चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है (What is the Difference Between Current Account and Savings Account in hindi)

चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है

चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है (What is the Difference Between Current Account and Savings Account in hindi) : चालू खाता किसे कहते हैं (What is Current Account in hindi), चालू खाता के फायदे और नुकसान, बचत खाता किसे कहते हैं (What is Savings Account in hindi), बचत खाता के फायदे और नुकसान आदि महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर यहाँ दिए गए हैं।

चालू खाता और बचत खाता (Current Account and Savings Account)

चालू खाता किसे कहते हैं (What is Current Account in hindi)

चालू खाता बैंक का वह खाता होता है जिसके माध्यम से धनराशि के लेनदेन संबंधी सभी कार्य किए जाते हैं। चालू खाता को खुला खाता एवं ट्रांजैक्शन अकाउंट (transaction account) के नाम से भी जाना जाता है। चालू खाता के माध्यम से देश की बड़ी-बड़ी कंपनियां, संस्थान, विश्वविद्यालय, अस्पताल, स्कूल आदि भुगतान से संबंधित सभी कार्य करते हैं। बैंकों में मौजूद चालू खाता किसी भी खाताधारक को उसकी जमा राशि के अनुरूप किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं देता है बल्कि इस प्रकार के खाते में स्वयं खाताधारक ही बैंक को एक निश्चित धनराशि का भुगतान करता है। साधारण शब्दों में कहा जाए तो चालू खाता ना तो निवेश के उद्देश्य से कार्य करता है और ना ही बचत खाते की तरह इन खातों की धनराशि पर किसी प्रकार का ब्याज मिलता है। चालू खाता के अंतर्गत बैंक यह सुनिश्चित करता है कि खाताधारक अपनी सुविधा के लिए अपने जमा राशि से अधिक की निकासी कर सकता है। इसके अलावा चालू खाता को ओवरड्राफ्ट सुविधा (overdraft facility) के नाम से भी जाना जाता है।

चालू खाता के फायदे (Advantages of Current Account in hindi)

चालू खाता के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:-

  • चालू खाता के माध्यम से कोई भी खाताधारक विभिन्न बैंक शाखाओं में नकद या चेक द्वारा धनराशि को जमा कर सकता है जिसके कारण छोटे-छोटे ग्राहकों से भुगतान प्राप्त करना अधिक सुविधाजनक हो जाता है।
  • किसी भी बैंक में चालू खाता के अंतर्गत जमा राशि पर बैंक द्वारा किसी भी प्रकार का प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता है।
  • बैंकों में मौजूद चालू खाता में लेनदेन से संबंधित किसी भी प्रकार की सीमा नहीं होती है अर्थात इस प्रकार के खाते के माध्यम से खाताधारक अपने द्वारा जमा की गई जमा पूंजी से अधिक निकासी भी कर सकता है।
  • बैंकों के अनुसार किसी भी चालू खाता के अंदर न्यूनतम धनराशि रखना अनिवार्य होता है। यदि किसी खाता धारक के द्वारा चालू खाता में न्यूनतम धनराशि नहीं रखी जाती है तो इस स्थिति में बैंक द्वारा उस पर दंड (penalty) लगाई जाती है।
  • चालू खाता में बैंक अपने खाता धारकों को किसी भी प्रकार का बचत रखने की सलाह नहीं देता है।
  • चालू खाता के अंतर्गत बैंक ग्राहकों को नेट बैंकिंग मोबाइल बैंकिंग की सुविधा मुहैया कराता है।
  • चालू खाता के माध्यम से देश के बड़े-बड़े व्यापारियों एवं उद्योगपतियों को लेनदेन करने में सरलता होती है क्योंकि यह खाता उन्हें चेक, डिमांड या पे-आर्डर जारी करके सीधे लेनदारों को भुगतान करने में सहायता प्रदान करता है।
  • चालू खाता के अंतर्गत विभिन्न बैंकों द्वारा देश के किसी भी स्थान में धनराशि भेजने एवं उसे प्राप्त करने की सुविधा प्रदान की जाती है।

चालू खाता के नुकसान (Disadvantages of Current Account in hindi)

चालू खाता के कई फायदे होने के साथ-साथ कुछ नुकसान भी होते हैं जो कुछ इस प्रकार हैं:-

  • चालू खाता पर बैंक द्वारा किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं मिलता है।
  • चालू खाता में न्यूनतम धनराशि रखना बेहद अनिवार्य होता है यदि किसी कारण से किसी खाता धारक द्वारा चालू खाता में न्यूनतम धनराशि नहीं रखी जाती है तो इस स्थिति में खाताधारक पर कुछ धनराशि दंड के रूप में लगाई जाती है।
  • चालू खाता के खाता धारकों को खाते के रखरखाव हेतु बैंक को वार्षिक शुल्क देना अनिवार्य होता है।
  • इस प्रकार के खाते में तय सीमा से अधिक चेक के द्वारा भुगतान करने पर अत्यधिक शुल्क देना अनिवार्य होता है।

 

बचत खाता किसे कहते हैं (What is Savings Account in hindi)

बचत खाता देश के सामान्य नागरिकों के लिए होता है जिसे किसी भी सरकारी या निजी बैंक में न्यूनतम धनराशि जमा करके खुलवाया जा सकता है। यह न्यूनतम धनराशि निजी एवं सरकारी बैंकों के अनुसार अलग-अलग होती है जिसमें अधिकतर सरकारी बैंकों में यह राशि लगभग 1000 रुपए तक की होती है। बचत खाता में बैंकों द्वारा खाताधारकों को जमा धनराशि के अनुसार कुछ ब्याज प्रदान किया जाता है। इस प्रकार के खाते के माध्यम से ग्राहक किसी भी समय कितनी भी धनराशि जमा या निकाल सकता है जिसके लिए विभिन्न बैंकों द्वारा निकासी फॉर्म, जमा पर्ची, चेक या एटीएम कार्ड की सुविधा प्रदान कराता है। इसके अलावा बचत खाता में जमा धनराशि के अनुसार बैंक समय-समय पर ब्याज की दर में बदलाव भी करते रहती है। अधिकांश बैंकों के नियमानुसार ग्राहक द्वारा बचत खाते में कुछ न्यूनतम शेष धनराशि को बनाए रखना अनिवार्य होता है।

बचत खाता के फायदे (Advantages of Savings Account in hindi)

बचत खाता के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:-

  • बचत खाता में रखी गई धनराशि पर बैंकों द्वारा उचित ब्याज दिया जाता है।
  • बचत खाता के माध्यम से बैंक अपने ग्राहकों को प्रति वर्ष 3% से 6.5% तक ब्याज प्रदान करता है।
  • बचत खाता में डेबिट कार्ड की सुविधा प्रदान की जाती है जिसके माध्यम से खाताधारक देश के किसी भी आधिकारिक एटीएम के द्वारा आसानी से धन राशि की निकासी कर सकता है।
  • विभिन्न बैंकों द्वारा बचत खाता धारकों को इंटरनेट बैंकिंग एवं मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्रदान की जाती है।
  • बचत खाता के माध्यम से बैंक अपने ग्राहकों को लॉकर की सुविधा भी प्रदान करती है।

बचत खाता के नुकसान (Disadvantages of Savings Account in hindi)

बचत खाता के ढेरों फायदे होने के साथ-साथ कुछ नुकसान भी होते हैं जैसे:-

  • बचत खाता में न्यूनतम राशि रखना बेहद अनिवार्य होता है अन्यथा बैंकों द्वारा न्यूनतम राशि ना रखने के कारण उस खाते को निष्क्रिय कर दिया जाता है।
  • बचत खाता का रखरखाव करना खाताधारक के लिए अत्यंत आवश्यक होता है। यदि कोई ग्राहक बचत खाता का रखरखाव नहीं करता है तो इस स्थिति में बैंक खाताधारक पर दंड लगाती है।
  • बचत खाता में ₹10,000 तक की धनराशि के ब्याज पर कर (tax) नहीं लगाया जाता है एवं इस सीमा के ऊपर टीडीएस (TDS) भी कटता है।
  • निजी एवं सरकारी बैंकों द्वारा बचत खाता के खाताधारकों से विभिन्न प्रकार के सुविधा शुल्क लिए जाते हैं जैसे डेबिट कार्ड चार्ज, एसएमएस अलर्ट चार्ज आदि।

 

चालू खाता और बचत खाता में अंतर (Difference Between Current Account and Savings Account in hindi)

चालू खाता और बचत खाता में निम्नलिखित अंतर होते हैं:-

  • चालू खाते का उपयोग मुख्य रूप से देश के बड़े उद्योगपतियों, फर्म, संस्थाओं एवं व्यापारियों द्वारा किया जाता है जबकि बचत खाते का उपयोग मुख्य रूप से देश के सामान्य लोगों के द्वारा किया जाता है।
  • चालू खाता खोलने के लिए उच्चतम राशि की आवश्यकता होती है जबकि बचत खाता खोलने के लिए न्यूनतम धनराशि की आवश्यकता होती है।
  • चालू खाता में बैंक अपने ग्राहकों को किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं देता है परंतु बचत खाता में बैंक अपने खाता धारकों को ब्याज का भुगतान करता है।
  • चालू खाता में बैंकों द्वारा पासबुक जारी नहीं किया जाता है जबकि बचत खाता धारकों को बैंक पासबुक प्रदान करती है।
  • चालू खाता में बैंक अपने खाताधारकों को ओवरड्राफ्ट की अनुमति देती है जबकि बचत खाता में बैंक अपने ग्राहकों को ओवरड्राफ्ट की अनुमति नहीं देती है।
  • चालू खाता का निर्माण व्यवसायिक आवश्यकताओं के अनुसार असीमित लेन-देन करने के लिए किया गया है जबकि बचत खाता का निर्माण देश के सामान्य नागरिकों की बचत राशि को जमा करने हेतु किया गया है।
  • चालू खाते में किसी भी प्रकार की लेनदेन की कोई सीमा तय नहीं की गई है जबकि सेविंग अकाउंट में प्रतिदिन लेन-देन की एक सीमा होती है।
  • चालू खाते से संबंधित डेबिट कार्ड से धनराशि निकालने की सीमा अधिक होती है जबकि बचत खाते से संबंधित डेबिट कार्ड द्वारा एटीएम से धनराशि निकालने की सीमा कम होती है।

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*