करेंट अफेयर्स (8 अप्रैल – 15 अप्रैल 2017)

1. 8 अप्रैल, 1857 के दिन अंग्रेज़ों ने दी थी क्रांतिकारी मंगल पांडे को फांसी।
विस्तार : –
8 अप्रैल, 1857 को अंग्रेज़ों ने क्रांतिकारी मंगल पांडे को फांसी पर चढ़ा दिया था। कारतूसों में गाय और सुअर की चर्बी को लेकर विरोध जताने के बाद उन्होंने अंग्रेज़ अफसर पर गोली चलाकर विद्रोह कर दिया, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। कुछ इतिहासकारों के अनुसार, उनकी फांसी के बाद ही 1857 की क्रांति शुरू हुई थी।

2. पहली बार देश के 4 महानगरों के हाईकोर्ट में महिलाएं हैं चीफ जस्टिस।
विस्तार : – 
पहली बार देश के 4 महानगरों के हाईकोर्ट (मद्रास, बॉम्बे, दिल्ली, कलकत्ता) के मुख्य न्यायाधीश पद पर महिलाएं हैं। मद्रास हाईकोर्ट की जस्टिस इंदिरा बनर्जी, बॉम्बे हाईकोर्ट की जस्टिस मंजुला चेल्लूर, दिल्ली हाईकोर्ट की जस्टिस जी. रोहिणी और कलकत्ता हाईकोर्ट की जस्टिस निषिता निर्मल म्हात्रे मुख्य न्यायाधीश पद पर हैं। हालांकि, जस्टिस म्हात्रे कलकत्ता हाईकोर्ट की कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश हैं।

3. लार्सन एंड टुब्रो ने सुब्रमण्यन को नया सीईओ नियुक्त किया।
विस्तार : –
 इंजीनियरिंग एवं कंस्ट्रक्शन समूह एलएंडटी (लार्सन एंड टुब्रो) ने एस. सुब्रमण्यन को नया सीईओ नियुक्त किया है, जो अभी उसके प्रेसीडेंट व डिप्टी एमडी हैं। वहीं, लंबे समय से समूह के एमडी और सीईओ रहे ए.एम. नायक को 3 साल के लिए गैर-कार्यकारी चेयरमैन बनाया गया है। सुब्रमण्यन 1 जुलाई जबकि नायक 1 अक्टूबर से अपना नया कार्यभार संभालेंगे।

4. 8 अप्रैल, 1929 के दिन भगत सिंह व बटुकेश्वर दत्त ने असेंबली में फेंका था बम।
विस्तार : – 
8 अप्रैल, 1929 को क्रांतिकारी भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने ब्रिटिश विधेयकों का विरोध करने के लिए तत्कालीन असेंबली (वर्तमान संसद भवन) में बम फेंका था। दरअसल, असेंबली में पब्लिक सेफ्टी और ट्रेड डिस्प्यूट विधेयक लाए गए थे, जिनमें क्रांतिकारियों को दंडित करने के लिए पुलिस को ज़्यादा अधिकार मिल जाते। हालांकि, यह बिल पारित नहीं हो पाया था।

5. 8 अप्रैल, 1950 को भारत-पाक के बीच हुआ था दिल्ली समझौता।
विस्तार : – 8 अप्रैल, 1950 को भारत-पाकिस्तान के बीच नेहरू-लियाकत (दिल्ली समझौता) समझौता हुआ था जिसका उद्देश्य दोनों देशों में अल्पसंख्यकों के अधिकारों को सुरक्षित करना और भविष्य में युद्ध की संभावनाओं को खत्म करना था। दिल्ली में 6 दिनों तक चली बातचीत के बाद भारतीय प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री लियाकत अली खान ने इस समझौते पर दस्तखत किए थे।

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*