नैनीताल

नैनीताल (अंग्रेजी में : Nainital) भारतीय राज्य उत्तराखंड का एक जिला है जिसका कुल क्षेत्रफल 4,251 वर्ग किमी है। नैनीताल जिले की स्थापना 1891 को हुई। नैनीताल जिले का मुख्यालय – नैनीताल नैनीताल का उपनाम – सरोवर नगरी नैनीताल कब अस्तित्व में अस्तित्व – 1841 ई. में  “पी. बैरन” द्वारा खोजा गया नैनीताल का कुल क्षेत्रफल – 4,251 वर्ग किमी नैनीताल… Keep Reading

चम्पावत

चम्पावत (अंग्रेजी में : Champawat) भारतीय राज्य उत्तराखंड का एक जिला है जिसका कुल क्षेत्रफल 1,766 वर्ग किमी है। चम्पावत जिले की स्थापना 15 सितम्बर, 1997 को हुई। चम्पावत जिले का मुख्यालय – चम्पावत चम्पावत के उपनाम – चम्पावती (कुमुकाली) चम्पावत जिला कब बना – 15 सितम्बर, 1997 चम्पावत का कुल क्षेत्रफल – 1,766 वर्ग किमी चम्पावत की कुल जनसंख्या – 2,59,648… Keep Reading

बागेश्वर

बागेश्वर (अंग्रेजी में : Bageshwar) भारतीय राज्य उत्तराखंड का एक जिला है जिसका कुल क्षेत्रफल 2,246 वर्ग किमी है। बागेश्वर जिले की स्थापना 15 सितम्बर, 1997 को हुई। बागेश्वर नगर प्रसिद्ध नदियां पूर्वी गंगा और कोशी नदी के तट पर बसा है। आकर्षक प्राकृतिक सुंदरता और लौकिक गाथाओं के कारण बागेश्वर काफी प्रसिद्ध नगर है।   बागेश्वर जिले का… Keep Reading

अल्मोड़ा

उपनाम - विभाण्डेश्वर, बाल मिठाई का घर, ताम्रनगरी, मंदिरों की नगरी ‘द्वाराहाट’ अस्तित्व - 1839 ई. क्षेत्रफल - 3090 वर्ग किमी . तहसील - 11 (अल्मोड़ा, भिकियासैण, रानीखेत, धौलाछिना, स्यालदे, जैती, भनौली, द्वाराहाट, सोमेश्वर, चौखुटिया, सल्ट) Keep Reading

पिथौरागढ़

पुराना नाम - सोहरा घाटी उपनाम - छोटा कश्मीर अस्तित्व - 24 फ़रवरी 1960 क्षेत्रफल - 7110 वर्ग किमी . तहसील - 10 (पिथौरागढ़, धारचूला, मुनस्यारी, डीडीहाट, कनालीछीना, बेरीनाग, बंगापनी, गणाई-गंगोली, देवलथल, गंगोलीहाट) Keep Reading

उत्तराखंड में कृषि उत्पादन एवं खेती के प्रकार

उत्तराखंड एक कृषि प्रधान राज्य हैं, यहां की 69.45% आबादी गाँव में निवास करती हैं, जोकि कृषि (Agriculture), जड़ी-बूटी (Herb) व वन संपदा (Forest Estates) पर निर्भर (Dependent) है। Keep Reading

उत्तराखंड में पायी जाने वाली खनिज संपदा व खनिज पदार्थ

उत्तराखंड (Uttarakhand) में अन्य राज्यों की अपेक्षा खनिज संसाधनों का अभाव है, लेकिन बहुत कम मात्रा में खनिज पदार्थों (Minerals) की उपस्थिति है। राज्य के वन क्षेत्र में स्थित खदानों से खनिजों का खनन Keep Reading

उत्तराखंड के वन्य जीव, वन्य-जीव विहार, राष्ट्रीय उद्यान एवं संरक्षण विहार

राज्य में प्रथम वन्य जीव संरक्षण केंद्र (First Wildlife Conservation Center) के रूप में 1935 में देहरादून (Dehradun) में मोतीचूर वन्यजीव विहार (Motichoor Wildlife Sanctuary) की स्थापना की गई थी Keep Reading

उत्तराखंड के वन क्षेत्र, वन आच्छादित क्षेत्र, वन नीतियाँ

राष्ट्रीय वन नीति 1998 के अनुसार देश की कुल क्षेत्रफल के 33% भाग पर वन होने आवश्यक है, जिसमें पर्वतीय क्षेत्र में कम से कम 60% और मैदानी क्षेत्रों में कम से कम 25% वन होने आवश्यक है। Keep Reading

उत्तराखंड के प्रमुख ग्लेशियर व हिमनद

उत्तराखंड राज्य में पर्यटन स्थलों की कोई कमी नहीं है और यहाँ के ग्लेशियर भी आकर्षण का केंद्र रहे हैं क्योंकि उत्तराखंड का 86 प्रतिशत भाग पहाड़ी है इसलिए यहाँ पर बहुतायत मात्रा में हिमनद व ग्लेशियर पाए जाते हैं। Keep Reading