राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स (18 फ़रवरी 2017 – 25 फ़रवरी 2017)

(6) भारतीय रेलवे (Indian Railways) द्वारा अपनी 16 रेलवे जोन (Railway Zones) की प्रदर्शन रेटिंग के 21 फरवरी 2017 को जारी परिणामों के अनुसार दक्षिण पूर्व रेलवे जोन सर्वाधिक अंक हासिल कर पहले स्थान पर रही है।

विस्तार: कोलकाता (Kolkata) में मुख्यालय वाली दक्षिण पूर्व रेलवे (South Eastern Railway – SER) को रेल मंत्रालय द्वारा माल ढुलाई तथा यात्री यातायात जैसे तमाम मापदण्डों पर की गई प्रदर्शन रेटिंग (Performance Rating) में सभी 16 रेलवे जोन में सर्वाधिक अंक हासिल हुए हैं। अप्रैल 2016 से दिसम्बर 2016 के मध्य किए गए प्रदर्शन के आधार पर दक्षिण पूर्व रेलवे को सर्वाधिक 75.48% प्रतिशत अंक हासिल हुए हैं।

(7) एन. चन्द्रशेखरन (N. Chandrasekaran) ने 150 वर्ष पुराने टाटा समूह (Tata Group) के सातवें अध्यक्ष (7th Chairman) की जिम्मेदारी औपचारिक रूप से 21 फरवरी 2017 को संभाल ली।

विस्तार: 54-वर्षीय नटराजन चन्द्रशेखरन(Natarajan Chandrasekaran), जो “चन्द्रा” नाम से लोकप्रिय हैं, ने 21 फरवरी 2017 को 103 अरब डॉलर मूल्य वाले टाटा समूह (Tata Group) के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल ली। इसके साथ ही पिछले लगभग 4 माह से अंतरिम अध्यक्ष के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे पूर्व अध्यक्ष रतन टाटा का यह संक्षिप्त कार्यकाल समाप्त हो गया। चन्द्रशेखरन द्वारा यह जिम्मेदारी संभाले जाने से सम्बन्धित एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि वे पहले ऐसे अध्यक्ष है जिनका टाटा परिवार से कोई सम्बन्ध नहीं है तथा जो पारसी नहीं हैं। चन्द्रशेखरन को टाटा सन्स के बोर्ड रूम में चले बेहद कटु व लम्बे विवाद के बाद अध्यक्ष का पद प्रदान किया गया था। वे इससे पहले टाटा समूह की सॉफ्टवेयर कम्पनी TCS के सीईओ (CEO) व प्रबन्ध निदेशक (MD) थे। उनसे पहले इस पद को संभाल रहे साइरस मिस्त्री को आश्चर्यजनक रूप से 4 साल के कार्यकाल के बाद हटा दिया गया था।  चन्द्रशेखरन से पहले जिन 6 हस्तियों ने यह पद संभाला है वह हैं – जमशेतजी नुसरवानजी टाटा (1867–1904), सर दोराब टाटा (1904–1932), नौरोजी सकलटवाला (1932–1938), जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा (1938–1991), रतन टाटा (1991–2012) और साइरस पालूनजी मिस्त्री (2012–2016)।

(8) कच्चे तेल (crude oil) के फरवरी 2017 में जारी उत्पादन आंकड़ों के अनुसार रूस (Russia), सऊदी अरब (Saudi Arabia) को पीछे छोड़कर दिसम्बर 2016 के दौरान विश्व का सबसे बड़ा कच्चा तेल उत्पादक देश बन गया ।

विस्तार: दिसम्बर 2016 के दौरान रूस (Russia) ने 10.49 मिलियन बैरल कच्चे तेल का उत्पादन प्रतिदिन किया जोकि नवम्बर 2016 के उसके दैनिक उत्पादन से 29,000 बैरल कम था। वहीं इसी समयावधि के दौरान सऊदी अरब का उत्पादन 10.46 मिलियन बैरल प्रतिदिन रहा। इस प्रकार रूस सऊदी अरब को पीछे छोड़कर (दिसम्बर 2016 के दौरान) दुनिया का सबसे बड़ा कच्चा तेल उत्पादक देश बन गया।  8.8 मिलियन बैरल प्रतिदिन का उत्पादन कर अमेरिका (US) तीसरे स्थान पर था।

(9) राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत देश के किशोरों के लिए एक नई रिसोर्स किट (resource kit) तथा मोबाइल एप्लीकेशन (mobile app) को केन्द्र सरकार ने 20 फरवरी 2017 को लाँच किया। इस किट तथा मोबाइल एप को “साथिया” के अंतर्गत लांच किया गया ।

विस्तार: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 20 फरवरी 2017 को राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम (RKSK) के एक हिस्से के रुप में किशोर वय के लड़कियों एवं लड़कों (adolescents) के लिए “साथिया” रिसोर्स किट (“Saathiya” Resource Kit) एवं “साथिया सलाह” मोबाइल ऐप (Saathiya Salah Mobile App) लांच किया। इस कार्यक्रम के तहत एक प्रमुख कदम पीयर एजुकेटर्स (जिन्हें ही साथिया नाम से सम्बोधित किया जाता है) की प्रस्तुति है जो किशोर स्वास्थ्य सेवाओं (adolescent health services) के लिए मांग का सृजन करने के लिए एक उत्प्रेरक (catalyst) के रूप में काम करता है तथा उनके समकक्ष समूहों में प्रमुख किशोर स्वास्थ्य मुद्दों पर उम्र से संबंधित उपयुक्त ज्ञान प्रदान करता है। साथियों को ऐसा करने में सुसज्जित करने एवं उन्हें इसके लिए सक्षम बनाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने “साथिया” रिसोर्स किट (“साथिया” सलाह मोबइल ऐप) लांच किया है।

(10) क्विक-रिस्पॉन्स कोड (QR Code) पर आधारित भारतक्यूआर कोड (BharatQR code) नई भुगतान प्रणाली जिसे भारत सरकार द्वारा प्रायोजित तथा समर्थित किया गया है तथा जिसे 20 फरवरी 2017 को औपचारिक रूप से लाँच किया गया।

विस्तार: भारतक्यूआर कोड (BharatQR code) के द्वारा देश में खुदरा इलेक्ट्रॉनिक भुगतान की प्रक्रिया और आसान हो जाने की आशा व्यक्त की जा रही है। इस भुगतान प्रणाली को भारत सरकार द्वारा प्रायोजित किया गया है तथा इसकी खासियत यह होगी कि इसमें बिना बैंक कार्ड को स्वाइप किए सिर्फ क्यूआर कोड के द्वारा भुगतान करना संभव होगा। भारतक्यूआर कोड को चार प्रमुख कार्ड भुगतान कम्पनियों ने भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के निर्देश पर संयुक्त रूप से विकसित किया है। ये चार भुगतान कम्पनियां हैं – भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम – National Payments Corp. of India – NPCI (जो रूपे (RuPay) कार्ड्स का संचालन करता है), मास्टरकार्ड (MasterCard), वीज़ा (Visa) और अमेरिकन एक्सप्रेस (American Express)। हालांकि शुरू में अमेरिकन एक्सप्रेस के कार्डों को इस भुगतान प्रणाली में एकीकृत नहीं किया गया है लेकिन इसे जल्द ही एकीकृत कर लिया जायेगा। भारतक्यूआर कोड के द्वारा भुगतान करने के लिए व्यवसायी की आईडी (ID) अथवा फोन नम्बर को डालने की आवश्यकता नहीं होगी, जैसा की तमाम वॉलेट प्रणालियों जैसे पेटीएम (paytm) आदि में जरूरत होती है। । ग्राहकों को भुगतान करने के लिए सिर्फ क्यूआर कोड को स्कैन करना पड़ेगा तथा भुगतान राशि डालनी होगी। इसके बाद एक बटन दबाते ही उसके बैंक खाते से राशि डेबिट होकर उक्त व्यापारी के खाते में क्रेडिट हो जायेगी। इसमें स्वाइप मशीन की जरूरत नहीं होगी। इस प्रणाली का इस्तेमाल करने के लिए ग्राहकों को अपने बैंकों का भारतक्यूआर कोड एप्लीकेशन (BharatQR code app) डाउनलोड करना होगा तथा यह एप्लीकेशन इस प्रणाली को स्वीकार करने वाले बैंक ही उपलब्ध करायेंगे। शुरूआत में 15 बैंक इससे जुड़े हैं।

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*