कम्प्यूटर के प्रकार

कंप्यूटर को उनके आकर, प्रकार व उनके कार्य करने की क्षमता के आधार पर विभाजित किया जा सकता है। जो निम्नलिखित है : –

एप्लीकेशन के आधार पर (According To Application)

एप्लीकेशन के आधार पर कंप्यूटर तीन प्रकार के होते हे।

  1. Analog Computer: जो भोतिक मात्राओं को नापने का कार्य करते है। एनालॉग कम्प्यूटर का प्रयोग विज्ञान एवं Engineering के क्षेत्र में किया जाता है। क्योकि इन क्षेत्रों में परिमाप का प्रयोग अधिक होता है।
  2. Digital Computer: यह कम्प्यूटर अंको की गणना करते है। अधिकांशतः कम्प्यूटर डिजिटल कम्प्यूटर डिलिटल कम्प्यूटर ही होते है।
  3. Hybrid Computer: वे कम्प्यूटर जो एनालॉग एवं डिजिटल कम्प्यूटर दोनों का कार्य करते है।उदाहरण– Petrol Pump यह Pertrol आदि को नापता है और उसके मूल्य की गणना भी करता है।

उद्देश्य के आधार पर (According to Purpose)

उद्देश्य के आधार पर कम्प्यूटर दो प्रकार के होते है।


  1. General Purpose Computer: जिससे सामान्य कार्य किये जाते है। इसका प्रयोग घरों एवं दुकानों में किया जाता है।
  2. Special Purpose Computer: यह कम्प्यूटर विशेष कार्य के लिये तैयार किये जाते है। इनका प्रयोग निम्न क्षेत्रों में किया जाता है। जैसे मौसम विज्ञान, कृषि विज्ञन, युद्ध, एवं अंतरिक्ष आदि विज्ञान में इसका प्रयोग होता है।

आकार एवं कार्य करने के आधार पर (According To Size and Speed)

आकर व कार्य करने की गति व क्षमता के आधार पर कम्प्यूटर निम्नप्रकार के होते है।

  1. Micro Computer:- यह कम्प्यूटर आकर में छोटे होते है। इन कम्प्यूटर का विकास 1970 के दशक में हुआ था। इन कम्प्यूटर में माइको प्रोसेसर का प्रयोग किया जाता था। इन कम्प्यूटर्स को PC भी कहा जाता है।
    PC को निम्न भागों में बाँटा गया है।

    • Desktop Computer
    • Laptop Computer
    • Palmtop Computer
    • Notebook Computer
    • Tablet Computer

Desktop Computer 

Desktop Computer

Desktop Computer वे कम्प्यूटर होते है। जिनको टेबिल पर रखकर चलाया जाता है।

Laptop Computer

Laptop Computer

Laptop Computer वे होते है। जिनको गोदी में रखकर चलाया जाता है। यह साईज में बहुत छोटे होते है। इन कम्प्यूटरर्स को एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से ले जा सकते है। इनमें पावर के लिये बैटरी का प्रयोग होता है।

Palmtop Computer

Palmtop Computer

यह कम्प्यूटर Laptop Computer से छोटे होते है। जिनको हथेली में रखकर चलाया जाता है। इनकी कार्य करने की क्षमता लेपटॉप से थोडी कम होती है।

Notebook Computer

Notebook Computers

Notebook computer Laptop Computer के समान होते ही होते हैं।

Tablet Computer

Tablet Computer

यह कम्प्यूटर बहुत ही छोटे कम्प्यूटर होते है। यह मोबाईल से थोड़े बड़े होते है। यह टचस्कीन होते है।

  1. Workstation Computer- Workstation Computer का प्रयोग छोटे व्यापार में सर्वर के रूप में किया जाता है। इनकी कार्य करने की क्षमता माईको कम्प्यूटर की अपेक्षा अधिक होती है।
  2. Mini Computer- यह वो कम्प्यूटर होते है जो बड़ी कम्पनीयों एवं सरकारी ऑफिस में सर्वर कम्प्यूटर के कार्य के लिये प्रयोग किये जाते है।
    PDP-8 First Mini Computer जिसका विकास 1965 में किया गया था। इसे DEC Company ने बनाया था। DEC का पूरा नाम Digital Equipment Corporation है।
  1. Mainframe Computer:– यह वह कम्प्यूटर है, जो बड़ी-बड़ी कम्पनीयों एवं सरकारी ऑफिस में सर्वर कम्प्यूरट के कार्य के लिये प्रयोग किये जाते है। इन कम्प्यूटरस में माईको कम्प्यूटर का प्रयोग Client के तौर पर किया जाता है। कुछ Mainframe Computer निम्न है ।
    IBM 4381, ICL39, CDC Cyber etc.
  1. Super Computer– सुपर कम्प्यूटर विशेष प्रकार के कम्प्यूटर होते है। इनका निर्माण विशेष कार्य के लिये किया जाता है। यह दुनिया के सबसे तेज और बडे कम्प्यूटर होते है।
    भारत का पहला सुपर कम्प्यूटर परम है।
    सुपर कम्प्यूटर के कार्य-

    1. अंतरिक्ष यात्रा के लिये
    2. मौसम विज्ञान की जानकारी ज्ञात के लिये
    3. युद्ध के लिये
You may also like :

3 Comments

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*