उत्तराखंड की अनुसूचित जातियां

Uttarakhand Scheduled Castes

उत्तर प्रदेश सरकार ने 18 सितम्बर (September) 1976 को उन्हीं 66 जातियों को अनुसूचित जाति (Scheduled Caste) की श्रेणी में सम्मिलित किया, जिन्हे संविधान में रखा गया था। अग्रणी संसोधन 2000 में उत्तराखण्ड के लिए भी सूची जारी की गई, जिसमें ‘रावत (Rawat)’, जो कि 61वें क्रम में थे को हटा दिया गया और शेष 65 की सूची जारी की गई। इनमें अगारिया, बाधिक, बढी, बहेलिया, बैगा, बैसवार, बजानिया, बाजगी, बालहर, बलाई बाल्मीकि, बंगाली, बनमानुस, बाँसफोड़, बरवार बसोड़, बवारिया, बेलदार, बेरिया, भान्तू, भुयाँ, भुयाँर, बोरिया, चमार, धूसिया, झूरिया, जाटव (चारों एक ही क्रम में), छेरो, डबगार, घनगार, धानुक, धारकार, धोबी, डोम, डोगार, डुसाप, पारमी, घारिया, गोण्ड, ग्वान, हबूरा, हरी, हेत्ता, कलाबाज, कंजड़, कपाडि़या, काड़वाल, खरैता, खरनाड़, खटीक, खरोत, कोल, कोड़ी, कोरखा, लालकेगी, मझवार, मजहबी, मुसाहर, नट, पन्खा, पहाडि़या, पासी, तरमाली, पातरी, सहारिया, सनौरहिया, सनसिया, शिल्पकार तथा तुरहा है। इन जातियों में उत्तराखण्ड की जातियों-उपजातियों (Sub castes) के नाम नहीं है, लेकिन उत्तराखण्ड की लगभग सभी जातियाँ शिल्पकार (Tradesman) की श्रेणी में सम्मिलित है। इसी का उल्लेख करते हुए अनुसूचित जाति के प्रमाण पत्र भी जारी किए जाते है। सभी जातियों, उपजातियों को सूचीबद्ध करना श्रमसाध्य (Laborious) कार्य है। तो जो सूची जारी की गई है, उसी को यदि अक्षरशः माना जाए तो एक प्रतिशत लोग भी इसके अन्तर्गत नहीं आ पायेंगे। शिल्पकार कोई एक नहीं बल्कि सभी जातियों को शिल्पकार कहा गया है। उसी के अन्तर्गत उत्तराखण्ड की सभी दलित जातियों को अनुसूचित जाति के अन्तर्गत रखा गया है।

राज्य के जिलों में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या और उनकी प्रतिशत को निम्नलिखित दर्शाया गया है :-

जिलेंSC जनसँख्या प्रतिशत
पिथौरागढ़ (Pithoragarh)1,20,37824.90
बागेश्वर (Bagehwar)72,06127.73
अल्मोड़ा (Almora)1,50,99524.25
चम्पावत (Champawat)47,38318.25
नैनीताल (Nainital)1,91,20620.03
उधमसिंह नगर (Udham Singh Nagar)2,38,26414.45
हरिद्वार (Haridwar)4,11,27421.76
उत्तरकाशी (Uttarakashi)80,56724.41
चमोली (Chamoli)79,31720.25
रुद्रप्रयाग (Rudrapryag)47,67919.68
टिहरी (Tehri)1,02,13016.50
देहरादून (Dehradun)2,28,90113.49
पौड़ी (Pauri)1,22,36117.80

 आरक्षण (Reservation)

  • लोकसभा (Lok Sabha) की 5 सीटों में एक अल्मोड़ा (Almora), अनुसूचित जातियों (Schedule cast) हेतु आरक्षित है।
  • राज्य विधानसभा (Assembly) में कुल 70 सीटों में से 13 सीटें अनुसूचित जातियों (Tribe) के लिए सुरक्षित है।
  • राज्य विधान सभा की सुरक्षित सीटें इस प्रकार है- ज्वालापुर, भगवानपुर एवं झबरेड़ा (हरिद्वार), चकराता व राजपुर (देहरादून), बाजपुर (उधमसिंह नगर), पौड़ी (पौड़ी), घनसाली (टिहरी), पुरोला (उत्तरकाशी), थराली (चमोली), नैनीताल (नैनीताल), सोमेश्वर (अल्मोड़ा), बागेश्वर (बागेश्वर) एवं गंगोलीहाट (पिथोरागढ) है।
  • जुलाई (July) 2001 के शासनादेश (Mandate) के अनुसार राजकीय सेवाओं (State Service), शिक्षण संस्थाओं (Institutional Service), सार्वजनिक उद्यमों (Public Service ), निगमों (Private) आदि में अनुसूचित जातियों के लिए 19% आरक्षण का प्रावधान (Provision) है।
Uttarakhand GK Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

14 Comments

  1. Dear Sir,

    I am looking for some information related to Hurkiya community. Which though are mentioned to be categorised under SC, but the community does not find name mentioned in the list of SC.

    I would like to know the number of people in the Hurkiys (Hindu) community in the state of Uttarakhand.
    And where are they located.
    What are the different caste under which Hurkiya community can be identified.

    Thanks

    Jyoti

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*