अशोक मेहता समिति का गठन (अशोक मेहता समिति का गठन कब हुआ)

अशोक मेहता समिति का गठन (अशोक मेहता समिति का गठन कब हुआ)

अशोक मेहता समिति का गठन (अशोक मेहता समिति का गठन कब हुआ), अशोक मेहता समिति किससे संबंधित है, अशोक मेहता समिति की सिफारिशें 1977, अशोक मेहता समिति 12 दिसंबर 1977 का संबंध किस व्यवस्था से है, अशोक मेहता समिति कितने स्तरीय थी आदि महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर यहाँ दिए गए हैं। ashok mehta committee upsc in hindi, ashok mehta committee related to
ashok mehta committee was formed in details in hindi.

अशोक मेहता समिति का गठन (अशोक मेहता समिति का गठन कब हुआ)

अशोक मेहता समिति का गठन दिसंबर, वर्ष 1977 में अशोक मेहता की अध्यक्षता में किया गया था। अशोक मेहता समिति का गठन मुख्य रूप से पंचायती राज व्यवस्था को मजबूती प्रदान करने एवं उसकी कमियों को दूर करने हेतु किया गया था। बलवंत राय मेहता समिति की तरह ही अशोक मेहता समिति ने भी सत्ता का विकेंद्रीकरण करने का प्रयास किया था। अशोक मेहता समिति का मानना था कि सत्ता का विकेंद्रीकरण करने से भारत के लोकतंत्र को मजबूती मिलती है। अशोक मेहता समिति का निर्माण जनता पार्टी सरकार द्वारा किया गया था। जनता पार्टी सरकार ने इस समिति का गठन पंचायती राज व्यवस्था को मजबूत करने हेतु किया था। इसके अलावा अशोक मेहता समिति का गठन बलवंत राय मेहता समिति की कमियों को दूर करने के लिए भी किया गया था। दरअसल बलवंत राय मेहता समिति की सिफारिशों के आधार पर पंचायती राज व्यवस्था में कुछ त्रुटियां उत्पन्न हो गई थीं जिसके कारण अशोक मेहता समिति का गठन किया गया था।

अशोक मेहता कौन थे

अशोक मेहता का जन्म 24 अक्टूबर वर्ष 1911 में गुजरात के भावनगर जिले में हुआ था। वे भारत के प्रसिद्ध सांसद, समाजवादी नेता एवं विचारक थे जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। भारत की स्वतंत्रता के बाद अशोक मेहता के नेतृत्व में ‘प्रजा सोशलिस्ट पार्टी’ की स्थापना की गई थी। अशोक मेहता ने अपने जीवन काल में सामाजिक हित के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य किए थे। इन्होंने अपनी शिक्षा महाराष्ट्र के ‘विल्सन कॉलेज’ नामक विश्वविद्यालय से पूरी की थी। अशोक मेहता ने भारत के विभिन्न क्रांतिकारी गतिविधियों में भाग लिया था जिसके कारण उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा था। अशोक मेहता को वर्ष 1934 में ‘कांग्रेस समाजवादी दल’ की सदस्यता प्राप्त हुई थी। इन्होंने भारतीय किसान आंदोलन, श्रमिक आंदोलन एवं भारत छोड़ो आंदोलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी जिसके कारण उन्हें प्रसिद्धि हासिल हुई थी।

अशोक मेहता समिति किससे संबंधित है

अशोक मेहता समिति मुख्य रूप से पंचायती राज व्यवस्था से संबंधित है। इस समिति ने पंचायती राज व्यवस्था को पुनर्जीवित करने का कार्य किया था। इस समिति में कुल 13 सदस्य शामिल थे जिन्होंने पंचायती राज व्यवस्था की कार्यप्रणाली में सुधार करने का कार्य किया था। इसके अलावा अशोक मेहता समिति ने बलवंत राय मेहता समिति की कमियों को भी दूर करके देश की सत्ता का विकेंद्रीकरण करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

अशोक मेहता समिति की सिफारिशें 1977

अशोक मेहता समिति ने वर्ष 1978 में अपनी सूचना (Report) केंद्र सरकार को सौंपी थी जिसमें कुल 132 सिफारिशें शामिल थी। इस समिति ने केंद्र सरकार से भारत के ग्राम पंचायत को खत्म करने की सिफारिश की थी जिसे केंद्र सरकार ने खारिज कर दिया था। अशोक मेहता समिति ने पंचायती राज व्यवस्था को अधिक प्रभावशाली बनाने हेतु कई सिफारिशें की थी जो कुछ इस प्रकार हैं:-

  • अशोक मेहता समिति ने केंद्र सरकार के सम्मुख जिला परिषद में छह प्रकार के सदस्यों की उपस्थिति होने की सिफारिश की थी। इसके अलावा इस समिति में पंचायत चुनाव को राजनीतिक दल के आधार पर आयोजित करने की भी मांग रखी गयी थी।
  • इस समिति ने जिले का विकेंद्रीकरण करने के कार्यों को प्राथमिकता दिए जाने की सिफारिश की थी।
  • अशोक मेहता समिति ने अपने सिफारिशों के आधार पर यह मांग की थी कि देश के सभी न्याय पंचायतों को पंचायत समिति से अलग रखा जाए एवं इसका प्रमुख स्थान न्यायाधीश को दिया जाए।
  • इस समिति ने मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्रों के विकास कार्यों की गतिविधियां जिला परिषद को सौंपे जाने की सिफारिश की थी।
  • इस समिति ने केंद्र सरकार से यह मांग की थी कि जिला स्तर की सभी समितियों के लेखों की संपरीक्षा आयोजित की जानी चाहिए।
  • अशोक मेहता समिति ने सभी पंचायतों को कर लगाने की शक्ति की मांग की थी जिससे वित्तीय संस्थाओं को एकजुट किया जा सके।
  • इस समिति ने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या के आधार पर कुछ सीटों पर आरक्षण की मांग की थी।
  • अशोक मेहता समिति ने राज्य में पंचायती राज्य मंत्रालय को स्थापित करने की सिफारिश की थी।

अशोक मेहता समिति 12 दिसंबर 1977 का संबंध किस व्यवस्था से है

अशोक मेहता समिति का संबंध पूर्ण रूप से पंचायती राज व्यवस्था से है। इस समिति ने पंचायती राज व्यवस्था को मजबूती प्रदान करने हेतु केंद्र सरकार को कई प्रकार के सुझाव दिए थे।

अशोक मेहता समिति कितने स्तरीय थी

अशोक मेहता समिति मुख्य रूप से दो स्तरीय थी। इस समिति ने पंचायती राज व्यवस्था का नवनिर्माण जिला स्तर पर जिला परिषद एवं मंडल स्तर पर मंडल पंचायत के आधार पर करने का सुझाव प्रस्तावित किया था।

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*