UKPSC assistant engineer solved Agricultural Engineering-2 paper 2007

UKPSC सहायक इंजीनियर साल्व्ड Agricultural Engineering-2 पेपर 2007

121. उथले कुओं के बीच की दूरी निम्न से कम नहीं होनी चाहिये :
(a) 50 मीटर
(b) 16 मीटर
(c) 26 मीटर
(d) 36 मीटर

Show Answer

Answer– b

Hide Answer


122. भूगर्भ जल-बहाव के लिये द्रव-चलित प्रतिरोध की इकाई होती है
(a) ओह्म
(b) ओह्म प्रति मीटर
(c) दिन
(d) मीटर

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

123. समान भौम जल-स्तर के बिन्दुओं को मिलाने से बनी रेखा को कहते हैं
(a) आइसोबार रेखा
(b) आइसोबाथ रेखा
(c) आइसोथर्म रेखा
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Show Answer

Answer– b

Hide Answer

124. एक कुएँ के ब्यास को दोगुना कर देने से कुएँ के पानी की वृद्धि (यील्ड) हो सकती है
(a) 10 प्रतिशत
(b) 20 प्रतिशत
(c) 30 प्रतिशत
(d) 40 प्रतिशत

Show Answer

Answer– a

Hide Answer

125. एक कैविटी टाइप के कुएँ में
(a) कोई जाली नहीं होती है।
(b) पीतल की जाली होती है।
(c) बाँस की जाली होती है।
(d) लोहे की जाली होती है।

Show Answer

Answer– a

Hide Answer

126. निम्न में से किसमें ऊपरी अप्रवेश्य (इम्परमियेबल) पर्त होती है ?




(a) बन्द जलदायी स्तर
(b) खुली जलदायी स्तर
(c) उपरोक्त दोनों
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Show Answer

Answer– a

Hide Answer

127. एक मृदा-द्रव्यमान की सरन्ध्रता अनुपात होती है
(a) रिक्त आयतन तथा मृदा द्रव्यमान का।
(b) रिक्त आयतन तथा ठोस आयतन का।
(c) ठोस आयतन तथा मृदा आयतन का।
(d) मृदा आयतन तथा रिक्त आयतन का।

Show Answer

Answer– a

Hide Answer

128. एक बन्द जलदायी संस्तर की संचरणशीलता (T) का सम्बन्ध जलभृत की मोटाई “B” तथा चल-जलीय चालकता ‘K’ से सम्बन्ध होता है
(a) T = B/K का
(b) T = K/B का
(c) T = K-B का
(d) T = K +B का

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

129. एक सिंचाई की आयताकार नाली की सबसे मितव्ययी अनुप्रस्थ काट होना चाहिये
(a) गहराई = चौड़ाई की दोगुनी
(b) गहराई = चौड़ाई की आधी
(c) गहराई = चौड़ाई
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Show Answer

Answer– b

Hide Answer

130. एक 20 लीटर प्रति सेकण्ड की जलधारा सिंचाई के लिये उपलब्ध है। एक हेक्टेयर खेत में 4 से.मी. पानी लगाना है। इस जलधारा से सिंचाई करने में समय लगेगा
(a) 5.55 घंटे
(b) 6.55 घंटे
(c) 4.55 घंटे
(d) 3.55 घंटे

Show Answer

Answer– a

Hide Answer

131. किसी विशेष स्थान पर धान की फसल का वाष्पन – वाष्पोत्सर्जन 99.80 से.मी. है तथा प्रभावी वर्षा जल 75.50 से.मी. है। यदि सिंचाई-दक्षता 60 प्रतिशत है, तो सिंचाई की आवश्यकता होगी
(a) 80.83 सेन्टीमीटर
(b) 70.83 सेन्टीमीटर
(c) 60.83 सेन्टीमीटर
(d) 90.83 सेन्टीमीटर

Show Answer

Answer– b

Hide Answer

132. जब दो अपकेन्द्रीय पम्पों को एक श्रृंखला में चलाते हैं, तो पम्प के पानी का निस्सरण
(a) बढ़ जाता है।
(b) घट जाता है।
(c) समान रहता है।
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं।

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

133. एक मोल-हल का प्रयोग किया जाता है
(a) भूमि की जुताई के लिये।
(b) भूमि की हैरोइंग के लिये।
(c) भूमि से जल-निकासी के लिये।
(d) भूमि में मेंड़ बनाने के लिये।

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

134. भारतवर्ष की मुख्य नहरों की जल-बहाव क्षमता सामान्यतया बदलती पायी जाती है
(a) 110 से 230 क्यूसेक तक
(b) 110 से 230 क्यूसेक तक
(c) 280 से 425 क्यूसेक तक
(d) 280 से 425 क्यूसेक तक

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

135. हेरिंगबोन प्रतिरूप देखा जाता है
(a) सतही जल-निकासी प्रणाली में।
(b) सतही सिंचाई प्रणाली में।
(c) टाइल जल-निकासी प्रणाली में।
(d) उपरोक्त में से कोई भी नहीं।

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

136. किसी फसल का वास्तविक वाष्पन वाष्पोत्सर्जन सामान्यतः होता है
(a) विभव-वाष्पन वाष्पोत्सर्जन के बराबर
(b) विभव-वाष्पन वाष्पोत्सर्जन से कम
(c) विभव-वाष्पन वाष्पोत्सर्जन से अधिक
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं।

Show Answer

Answer– b

Hide Answer

137. भूमिगत जल निकास हेतु टाइल-ड्रेनेज का समीकरण जो कि “हुगहाउट” द्वारा विकसित है, वह निम्न समीकरण पर आधारित है
(a) मैनिंग समीकरण
(b) डार्सी समीकरण
(c) चेजी समीकरण
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Show Answer

Answer– b

Hide Answer

138. मृदा में गुरुत्वीय पानी की धीरे-धीरे पार्श्वीय गति को कहते हैं
(a) अंतःस्रवण (परकॉलेशन)
(b) अंतःस्पन्दन (इन्फिल्ड्रेशन)
(c) रिसव (सीपेज)
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Show Answer

Answer– c

Hide Answer

139. मानक अमेरिकन वीदर ब्यूरो का क्लास “A” पैन जो कि वाष्पीकरण मापने के लिये प्रयोग होता है, उसका औसत पैन गुणांक होता है
(a) 0.85
(b) 0.70
(c) 0.90
(d) 0.80

Show Answer

Answer– b

Hide Answer

140. यदि किसी मृदा की परस्पर लम्बवत दिशाओं में पारगम्यता गुणांक (कॉइफिशन्ट ऑफ परमियाबिलिटी) K1 तथा K2 है, तो मृदा का प्रभावी पारगम्यता-गुणांक होगा
(a) K1 + K2
(b) K1 / K2
(c) K1 × K2
(d) (K1 × K2)1/2

Show Answer

Answer– d

Hide Answer

You may also like :

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*