उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था

उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था (Education System in Uttarakhand)

हिमालय का यह भू-भाग (Terrain) प्राचीन काल से ही आश्रम पद्धति (Ashram System) शिक्षा के लिए प्रसिद्ध है। यहां के मंदिरों (Temples), आश्रमों (Ashrams) तथा गुफाश्रयों (Cave) में शिक्षा ग्रहण करने के लिए दूर-दूर से विद्यार्थी आते रहे है। बद्रिकाश्रम (Bdrikashram) और कण्वाश्रम (Knwasrm) शिक्षा के दो महान केंद्र (Center) रहे है। महाकवि कालिदास (Great Poet Kalidas) एवं चक्रवर्ती सम्राट भरत (Bharat) ने कण्वाश्रम (Knwasrm) से शिक्षा ग्रहण की थी। वर्तमान (Present) में भी हरिद्वार, ऋषिकेश, जोशीमठ, रानीखेत, देवप्रयाग (Haridwar, Rishikesh, Joshimath, Ranikhet, Devprayag) आदि नगरों में आश्रम पद्धति से शिक्षा दी जाती है।

यद्यपि आधुनिक शिक्षा (Modern Education) और शिक्षण संस्थाओं (Educational Institutions) की स्थापना का क्रम अंग्रेजी शासनकाल (British Rule) में 19वीं शताब्दी (Century) के मध्य से शुरू हुआ।

राज्य गठन के बाद प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा (Primary and Secondary Education) को एकीकृत (Integrated) कर दिया गया और इसके प्रशासन के लिए एक निदेशालय (Directorate) का गठन किया गया। लेकिन 2011 में प्राथमिक, माध्यमिक व अकादमिक शोध प्रशिक्षण (Primary, Secondary and Academic Research Training) हेतु अलग निदेशालयों का गठन किया गया।

Advertisement

निदेशालय के अधीन परीक्षाओं (Exams) तथा शिक्षा (Education) आदि के कार्यान्वयन (Implementation) हेतु रामनगर (नैनीताल) (Ramnagar (Nainital)) में उत्‍तराखण्‍ड विद्यालयी शिक्षा परिषद (Uttarakhand School Education Council) का गठन किया गया है।

राज्य में विद्यालयी शिक्षा सम्बन्धी अनुसंधान (Research), मूल्यांकन (Evaluation) एवं शिक्षकों (Educators) के प्रशिक्षण के लिए जनवरी (January) 2012 में नरेंद्र नगर (टिहरी गढ़वाल) (Narendra Nagar (Tehri Garhwal)) में राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (The State Council of Educational Research and Training) की स्थापना की गई।

उच्च शिक्षा के लिए  प्रशासन ने लिए हल्द्वानी (नैनीताल) (Haldwani (Nainital)) में उच्च शिक्षा निदेशालय (Directorate of Technical Education) की स्थापना की।

प्राविधिक शिक्षा (Technical Education) के लिए श्रीनगर (Shrinagar) में प्राविधिक शिक्षा निदेशालय (Directorate of Technical Education) की स्थापना की और इस निर्देशालय के अधीन रुड़की (Roorkee) में उत्तराखंड प्राविधिक एवं परीक्षा परिषद (Uttarakhand Technical and Examination Council) की स्थापना की।

संस्कृत (Sanskrit) शिक्षा के लिए अलग से एक विभाग व उसके अंतर्गत संस्कृत शिक्षा परिषद (Sanskrit Education Council) का गठन किया गया।

उत्तराखंड में मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान (Recognized Educational Institutions in Uttarakhand)

Education System in Uttarakhand
Recognized Educational Institutions in Uttarakhand

पढ़ें उत्तराखंड में प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा व्यवस्था

You may also like :

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*