उत्तराखंड के प्रमुख ताल व झीलें

List of major Lakes in Uttarakhand state with their locations in Hindi

Lakes of Uttarakhand, List of major Lakes in Uttarakhand, Popular Lakes
Lakes of Uttarakhand

झीलें/ताल (Lakes of Uttarakhand)

भारत में अनेक प्रकार की झीलें पाई जाती है, जो इस प्रकार हैं :-

विवर्तनिक झीलें (Tectonic lakes)कश्मीर की वुलर झील (Wular Lake in Kashmir)
ज्वालामुखी झीलें (Volcanic lakes)महाराष्ट्र की लोनार झील (Lonar Lake in Maharashtra)
अनूप  झीलें (Lagoon)उड़ीसा की चिल्का झील (Chilka Lake in Orissa), आंध्र प्रदेश की कोलेरु (Kolleru Lake in Andhara Prdesh)
वायुजनित झीलें (Airborne Lakes)राजस्थान की सांभर झील (Sambar Lake in Rajasthan) व डीडवाना पंचभद्रा (Didwana Panchbhadra) झील
हिमानी  झीलें (Glacier lakes)उत्तराखंड की झीलें (Lakes of Uttarakhand)


कुमाऊं के प्रमुख ताल
(Major Lakes of Kumaon)

झीलों की अधिकता के कारण नैनीताल (Nainital) को झीलों की नगरी (City of Lakes) या सरोवर नगरी (Lake City) भी कहते हैं, जो निम्नलिखित है :-

Advertisement

झीलस्थान
नैनीताल झील (Nainital Lake/ Naini Lake)स्थल :- नैनीताल, इसे त्रि ऋषि सरोवर भी कहते हैं।
भीमताल झील (Bhimtal Lake)स्थल :- भीमताल, ज़िला – नैनीताल। यह त्रिभुजाकार (Triangular) के आकार की है, यह कुमाऊं क्षेत्र की सबसे बड़ी ताल है।
नौकुचियाताल (Naukuciatal)स्थल :- नैनीताल, 9 कोनों (Corners) वाली यह ताल कुमाऊ की सबसे गहरी ताल है।
सातताल (Sattal), खुरपाताल (Khurpatal), सूखाताल (Sukhatal), मलवाताल (Malawatal)ज़िला :-नैनीताल
गिरिताल (Girital)स्थल :- काशीपुर (Kashipur), ज़िला – उधमसिंह नगर (Udham Singh Nagar)
द्रोणताल (Drona Lake)स्थल :- काशीपुर, ज़िला – उधमसिंह नगर
श्यामताल (Shyamtal)चंपावत (Champawat)
झिलमिलताल (Jhilmiltal)चंपावत
तडागताल (Tdagtal)अल्मोड़ा (Almora)
सुकुण्डाताल (Sukundatal)बागेश्वर (Bageshwar)

 

भीमताल (Bhimtal)

  •  लम्बाई    –   1675 मी.
  • चौड़ाई     –   470 मी.
  • गहराई    –   26 मी.

यह कुमाऊं क्षेत्र की सबसे बड़ी झील है (Largest Lake of Kumaon Region), इसका आकार त्रिभुजाकार है, इसका रंग गहरा नीला (Dark Blue) है, इस झील के बीच में एक टापू (Isle) है, जिस पर मछलीघर (Aquarium) भी है। इस झील से सिंचाई हेतु छोटी-छोटी नहरें (Canals) निकाली गई है।

नौकुचियाताल (Naukuciatal)

  • लम्बाई   –  950 मी.
  • चौड़ाई   –  680 मी.
  • गहराई   –  40 मी.

कुमाऊं क्षेत्र की सबसे गहरी ताल है (Deepest Lake of Kumaon), यह झील पक्षियों के निवास के लिए उत्तम है।

नैनीताल (Nainital)

  • लम्बाई   –  1430 मी.
  • चौड़ाई   –  465 मी.
  • गहराई   –  16 – 26 मी.

इस झील को स्कन्दपुराण (Skanda Purana) में ‘त्रि-ऋषि सरोवर’ (Tri-Rishi Sarovar) कहा गया है, इसकी ऊंचाई समुद्रतल से 1,937 मीटर है, झील के चारों ओर ऊँचे-ऊँचे सात पहाड़ है, जिस में सबसे ऊंचा चाइना पीक (China Peak) या नैना पीक (Naina Peak) है । इसके उत्तरी भाग को मल्लीताल (Mallital) तथा दक्षिणी भाग को तल्लीताल (Tllital) कहा जाता है, नैनीताल की खोज 1841 में सी. पी. बैरन (C. P. Baron) ने की थी।

सातताल (Sattal)

  • लम्बाई – 3000 मी.
  • चौड़ाई – 200 मी.
  • गहराई – 19 मी.

यह कुमाऊं क्षेत्र की सबसे सुंदर झील है, यहां पर पहले 7 झीलें थी, वर्तमान में कई सुख गई है, इन में नल दमयंती ताल (Nal Damyanti Tal), गरुड (Garud) या पन्ना ताल (Panna Tal), पूर्ण ताल (Purn Tal), लक्ष्मण ताल (Lakshman Tal) व राम-सीता ताल (Ram-Sita Tal) प्रमुख है।

खुर्पाताल (Khurpatal)

  • लम्बाई  –  1633 मी.
  • चौड़ाई  –  5 किमी.

यह ताल नैनीताल व कालाढूंगी मार्ग (Kaladungi Road) पर स्थित है, तीनों ओर से पहाड़ियों से घिरा है, इसकी समुद्रतल से ऊंचाई लगभग 1635 मीटर है, इसका रंग गहरा हरा (Dark Green) है। इसका आकार जानवर के खुर (Animal’s hoof) के समान है। इसीलिए इसको खुर्पाताल कहा जाता है।

द्रोण सागर (Drona Sagar)

उधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar) के काशीपुर (Kashipur) से 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस ताल के पास द्रोण गुरु (Guru Drona) ने अपने शिष्यों को धनुर्विद्या (Archery) की शिक्षा दी थी।

गिरि ताल (Giri Tal)

उधम सिंह नगर के काशीपुर में यह ताल है, यहां चामुंडा (Chamunda), संतोषीमाता (Santoshimata), नागनाथ (Nagnath) व मनसा देवी (Mansa Devi) के मंदिर हैं।

झिलमिल ताल (Jhilmil Tal)

यह चंपावत (Champawat) के टनकपुर (Tanakpur) से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, इस ताल की परिधि (Circumference) लगभग 2 किलोमीटर है, जिसका आकार गोलाकार तथा जल का रंग नीला है।

श्याम ताल (Shyam Tal)

चंपावत (Champawat) जिले में स्थित इस ताल की परिधि 2 किलोमीटर है, इस का रंग गहरा श्याम (Dark Black) रंग  है। इसके किनारे पर स्वामी विवेकानंद आश्रम (Swami Vivekananda Ashram) स्थित है, यहां का झूला (Jhula) मेला प्रसिद्ध है।

तड़ाग ताल (Tdhag Tal)

अल्मोड़ा (Almora) जनपद के चौखुटिया (Chaukhutia) से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, यह ताल 1 किलोमीटर लंबा व आधा किलो मीटर चौड़ा है, इस ताल के निचले भाग से पानी की निकासी हेतु पांच सुरंगे बनाई गई हैं, जिनमें से तीन सुरंगे बंद है ।

गढ़वाल क्षेत्र की झीलें (Major Lakes of Garhwal)

गढ़वाल क्षेत्र की सर्वाधिक झीलें चमोली (Chamoli) जिले में पाई जाती है, इस क्षेत्र की प्रमुख झीलें निम्नलिखित है :-

Advertisement



झीलें स्थान
सहस्त्रताल (Sahastrataal)थाती (Thati), टिहरी गढ़वाल (Tehri Garhwal) (गढ़वाल क्षेत्र की सबसे बड़ी और गहरी झील)।
यमताल (Yamtal)सहस्त्र ताल के समीप
महासर ताल (Mahasr Tal)सहस्त्र ताल के समीप
बासुकी ताल (Basuki Taa)टिहरी गढ़वाल
मंसूरताल (Mnsurtal)टिहरी, खतलिंग हिमनद के पास
अप्सरा ताल (Apsara Tal) टिहरी बूढ़ेकेदार के पास
भिलंगना ताल (Bhilngna Tal)टिहरी गढ़वाल
दुग्ध ताल (Dugdh Tal)पौढी गढ़वाल
तारा कुंड (TaraKund)दूधातोली
रूपकुंड (Rupkund)चमोली
हेमकुंड ‘लोकपाल’ (Hemkund ‘Lokpaal)चमोली
संतोपंथ ताल (Sntopnth Tal)चमोली
विरही ताल (Virhi Tal)चमोली
बेनीताल (Benital)चमोली
विष्णु ताल (Vishnu Tal)चमोली
सुखताल (Sukhtal)चमोली
गोहना ताल (Gohna Tal)गोपेश्वर के पूर्व में
नचिकेता ताल (Nachiketa Tal)उत्तरकाशी
डोडीताल (Dodital)उत्तरकाशी
फाचकंडी बयां (Fachkndi Bayan)उत्तरकाशी (उबलता जल)
दिव्य सरोवर (Divy Sarovar)हरिद्वार

                      

सहस्त्र ताल (Sahastrataal)

टिहरी गढ़वाल (Tehri Garhwal) के घुत्तु (Guttu) में लगभग 1530 मीटर की ऊंचाई पर सहस्त्र ताल कई तालों का समूह है । यह गढ़वाल क्षेत्र की सबसे बड़ी और गहरी ताल है ।

यम ताल (Yamtal)

यह ताल टिहरी के सहस्त्र ताल के समीप है, जो हमेशा बर्फ से ढका रहता है।

महासरताल (Mahasartal)

सहस्त्र ताल की कुछ दूरी पर बालगंगा घाटी (Balganga Valley) में स्थित झील, जो दो कटोरीनुमा (Bowl-shape) तालों से निर्मित है । यह दोनों ताल को, भाई-बहनों (Brother-Sister) के ताल के नाम से भी जाना जाता है, इस झील के चारों तरफ घने वृक्ष और बुग्याल (Bugyal) “घास के मैदान” स्थित हैं।

बासुकीताल (Basukital)

यह ताल टिहरी गढ़वाल के उत्तर पूर्व केदारनाथ (Kedarnath) के पश्चिम में स्थित लाल पानी (Red Water) वाला यह अनूठा ताल है, यह 4150 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, यह ताल नीले रंग के कमल के लिए प्रसिद्ध है।

मंसूर ताल (Mansour Tal)

टिहरी गढ़वाल की सीमा के पास खतलिंग ग्लेशियर (Khatling Glacier) के ठीक सामने स्थित है, यही से दूधगंगा नदी (Dudh Ganga River) का उद्गम (Origin) स्थल है। यह 16,500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, इसकी परिधि 3 किलोमीटर है।

रूपकुंड (Roopkund)

चमोली (Chamoli) जिले के धराली विकासखंड (Dharali Block) के बेदनी बुग्याल (Bedni Bugyal) में स्थित है, यहां से त्रिशूली और नंदाघुघटी (Trishul and Nandaghughati) की पहाड़ियां दिखती है, इस कुंड के आस पास बहुत सारे नर कंकाल (Skeletons) मिले हैं।

हेमकुंड (Hemkund)

चमोली में स्थित इस झील के किनारे सिक्खों (Sikhs) के दसवें गुरु गोविन्द सिंह (10th Guru Govind Singh) ने तपस्या (Austerity) की थी, यह सरोवर अलकनंदा की सहायक नदी लक्ष्मण गंगा (Lakshman Ganga) का उद्गम स्थल है, यह झील सात पर्वतों से घिरी हुई है ।

शरवदी ताल ‘गांधी सरोवर’ (Sharvdi Tal ‘Gandhi Sarovar’)

रुद्रप्रयाग (Rudrapryag) में केदारनाथ मंदिर से 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, 1948 में महात्मा गांधी जी की अस्थियां यहीं प्रवाहित की गई थी, इसलिए इसे गांधी सरोवर भी कहते हैं ।

नचिकेता ताल (Nachiketa Tal)

यह ताल उत्तरकाशी (Uttarkashi) जिले से 32 किलोमीटर दूर घने जंगल में स्थित है।

फाचकंडी  बयांताल (Fachkandi Byantal)

यह उत्तरकाशी जिले में स्थित है, इस झील का जल उबलता (Boiling Water) रहता है।

पढ़ें उत्तराखंड की प्रमुख नदियां

You may also like :

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*