जेम्स एडवर्ड जिम कॉर्बेट

एडवर्ड जिम कार्बेट का जन्म 25 जुलाई, 1875 को नैनीताल में हुआ था। तब नैनीताल सयुंक्त प्रान्त का एक पहाड़ी जिला था, जो ब्रिटिश शासन के अधिन था। उनके पिता का नाम क्रिस्टोफर विलियम कार्बेट तथा माता का नाम मैरी जेन कार्बेट था। Keep Reading

देवकीनन्दन पाण्डे – कुमाऊँ के गाँधी

देवकीनंदन का जन्म कानपुर में हुआ, उनके पिता शिवदत्त पाण्डे अपने क्षेत्र के जाने-माने डॉक्टर थे। मूलरूप से पाण्डे परिवार कुमाऊँ का था। देवकीनंदन पाण्डे अपने स्कूली दिनों में मेधावी छात्र नहीं रहे लेकिन वे कभी भी अपनी कक्षा में फेल नहीं हुए। Keep Reading

राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स (07 जनवरी 2017 – 14 जनवरी 2017)

14वें प्रवासी भारतीय दिवस (14thPravasi Bhartiya Divas) सम्मेलन का उद्घाटन 8 जनवरी 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया। विदेशों में रह रहे भारतीयों के महत्व को रेखांकित करने वाले इस वार्षिक सम्मेलन का यह नवीनतम आयोजन बेंगलूरू (Bengaluru) में किया जा रहा है। विस्तार :- प्रवासी भारतीयों के देश के विकास में योगदान करने… Keep Reading

उत्तराखंड करेंट अफेयर्स 07 जनवरी 2017 – 14 जनवरी 2017

औली में 19 फरवरी से नेशनल जूनियर स्कीइंग चैंपियनशिप। विस्तार :- जोशीमठ के औली में इस वर्ष 19 से 22 फरवरी तक जूनियर नेशनल स्कीइंग चैपियनिशप आयोजित होने वाली है। आयुक्त विनोद शर्मा ने कहा जूनियर नेशनल चैपियनशिप मे देश के 13 से अधिक राज्यों के भाग लेने की उम्मीद है। उत्तराखंड में नया रेडियो ट्रांसमीटर… Keep Reading

बागेश्वर का उत्तरायणी मेला

बागेश्वर का उत्तरायणी मेला पुरे उत्तराखंड में प्रसिद्ध है। इस मेले का आयोजन उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले में सरयू नदी के तट पर किया जाता है। इतिहासकारों के अनुसार माघ मेले (उत्तरायणी मेले) की शुरूआत चंद वंशीय राजाओं के शासनकाल से हुई। Keep Reading

घुघुतिया त्यार – मकर संक्रान्ति (उत्तरायणी)

मकर संक्रान्ति का त्यौहार पूरे भारतवर्ष में बड़ी ही धूम-धाम से देश देश के कई हिस्सों में इस त्यौहार को कई अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है। पोंगल, लोहड़ी जैसे कई ऐसे ही त्यौहार हैं जिन्हें लोग अपने रीति-रिवाजों एवं अपनी पारम्परिक मान्यताओं के अनुसार मानते हैं। Keep Reading

रानी कर्णावती – नाक कटी रानी (नक्कटी रानी) की कहानी

रानी कर्णावती, पवांर वंश के राजा महिपतशाह की पत्नी थी। उनके जन्म व जन्मस्थान के सम्बंधित कोई भी ठोस जानकारी उपलब्ध नही है। यह वही महिपतशाह थे जिनके शासन में माधोसिंह जैसे सेनापति हुए थे। Keep Reading

माधो सिंह भंडारी की अविस्मरणीय कहानी

माधो सिंह भंडारी जिन्हें माधो सिंह मलेथा भी कहा जाता है। उनका जन्म सन 1595 के आसपास टिहरी जनपद के मलेथा गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम सोणबाण कालो भंडारी था। जो वीरता के लिए प्रसिद्ध थे। Keep Reading

जिया रानी – मौला देवी

जिया रानी का बचपन का नाम मौला देवी था। वो हरिद्वार (मायापुर) के राजा अमरदेव पुंडीर की पुत्री। थी। सन 1192 में देश में तुर्कों का शासन स्थापित हो गया था। Keep Reading

तीलू रौतेली- (गढ़वाल की झाँसी की रानी)

गढ़वाल की एक ऐसी वीरांगना जो केवल 15 वर्ष की उम्र में रणभूमि में कूद पड़ी थी और सात साल तक जिसने अपने दुश्मन राजाओं को छठी का दूध याद दिलाया था। गढ़वाल की इस वीरांगना का नाम था 'तीलू रौतेली'। Keep Reading

1 91 92 93 94 95 103