कार्यों में पूर्ण सहयोग करें।

अंतराष्ट्रीय संगठन का निष्कर्ष

अंतरराष्ट्रीय संगठन ने विश्व के विभिन्न देशों को कई प्रकार से प्रभावित किया है। यह राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय विवादों को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने का प्रयास करती है जिससे विश्व में शांति व्यवस्था बनी रहती है। यह अंतरराष्ट्रीय सहयोग को बढ़ावा देकर विश्व में राजनीतिक एवं आर्थिक विकास करने का कार्य करती है। वर्तमान समय में अंतरराष्ट्रीय संगठन विश्व स्तर पर व्यापक सुरक्षा, सामाजिक कार्यों, आर्थिक कार्य आदि के लिए उत्तरदायी होते हैं।

अंतरराष्ट्रीय संगठन की लिस्ट (list of International Organizations in Hindi)

अंतरराष्ट्रीय संगठन की सूची कुछ इस प्रकार है:-

  • संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO- United Nations Organisation)

संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना वर्ष 1945 में की गई थी। इसका निर्माण अंतरराष्ट्रीय कानून व्यवस्था को सुविधाजनक बनाने, मानव अधिकारों की रक्षा करने, अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा करने, सामाजिक व आर्थिक विकास करने एवं विश्व में शांति के स्तर को बनाए रखने हेतु किया गया था। संयुक्त राष्ट्र संघ का मुख्यालय न्यूयॉर्क में स्थित है। वर्तमान समय में संयुक्त राष्ट्र में शामिल सदस्य राष्ट्रों की संख्या 193 है।

  • संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF- United Nations International Children’s Emergency Fund)

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष की स्थापना 11 दिसंबर वर्ष 1946 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के द्वारा की गई थी। इसे बनाए जाने का मुख्य उद्देश्य द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान बर्बाद हुए देशों में बच्चों एवं महिलाओं को आपातकालीन स्थिति में स्वास्थ्य सेवा सामग्री एवं भोजन को उपलब्ध कराना था। संयुक्त राष्ट्र बाल कोष को मुख्य रूप से बच्चों एवं महिलाओं की आवश्यकताओं को पूरा करने हेतु बनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र बाल कोष में 190 देशों की सदस्यता को सुनिश्चित किया गया है।

  • यूनेस्को (UNESCO- United Nations Education, Scientific and Cultural Organization)

यूनेस्को मुख्य रूप से संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी मानी जाती है जो वैश्विक स्तर पर विज्ञान, संस्कृति एवं शिक्षा के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सहयोग के माध्यम से सुधार करने का कार्य करती है। यूनेस्को का मुख्यालय पेरिस में स्थित है। इसमें 193 सदस्य देश शामिल हैं। यूनेस्को वह अंतरराष्ट्रीय संस्था है जो शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करने का कार्य करती है।

  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF- International Monetary Fund)

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष वह संस्था है जो वैश्विक स्तर पर वित्तीय स्थिरता को सुनिश्चित करने का कार्य करती है। IMF की स्थापना जुलाई वर्ष 1944 में संयुक्त राष्ट्र के ब्रेटन वुड्स सम्मेलन के पश्चात की गई थी। इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय व्यापार एवं आर्थिक विकास को प्रोत्साहन देना होता है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष वैश्विक स्तर पर गरीबी को कम करने का प्रयास करती है। इसमें 189 सदस्य देश शामिल हैं।

  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC- United Nations Security Council)

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थापना वर्ष 1945 में की गई थी। इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखना होता है। सुरक्षा परिषद में 15 सदस्य देशों की उपस्थिति है। UNSC का मुख्यालय न्यूयॉर्क में स्थित है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद मुख्य रूप से मानव की सुरक्षा एवं शांति के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य करता है।

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO- World Health Organization)

विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना वर्ष 1948 में हुई थी जिसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य करना होता है। वर्तमान समय में विश्व स्वास्थ्य संगठन में 194 सदस्य देश शामिल हैं। WHO का मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा नामक शहर में स्थित है। यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वास्थ्य संबंधी निर्देशों को जारी करके स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूती प्रदान करने का कार्य करता है।

  • संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP- United Nations Development Programme)

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की स्थापना वर्ष 1965 में हुई थी। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र संघ का वैश्विक स्तर पर विकास कार्यक्रमों को आयोजित करना होता है। यह विकास कार्यक्रम के माध्यम से विश्व में गरीबी को कम करने हेतु एक आधारभूत ढांचे की स्थापना करता है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम में 177 सदस्य देश शामिल है एवं इसका मुख्यालय न्यूयॉर्क में स्थित है।

  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF- International Monetary Fund)

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की स्थापना जुलाई वर्ष 1944 में की गई थी। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) का मुख्य उद्देश वैश्विक स्तर पर मौद्रिक सहयोग को बढ़ावा देना होता है। यह वित्तीय स्थिरता को सुनिश्चित करने का कार्य करता है जिससे गरीबी को वैश्विक स्तर पर कम करने में सहायता होती है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में 190 सदस्य देश शामिल हैं। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष अन्य देशों के साथ मिलकर आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने का कार्य करता है।

  • खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO- Food and Agricultural Organization)

खाद्य एवं कृषि संगठन की स्थापना वर्ष 1945 में की गई थी, जिसका मुख्यालय रोम (इटली) में स्थित है। खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) का मुख्य उद्देश वैश्विक स्तर पर खाद्य पदार्थों के उत्पादन में वृद्धि करना होता है जिससे गरीबी एवं कुपोषण की समस्या को दूर किया जा सके। खाद्य एवं कृषि संगठन सभी राष्ट्रों की पोषण स्थिति में सुधार करने का प्रयास करता है। इसमें 194 सदस्य देश शामिल हैं।

  • अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (IFC- International Finance Corporation)

अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम की स्थापना 20 जुलाई वर्ष 1956 को वाशिंगटन में एक समझौते के माध्यम से की गई थी। यह बहुपक्षीय विकास बैंक एवं निजी वित्तीय संस्थान, दोनों ही रूप में कार्य कर सकता है। यह मुख्य रूप से वित्त कंपनियों को वित्तीय एवं तकनीकी सहायता प्रदान करने का कार्य करता है। अंतरराष्ट्रीय वित्त निगम के माध्यम से विकास कार्यों में निजी निवेश के प्रवाह के लिए प्रेरक दशाओं को प्रोत्साहित किया जाता है। इसमें 184 सदस्य देश शामिल है।

  • विश्व बैंक (WB- WORLD BANK)

विश्व बैंक की स्थापना वर्ष 1945 में हुई थी जिसका मुख्यालय अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन में स्थित है। यह संयुक्त राष्ट्र से जुड़ी एक विशेष संस्था है जिसे कई संस्थाओं के समूह के नाम से भी जाना जाता है। वर्तमान समय में विश्व बैंक के 189 देश सदस्य हैं। विश्व बैंक का मुख्य उद्देश्य सदस्य राष्ट्रों का पुनर्निर्माण करना एवं विकास कार्यों में आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करना होता है।

  • अंतरराष्ट्रीय विकास संघ (IDA- International Development Association)

राष्ट्रीय विकास संघ की स्थापना 24 सितंबर वर्ष 1960 में की गई थी। अंतरराष्ट्रीय विकास संघ (IDA) का मुख्यालय वॉशिंगटन डीसी में स्थित है। अंतरराष्ट्रीय विकास संघ का उद्देश्य अल्प विकसित देशों को वित्तीय एवं आर्थिक विकास कार्यों में सहायता प्रदान करना होता है। इसमें 173 सदस्य देश शामिल हैं।

  • यूरोपियन यूनियन (EU- The European Union)

यूरोपियन यूनियन की स्थापना वर्ष 1993 में की गई थी। यूरोपियन यूनियन (EU) का मुख्यालय बेल्जियम के ब्रुसेल्स नामक शहर में स्थित है। इसका मुख्य उद्देश्य सदस्य देशों को स्वतंत्रता, सुरक्षा एवं न्याय प्रदान करना होता है। यह वैश्विक स्तर पर देशों का विकास करने एवं आर्थिक स्थिति को संतुलित करने का कार्य भी करता है। यूरोपियन यूनियन में 27 सदस्य देश शामिल है।

  • उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन नाटो (NATO- North Atlantic Treaty Organization)

उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन की स्थापना 4 अप्रैल वर्ष 1949 में की गई थी। उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन नाटो (NATO) एक अंतर सरकारी संधि संगठन है जिसका मुख्यालय बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स में स्थित है। नाटो मुख्य रूप से सामूहिक रक्षा के सिद्धांतों पर कार्य करता है। इसके अंतर्गत एक सदस्य देश पर आक्रमण करना सभी सदस्य देशों पर आक्रमण करने के बराबर माना जाता है। इसका उद्देश्य सभी सदस्य देशों के मध्य एकता एवं सामंजस्य की भावना को उत्पन्न करना होता है। वर्तमान समय में नाटो में 30 सदस्य देश शामिल है।

  • अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO- International Labour Organization)

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन की स्थापना वर्ष 1919 में वर्साय की संधि के माध्यम से की गई थी। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानव अधिकारों की रक्षा करना एवं श्रम अधिकारों को बढ़ावा देना होता है। यह संयुक्त राष्ट्र की एक त्रिपक्षीय संस्था है जो श्रम मानकों को निर्धारित करके एक सभ्य समाज का निर्माण करता है। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन में 185 सदस्य देश शामिल है।

  • विश्व व्यापार संगठन (WTO- World Trade Organization)

विश्व व्यापार संगठन (WTO) की स्थापना वर्ष 1995 में की गई थी जिसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा नामक शहर में स्थित है। यह एकमात्र ऐसा अंतरराष्ट्रीय संगठन है जो सभी देशों के बीच व्यापार नियमों को स्थापित करता है। यह एक ऐसा संगठन है जो वैश्विक स्तर पर आर्थिक विकास एवं रोजगार के अवसरों को प्रोत्साहित करने का कार्य करता है। विश्व व्यापार संगठन में 164 सदस्य देश शामिल है।

  • विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (WIPO- World Intellectual Property Organization)

वैश्विक बौद्धिक संपदा संगठन की स्थापना वर्ष 1967 में की गई थी जिसका मुख्यालय जिनेवा, स्वीटजरलैंड में स्थित है। यह संयुक्त राष्ट्र की सबसे प्राचीनतम संस्थाओं में से एक है। वर्तमान समय में विश्व बौद्धिक संपदा संगठन में 193 सदस्य देश शामिल है। इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय बौद्धिक संपदा नियमों का निर्माण करना होता है। यह विभिन्न देशों में विवादों को कम करने हेतु वैश्विक सेवाएं भी प्रदान करती हैं।

  • रेड क्रॉस (RED CROSS)

रेड क्रॉस की स्थापना वर्ष 1863 में की गई थी जिसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा नामक शहर में स्थित है। रेड क्रॉस का उद्देश्य मानव के जीवन का संरक्षण करना होता है। यह विश्व भर में मानव की रक्षा के साथ-साथ स्वास्थ्य की रक्षा के लिए भी जाना जाता है। रेड क्रॉस में 150 सदस्य देश शामिल है।

  • विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP- World Food Programme)

विश्व खाद्य कार्यक्रम की स्थापना वर्ष 1961 में संयुक्त राष्ट्र महासभा व खाद्य एवं कृषि संगठन के माध्यम से की गई थी। विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) का मुख्यालय इटली के रोम नामक शहर में स्थित है। इसका मुख्य उद्देश्य आपातकालीन स्थिति में प्रभावी देशों को सहायता प्रदान करना होता है। इसके अलावा यह विभिन्न देशों के विकास कार्यों में भी सहायता प्रदान करता है। विश्व खाद्य कार्यक्रम में 88 से अधिक सदस्य देश शामिल है।

  • अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संगठन (ITU- International Telecommunication Union)

अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संगठन की स्थापना 17 मई वर्ष 1865 में पेरिस में की गई थी। अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संगठन (ITU) विश्व में सुचारू सेवा के साथ-साथ दूरसंचार की सेवाओं को भी न्यूनतम दरों में प्रदान करने का प्रयास करता है। अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संगठन संचार एवं दूरसंचार के अंतरराष्ट्रीय मानकों का निर्माण एवं निर्वहन करती है। इसमें 193 सदस्य देश शामिल है।

  • विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO- World Meteorological Organization)

विश्व मौसम विज्ञान संगठन एक अंतर सरकारी संगठन है जिसकी स्थापना 23 मार्च वर्ष 1950 में की गई थी। विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) विश्व भर के विभिन्न देशों को मौसम विज्ञान की जानकारी देने का कार्य करती है। इसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा नामक शहर में स्थित है। विश्व मौसम विज्ञान संगठन में 192 सदस्य देश शामिल है।

  • अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (ISO- International Organization For Standardization)

अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन की स्थापना 23 फरवरी वर्ष 1947 में की गई थी। अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (ISO) एक गैर सरकारी संगठन है जो स्वतंत्र रूप से उत्पादों, सेवाओं, सुरक्षा नीतियों एवं दक्षता को सुनिश्चित करने का कार्य करता है। इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विट्जरलैंड में स्थित है एवं इसमें 195 सदस्य देश शामिल है।

  • संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग (UNHCR- United Nations High Commissioner For Refugees)

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग की स्थापना 14 दिसंबर वर्ष 1950 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के द्वारा की गई थी। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग (UNHCR) का उद्देश्य विश्व भर में शरणार्थियों का संरक्षण करना होता है। यह शरणार्थियों की सभी समस्याओं का समाधान करने हेतु अंतरराष्ट्रीय रूप से कार्यवाही कर सकता है। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग मूल रूप से शरणार्थियों के अधिकारों की रक्षा करता है। इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विट्जरलैंड में स्थित है एवं इसमें 135 सदस्य देश शामिल हैं।

  • पेट्रोलियम उत्पादक देशों का संगठन (OPEC- Organization of the Petroleum Exporting Countries)

पेट्रोलियम उत्पादक देशों का संगठन मुख्य रूप से उन देशों का संगठन है जो भारी मात्रा में तेल का निर्यात करते हैं। पेट्रोलियम उत्पादक देशों का संगठन (OPEC) का मुख्यालय ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना में स्थित है। यह विश्व के विभिन्न देशों को तेल पहुंचाने का कार्य करते हैं जिससे देश-विदेश में तेल की कमी की पूर्ति होती है। पेट्रोलियम उत्पादक देश 13 सदस्य राज्य की उपस्थिति है।

  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC- United Nations Human Rights Council)

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की स्थापना वर्ष 2006 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के द्वारा की गई थी। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) मुख्य रूप से मानव अधिकार परिषद के सचिवालय के रूप में कार्य करता है। इसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा नामक शहर में स्थित है जिसमें 47 सदस्य राज्य शामिल है।

  • व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि (CTBT- Comprehensive Nuclear Test-Ban-Treaty)

व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि को वर्ष 1996 में संपन्न किया गया था। इसका मुख्यालय ऑस्ट्रिया के वियना नामक शहर में स्थित है। यह वैश्विक स्तर पर परमाणु विस्फोटों के संदर्भ में निगरानी करने का कार्य करता है इसके अलावा इस संधि में परमाणु परीक्षण को पूर्णतः प्रतिबंधित करके परमाणु शक्ति के प्रसार की रोकथाम करने की व्यवस्था की गई है। व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि में 183 देशों ने हस्ताक्षर किए हैं।

  • अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA- The International Atomic Energy Agency)

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी की स्थापना वर्ष 1957 में की गई थी। अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) मुख्य रूप से वैश्विक स्तर पर परमाणु ऊर्जा का प्रसार करने पर प्रतिबंध लगाने का कार्य करती है। इसमें 12 सदस्य देश शामिल है।

  • संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (UNIDO- United Nations Industrial Development Organization)

संयुक्त राष्ट्र उद्योग विकास संगठन की स्थापना वर्ष 1966 में की गई थी जिसका मुख्यालय वियना, ऑस्ट्रिया में स्थित है। इसका उद्देश्य औद्योगिक क्षेत्र में तकनीक की सहायता से उत्पादन की मात्रा को बढ़ावा देना होता है जिससे देश-विदेश में रोजगार के नए अवसरों को बढ़ावा मिलता है। इसमें 130 सदस्य देश शामिल है।

  • अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (IMO- International Maritime Organization)

अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष संस्था मानी जाती है जिसकी स्थापना वर्ष 1948 में की गई थी। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (IMO) अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समुद्री मार्ग से उत्पादों को निर्यात एवं आयात करने की प्रक्रिया में सुधार करने का कार्य करती है। इसके अलावा अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन अंतरराष्ट्रीय व्यापार की सुरक्षा में सुधार करने हेतु भी उत्तरदायी होती है। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन कुल 174 सदस्य देशों की उपस्थिति होती है।

  • राष्ट्रमंडल (COMMONWEALTH)

राष्ट्रमंडल की स्थापना वर्ष 1949 लंदन घोषणा पत्र के माध्यम से की गई थी। राष्ट्रमंडल (COMMONWEALTH) एक ऐसा संगठन होता है जो मुख्य रूप से सदस्य राज्यों के मध्य एक गैर सरकारी संबंधों की स्थापना करता है। राष्ट्रमंडल में 56 सदस्य देश शामिल है।

  • अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी (Amnesty International)

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी एक गैर सरकारी संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 1961 में की गई थी। अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी (Amnesty International) का उद्देश्य उन सभी कैदियों को आजाद कराने का होता है जिन्हें धार्मिक एवं राजनीतिक कारणों हेतु कैद किया गया होता है। अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन में 150 से अधिक सदस्य देश शामिल हैं।

  • एशियाई विकास बैंक (ADB- Asian Development Bank)

एशियाई विकास बैंक की स्थापना 19 दिसंबर वर्ष 1966 में की गई थी। एशियाई विकास बैंक (ADB) का उद्देश्य एशियाई देशों को आर्थिक रूप से लाभ पहुंचाना होता है। एशियाई विकास बैंक का मुख्यालय फिलीपींस के मनीला नामक शहर में स्थित है। इसमें 68 सदस्य देश शामिल है।

  • आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन (OECD- Organization for Economic Co-operation and Development)

आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन की स्थापना वर्ष 1961 में की गई थी जिसका मुख्यालय पेरिस में स्थित है। आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन (OECD) एक अंतर सरकारी आर्थिक संगठन है जिसको आर्थिक प्रगति एवं विश्व व्यापार को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से संगठित किया गया था। आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन में 36 सदस्य देश शामिल है।

  • इंटरपोल (INTERPOL- International Criminal Police Organization)

इंटरपोल को अंतरराष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन के नाम से भी जाना जाता है। इंटरपोल (INTERPOL) की स्थापना वर्ष 1923 में हुई थी। यह विश्व भर में पुलिस प्रशासन का सहयोग करने का कार्य करती है जिससे अपराध के नियंत्रण में सुविधा होती है। इसका मुख्यालय फ्रांस के लियोन नामक शहर में स्थित है। इंटरपोल में 194 सदस्य देशों की उपस्थिति होती है।

  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP- United Nations Environment Programme)

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की स्थापना जून, 1972 में संयुक्त राष्ट्र मानव पर्यावरण सम्मेलन के पश्चात की गई थी। इसका मुख्यालय नैरोबी में स्थित है एवं इसमें 175 सदस्य देश शामिल है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम का उद्देश्य वैश्विक स्तर पर पर्यावरण संबंधित सभी गतिविधियों को नियंत्रित करना होता है।

  • अफ्रीकी संघ (AU- African Union)

अफ्रीकी संघ को अफ्रीकी एकता संगठन के नाम से भी जाना जाता है जिसकी स्थापना वर्ष 1963 में अफ्रीका के लोकतांत्रिक राज्यों के माध्यम से की गई थी। अफ्रीकी संघ का उद्देश्य अफ्रीकी राज्यों के मध्य सहयोग को बढ़ावा देना होता है। इसमें कुल 55 सदस्य देश शामिल है।

  • दक्षिण पूर्व एशियाई राष्ट्र संघ (ASEAN- Association of SouthEast Asian Nations)

दक्षिण पूर्व एशियाई राष्ट्र संघ की स्थापना वर्ष 1967 में संस्थापक राष्ट्र के द्वारा की गई थी। दक्षिण पूर्व एशियाई राष्ट्र संघ (ASEAN), दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में शांतिपूर्ण तरीके से सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक विकास में वृद्धि करने का कार्य करता है। इसके अलावा यह न्याय एवं कानून व्यवस्था के सिद्धांतों का पालन करके राज्य में शांति व्यवस्था को बनाए रखने का कार्य भी करता है। इसका मुख्यालय इंडोनेशिया के जकार्ता नामक शहर में स्थित है एवं इसमें 10 सदस्य देश शामिल है।

  • गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM- Non Aligned Movement)

गुटनिरपेक्ष आंदोलन की स्थापना वर्ष 1961 में की गई थी जिसका मुख्यालय जकार्ता, इंडोनेशिया में स्थित है। इसमें 120 सदस्य देश शामिल है। गुटनिरपेक्ष आंदोलन का उद्देश्य साम्राज्यवाद एवं उपनिवेशवाद का विरोध करना होता है। यह मुख्य रूप से शीत युद्ध की राजनीति को त्याग करके स्वतंत्र अंतरराष्ट्रीय राजनीति का पालन करता है। इसके अलावा गुटनिरपेक्ष आंदोलन रंगभेद की नीति के विरुद्ध कार्य करके मानवाधिकारों की सुरक्षा भी करता है।

  • एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (APEC- Asia- Pacific Economic Co-operation)

एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग एक ऐसा संगठन है जो वैश्विक स्तर पर स्वतंत्र रूप से व्यापार की नीतियों को व्यवस्थित करने का कार्य करता है। इसकी स्थापना वर्ष 1989 में की गई थी। इसमें मुख्य रूप से 12 सदस्य देश शामिल है। यह क्षेत्रीय आर्थिक सहयोग के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

  • G7 (The Group of Seven)

G7 एक अंतर सरकारी संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 1975 में की गई थी। G7 सामूहिक रूप से कमजोर अर्थव्यवस्था वाले देशों को सहायता प्रदान करने का कार्य करते हैं। G7 वास्तव में सात बड़े विकसित एवं उन्नत अर्थव्यवस्था वाले देशों का समूह है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकारों की सुरक्षा, लोकतंत्र एवं कानून व्यवस्था का निर्माण करने का कार्य करते हैं।

  • G20 (The Group Of 20)

G20 यूरोपीय संघ एवं अन्य देशों का एक समूह है जिसकी स्थापना वर्ष 1999 में की गई थी। G20 के अंतर्गत आने वाले देश वैश्विक वित्तीय संकट, आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन, मादक पदार्थों की तस्करी आदि कार्यों की रोकथाम करके वैश्विक सहयोग को बढ़ाने का प्रयास करते हैं।

  • क्षेत्रीय सहयोग हेतु दक्षिण एशियाई संघ (SAARC- South Asian Association for Regional Cooperation)

क्षेत्रीय सहयोग हेतु दक्षिण एशियाई संघ की स्थापना 8 दिसंबर वर्ष 1985 में की गई थी। क्षेत्रीय सहयोग हेतु दक्षिण एशियाई संघ (SAARC) का मुख्यालय नेपाल के काठमांडू में स्थित है। यह दक्षिण एशिया के नागरिकों के कल्याण कार्यों को बढ़ावा देने के साथ साथ उनके जीवन स्तर में सुधार करने का भी प्रयास करते हैं। इसके अलावा यह संगठन सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक, विज्ञान आदि क्षेत्रों में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसमें मुख्य रूप से 8 सदस्य देश शामिल है।

  • शंघाई सहयोग संगठन (SCO- The Shanghai Cooperation Organization)

शंघाई सहयोग संगठन एक अंतर-सरकारी संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 2001 में की गई थी। यह विशेष रूप से शिक्षा, परिवहन, पर्यटन, पर्यावरण संरक्षण आदि क्षेत्रों में संबंध को स्थापित करने का कार्य करता है। इसके अलावा यह लोकतांत्रिक, अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिक एवं आर्थिक व्यवस्था की भी स्थापना करता है। वर्तमान समय में शंघाई सहयोग संगठन में 9 सदस्य देश शामिल है।

  • दक्षिण-दक्षिण सहयोग और विनिमय (IBSA-India, Brazil & South Africa)

दक्षिण- दक्षिण सहयोग और विनियोग की स्थापना वर्ष 2004 में की गई थी। दक्षिण-दक्षिण सहयोग और विनिमय (IBSA) एक विशेष कोष है जिसके द्वारा विकासशील देशों में वित्त पोषण करने के साथ-साथ विकास परियोजनाओं को भी स्थापित किया जाता है। वर्तमान समय में इसका कोई भी मुख्यालय या सचिवालय मौजूद नहीं है।

  • ब्रिक्स (BRICS- Brazil- Russia- India- China- South Africa)

ब्रिक्स की स्थापना वर्ष 2009 में की गई थी। ब्रिक्स शब्द का विश्व की अर्थव्यवस्थाओं का वर्णन करने हेतु उपयोग किया जाता है। ब्रिक्स ब्राजील, रूस, भारत, चीन एवं दक्षिण अफ्रीका के समूह हेतु एक संक्षिप्त शब्द है।

  • न्यू डेवलपमेंट बैंक (NDB- New Development Bank)

न्यू डेवलपमेंट बैंक, ब्रिक्स देशों के द्वारा संचालित किया जाने वाला एक बहुपक्षीय विकास बैंक है जिसकी स्थापना वर्ष 2014 में की गई थी। इसका निर्माण ब्रिक्स सदस्य देशों का विश्व स्तर पर विकास करने हेतु किया गया है। न्यू डेवलपमेंट बैंक का मुख्यालय चीन के शंघाई नामक शहर में स्थित है।

  • चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता (QUAD- Quadrilateral Security Dialogue)

चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता यह संवाद एक मंच है जहां भारत, अमेरिका, जापान एवं ऑस्ट्रेलिया के मध्य अनौपचारिक रणनीतिक विचार विमर्श किया जाता है। इसकी स्थापना वर्ष 2017 में की गई थी। चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता में मुख्य रूप से 4 सदस्य देश शामिल है।

  • बिम्सटेक (BIMSTEC- Bay of Bengal Initiative for Multi-Sectoral Technical and Economic Cooperation)

बिम्सटेक एक क्षेत्रीय बहुपक्षीय संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 1997 में की गई थी। बिम्सटेक (BIMSTEC) का उद्देश्य सदस्य देशों के बीच सहयोग एवं समानता की भावना को विकसित करना होता है। यह देश के विभिन्न क्षेत्रों में आर्थिक विकास करने हेतु कई सार्थक प्रयास करते हैं। इसके अलावा यह विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं शिक्षा के क्षेत्र में भी एक दूसरे का पूर्ण सहयोग करते हैं।

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*