उत्तराखंड में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएँ एवं बोलियाँ

उत्तराखंड में पहाड़ी बोली का प्रयोग किया जाता है, जो हिंदी की पांच उपभाषाएं (Sub-Language) (पूर्वी हिन्दी, पश्चिमी हिंदी, राजस्थानी हिंदी, बिहारी हिंदी और पहाड़ी हिंदी (Eastern Hindi, Western Hindi, Rajasthani, Hindi, Bihari Hindi and Pahadi Hindi)) के अंतर्गत आती है, तथा इस के अलावा अन्य भाषाओं के अंतर्गत 18 बोलियाँ है। Keep Reading

उत्तराखंड में चिकित्सा शिक्षा व प्रमुख मेडिकल कॉलेज

उत्तराखंड के प्रमुख मेडिकल कॉलेज : उत्तराखंड राज्य में मेडिकल कॉलेज निर्माण और चिकित्सा शिक्षा के विस्तार पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। वर्तमान में उत्तराखण्ड राज्य में एलोपैथी, आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक तथा नेचुरोपैथी पद्धति (Allopathic, Ayurvedic, Homeopathic and Naturopathy) में शिक्षा देने के लिए सरकारी एवं निजी क्षेत्र के कई संस्थायें है, कुछ प्रमुख संस्थाएं निम्न प्रकार… Keep Reading

उत्तराखंड के उच्च शिक्षा संस्थान एवं विश्वविद्यालय

उत्तराखंड के उच्च शिक्षा संस्थान एवं विश्वविद्यालय (Higher education institutions and universities of Uttarakhand) : उत्तराखंड राज्य गठन से पूर्व उच्च शिक्षा (Higher Education) के लिए यहां सभी श्रेणियों के कुल 6 विश्वविद्यालय (University) तथा इससे सम्बंधित 100 से अधिक स्नातक एवं स्नातकोत्तर महाविद्यालय (Bachelor and postgraduate college) तथा अन्य संस्थान थे। राज्य में ज्यादातर स्नातक एवं… Keep Reading

उत्तराखंड में प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा व्यवस्था

उत्तराखंड में प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा व्यवस्था : उत्तराखंड में नई शिक्षा व्यवस्था के तहत प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा को देखने के लिए ब्लॉक स्तर पर बेसिक शिक्षा अधिकारी (Basic Education Officer) एवं माध्यमिक शिक्षा अधिकारी (Secondary Education Officer) की व्यवस्था है। जिला स्तर (District Level) पर एक जिला शिक्षा अधिकारी (District Education Officer) और उसके… Keep Reading

उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था

उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था (Education System in Uttarakhand) : उत्तराखंड राज्य गठन के बाद प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा (Primary and Secondary Education) को एकीकृत कर दिया गया और इसके प्रशासन के लिए एक निदेशालय का गठन किया गया। लेकिन 2011 में प्राथमिक, माध्यमिक व अकादमिक शोध प्रशिक्षण हेतु अलग निदेशालयों का गठन किया गया। हिमालय का… Keep Reading

उत्तराखंड में ऊर्जा के स्रोत व विद्युत परियोजनाएं

उत्तराखंड में खनिज (Mineral), कोयला (Coal), पेट्रोलियम (Petroleum) आदि की कमी होते हुए भी जल का अपार भंडार (Boundless Store) है, जिस कारण जल विद्युत (Hydro-power) की व्यापक संभावनाएं है। Keep Reading

उत्तराखंड में परिवहन के साधन

उत्तराखंड में परिवहन के साधन (Transportation ways & modes available in Uttarakhand state) : उत्तराखंड राज्य में प्रयुक्त परिवहन साधनो का संक्षिप्त वर्णन निम्न है — उत्तराखंड परिवहन तंत्र सड़क तंत्र उत्तराखंड राज्य की जटिल भौगोलिक संरचना (Complex Geological Structure) होने के कारण राज्य के लगभग 40% भू-भाग पर अभी भी सड़कों का विकास न होने के बावजूद… Keep Reading

उत्तराखंड के प्रमुख अनुसूचित जनजातियों का संछिप्त परिचय

उत्तराखंड के प्रमुख अनुसूचित जनजातियों का संछिप्त परिचय: उत्तराखंड राज्य की प्रमुख अनुसूचित जनजातियाँ  जौनसारी, थारू, भोटिया, बोक्सा और राजी हैं। उत्तराखंड राज्य में प्रमुख अनुसूचित जनजातियों (Scheduled Tribes) की शारीरिक संरचना, उत्पत्ति, निवास स्थल, व्यवसाय तथा सामाजिक व्यवस्था आदि का संक्षिप्त परिचय निम्नलिखित है — उत्तराखंड की प्रमुख अनुसूचित जनजातियाँ 1. जौनसारी (Jaunsari) जौनसारी उत्तराखंड राज्य का दूसरा सबसे… Keep Reading

उत्तराखंड में अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या

उत्तराखंड अनुसूचित जनजाति जनसंख्या (Uttarakhand Scheduled Tribes Population) : अनुसूचित जनजाति (Tribes) शब्द सबसे पहले भारत के संविधान में इस्तेमाल हुआ था। अनुच्छेद 366 (25) में अनुसूचित जनजातियों को “ऐसी जनजातियां (Tribes) या जनजाति समुदाय या इनमें सम्मिलित जनजाति समुदाय के भाग या समूहों को संविधान के प्रयोजनों हेतु अनुच्छेद 342 के अधीन अनुसूचित जनजातियां… Keep Reading

उत्तराखंड की अनुसूचित जातियां

Uttarakhand Scheduled Castes उत्तर प्रदेश सरकार ने 18 सितम्बर (September) 1976 को उन्हीं 66 जातियों को अनुसूचित जाति (Scheduled Caste) की श्रेणी में सम्मिलित किया, जिन्हे संविधान में रखा गया था। अग्रणी संसोधन 2000 में उत्तराखण्ड के लिए भी सूची जारी की गई, जिसमें ‘रावत (Rawat)’, जो कि 61वें क्रम में थे को हटा दिया… Keep Reading

1 144 145 146 147 148 151