Uttarakhand Review officer RO-ARO MAIN solved exam paper

उत्तराखंड RO/ARO MAIN एग्जाम पेपर 2017 (SOLVED)

81. निम्न में कौन सा भूसंतुलन का उदाहारण है ?
(a) अंडमान द्वीपसमूह का निर्माण
(b) पथरीले पहाड़ों का निर्माण
(c) मिसिसिपी मुहाने का संकुचन
(d) सेन एंड्रीयास भ्रश

Show Answer

Answer- D 

Hide Answer


82. निम्नलिखित में से एक प्रोग्रामिंग भाषा नहीं है?


(a) वी. बी. (VB)
(b) सी (C)
(c) ओरेकल (Oracle)
(d) जावा (Java)

Show Answer

Answer- C 

Hide Answer

83. मेमोरी और ए.एल.यू (ALU) के मध्य डाटा का अन्तरण कराती है
(a) रॉम (ROM)
(b) इंटरनेट
(c) कन्ट्रोल यूनिट
(d) रैम (RAM)

Show Answer

Answer- C 

Hide Answer

84. निम्न में से किसे कम्प्यूटर (Computer) का मस्तिष्क कहा जाता है ?
(a) मॉनीटर
(b) माउस
(c) की-बोर्ड (कुंजीपटल)
(d) सी. पी. यू.

Show Answer

Answer- D 

Hide Answer

85. टी. सी. पी. (TCP) का अर्थ है
(a) टेक्सट कंट्रोल प्रोटोकॉल
(b) ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल
(c) ट्रांसमिशन कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल
(d) ट्रांसमिशन कैलिबरेटेड प्रोटोकल

Show Answer

Answer- B 

Hide Answer


86. .html एक उदाहरण है –

(a) डोमेन का
(b) डाटाबेस का
(c) प्रोटोकॉल का




(d) फाइल एक्सटेंशन का

Show Answer

Answer- D 

Hide Answer

87. सामान्यत:, www पेजेज विकसित होते हैं –
(a) यू. आर. एल. (URL)
(b) एच. टी. एम. एल. (HTML)
(c) आई. आर. एस. (IRS)
(d) एफ. टी. पी.  (FTP)

Show Answer

Answer- A 

Hide Answer

88. एक निब्बल बराबर ………… बिट्स है।
(a) 2
(b) 4
(c) 6
(d) 8

Show Answer

Answer- B

Note –
1 Nibble = 4 Bit
1 Byte = 8 Bit
1 Kilobyte (KB) = 1,024 Bytes
1 Megabyte (MB) = 1,024 KB = 1,048,576 Bytes
1 Gigabyte (GB) = 1,024 MB = 1,048,576 KB = 1,073,741,824 (230) Bytes
1 Terabyte (TB) = 1,024 GB = 1,048,576 MB = 1,099,511,627,776 (240) Bytes
1 Petabyte (PB) = 1,024 TB = 1,048,576 GB = 1,073,741,824 MB
1 Exabyte (EB) = 1,024 PB = 1,048,576 TB = 1,073,741,824 GB
1 Zettabyte (ZB) = 1,024 EB = 1,048,576 PB = 1,073,741,824 TB
1 Yottabyte (YB) = 1,024 ZB = 1,048,576 EB = 1,073,741,824 PB

Hide Answer

89. राउटर (Router) किस प्रकार की युक्ति है ?
(a) आगत (Input)
(b) निर्गत (Output)
(c) तंत्रजाल (Networking)
(d) टेलीनेट (Telinet)

Show Answer

Answer- C 

Hide Answer

90.कम्प्यूटर विषाणु (Virus) प्रभावित करता है
(a) सॉफ्टवेयर को
(b) हार्डवेयर को
(c) कम्प्यूटर भाषा को
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Show Answer

Answer- A

Hide Answer

91. किस सातवाहन राजा ने स्वयं एकब्राह्मण की उपाधि धारण की थी ?
(a) यज्ञश्री शातकणों
(b) शातकर्णी
(c) गौतमीपुत्र शातकर्णी
(d) वशिष्ठीपुत्र शातकर्णी

Show Answer

Answer- C
Note – गौतमी पुत्र श्री शातकर्णी को एक ब्राह्मण (अद्वितिय ब्राह्मण) तथा खतिय-दप-मान-मदन अर्थात क्षत्रियों का मान मर्दन करने वाला आदि उपाधियों से सुशेभित किया है।

Hide Answer

92. वैदिक काल में ‘बलि’ शब्द का क्या अर्थ है ?
(a) बलिदान
(b) बैल
(c) आनुवंशिक
(d) प्रजा द्वारा शासक को दी गई भेंट

Show Answer

Answer- D
Note – ऋग्वैदिक काल में बलि एक स्वेच्छाकारी कर था, जो की उत्तर वैदिक काल में नियमित कर बन गया।

Hide Answer

93. कौन से बौद्ध ग्रंथ में ‘सोलह महाजनपद’ का उल्लेख मिलता है ?
(a) अंगुत्तर निकाय
(b) महावंश
(c) दीघ निकाय
(d) महावग्गा

Show Answer

Answer- ANote – बौद्ध ग्रन्थ अंगुत्तर निकाय, महावस्तु मे 16 महाजनपदों का उल्लेख है।

Hide Answer

94. बुलन्द दरवाजा किसके द्वारा बनवाया गया था ?
(a) अकबर
(b) जहाँगीर
(c) शाहजहाँ
(d) बाबर

Show Answer

Answer- A

Note – आगरा शहर से 43 किमी दूर फतेहपुर सीकरी नामक स्थान पर स्थित है। इसका निर्माण अकबर ने 1602 में करवाया था। अकबर की गुजरात पर जीत के स्मारक के रूप में इसे बनवाया गया था।

Hide Answer

95. निम्नलिखित में से किस शासक ने भारत में सर्वप्रथम ‘इक्ता’ प्रारंभ किया था ?

(a) इल्तुत्मिश
(b) बलबन
(c) अलाउद्दीन खलजी
(d) रजिया

Show Answer

Answer- A

Note – इक्ता व्यवस्था दिल्ली सल्तनत की एक मुख्य विशेषता थी। इसका मुख्य उद्देश्य भारत में प्रचलित सामन्ती प्रथा को नष्ट करना और साम्राज्य के दूरस्थ प्रदेश को केन्द्र से जोड़ना था। इसका प्रारंभ इल्तुतमिश के शासनकाल में हुआ। दिल्ली सल्तनत अनेक प्रान्तों में बँटी थी, जिसे ‘इक्ता’ कहा जाता था।

Hide Answer

96. भारत में मनसबदारी व्यवस्था किसने प्रारम्भ की ?
(a) शाहजहाँ
(b) जहाँगीर
(c) अकबर
(d) औरंगज़ेब

Show Answer

Answer- C

Note – मंसब की प्रथा का आरंभ सर्वप्रथम अकबर ने सन् 1575 में किया। फ़ारसी में ‘मंसबदार’ का अर्थ है मंसब (पद या श्रेणी) रखनेवाला। मुगल साम्राज्य में मंसब से तात्पर्य उस पदस्थिति से था जो बादशाह अपने पदाधिकारियों को प्रदान करता था। मंसब दो प्रकार के होते थे, ‘जात’ और ‘सवार’।

Hide Answer

97. कबीर का पालन-पोषण एक मुसलिम जुलाहे ने किया था जिसका नाम था :
(a) रहीम
(b) रामानन्द
(c) नीरू
(d) चैतन्य

Show Answer

Answer- C

Hide Answer

98. ‘चौखम्भा सिद्धान्त’ के अग्रणीय सिद्धान्तकार कौन थे ?
(a) एम.जी. रानडे
(b) महात्मा गाँधी
(c) राम मनोहर लोहिया
(d) एनी बेसेन्ट

Show Answer

Answer- C

Hide Answer

99.वहाबी आन्दोलन का मुख्य उद्देश्य क्या था ?
(a) अंग्रेजों से अच्छे सम्बन्ध
(b) इस्लाम का शुद्धीकरण
(c) अंग्रेजी शिक्षा का समर्थन
(d) सामाजिक सुधारों का विरोध

Show Answer

Answer- DNote – वहाबी विद्रोह 1828 ई. से प्रारम्भ होकर 1888 ई. चलता रहा था। इतने लम्बे समय तक चलने वाले ‘वहाबी विद्रोह’ के प्रवर्तक रायबरेली के ‘सैय्यद अहमद’ थे। इस आन्दोलन का मुख्य केन्द्र पटना शहर था। यह आन्दोलन मूल रूप से मुस्लिम सुधारवादी आन्दोलन था, जो उत्तर पश्चिम, पूर्वी भारत तथा मध्य भारत में सक्रिय था।

Hide Answer

100. निम्न में से किस सामाजिक-धार्मिक आन्दोलन ने दलित वर्ग के संबंध में आवाज उठायी ?
(a) ब्रह्य समाज
(b) प्रार्थना समाज
(c) आर्य समाज
(d) सत्यशोधक समाज

Show Answer

Answer- D

Note – ब्रह्य समाज – ब्रह्म समाज भारत का एक सामाजिक धार्मिक आंदोलन है, जिसने बंगाल के पुनर्जागरण युग को प्रभावित किया। इसके प्रवर्तक, राजा राममोहन राय, अपने समय के विशिष्ट समाज सुधारक थे। 1828 में ब्रह्म समाज को राजा राममोहन और द्वारकानाथ टैगोर ने स्थापित किया था। इसका एक उद्देश्य भिन्न भिन्न धार्मिक आस्थाओं में बँटी हुई जनता को एक जुट करना तथा समाज में फैली कुरीतियों को दूर करना है।

प्रार्थना समाज –  प्रार्थना समाज की स्थापना वर्ष 1867 ई. में बम्बई में आचार्य केशवचन्द्र सेन की प्रेरणा से महादेव गोविन्द रानाडे, डॉ. आत्माराम पांडुरंग, चन्द्रावरकर आदि द्वारा की गई थी। प्रार्थना समाज का मुख्य उद्देश्य जाति प्रथा का विरोध, स्त्री-पुरुष विवाह की आयु में वृद्धि, विधवा-विवाह, स्त्री शिक्षा आदि को प्रोत्साहन प्रदान करना था।

आर्य समाज – दयानंद सरस्वती ने अप्रैल 1875 ई. को बम्बई में आर्य समाज की स्थापना की। इसका उद्देश्य वैदिक धर्म को पुनः शुद्ध रूप से स्थापित करने का प्रयास, भारत को धार्मिक, सामाजिक व राजनीतिक रूप से एक सूत्र में बांधने का प्रयत्न, पाश्यात्य प्रभाव को समाप्त करना आदि था।

सत्यशोधक समाज – सत्यशोधक समाज वर्ष 1875 में ज्योतिबा गोविंदराव फुले द्वारा शुरू किया गया था। इसका मुख्य उद्देश्य ब्राह्मणवाद और उसकी कुरीतियों के विरुद्ध आवाज़ उठाना था।

Hide Answer

इस प्रश्नपत्र को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। नए साल्व्ड पेपर और जॉब अलर्ट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज अवश्य लाइक करें। 

You may also like :

13 Comments

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*