Uttarakhand State Famous Glaciers of Garhwal and Kumaon Uttarakhand

उत्तराखंड के प्रमुख ग्लेशियर व हिमनद

उत्तराखंड के प्रमुख ग्लेशियर व हिमनद : उत्तराखंड का 86 प्रतिशत भाग पहाड़ी है इसलिए यहाँ पर बहुतायत मात्रा में हिमनद व ग्लेशियर पाए जाते हैं। उत्तराखंड राज्य के ग्लेशियर एक आकर्षण का केंद्र हैं एवं पर्यटन दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं।

हिमालय का वह ऊंचाई में स्थित क्षेत्र, जिन पर हिमखंडों के खिसकने, गलने आदि प्रक्रियाएं होती हैं, उन्हें हिमनद या हिमानिया या बर्फ की नदियां कहते हैं।

 


उत्तराखंड के प्रमुख ग्लेशियर

ग्लेशियरस्थान
मिलम ग्लेशियरपिथौरागढ़
काली ग्लेशियरपिथोरागढ़
नामिक ग्लेशियरपिथोरागढ़
हीरामणि ग्लेशियरपिथौरागढ़
पिनौरा ग्लेशियरपिथौरागढ़
पोंटिंग ग्लेशियरपिथोरागढ़
सुखराम ग्लेशियरबागेश्वर
पिंडारी ग्लेशियरबागेश्वर
कफनी ग्लेशियरबागेश्वर
यमुनोत्री ग्लेशियरउत्तरकाशी
गंगोत्री ग्लेशियरउत्तरकाशी
डोरियानी ग्लेशियरउत्तरकाशी
बंदरपूंछ ग्लेशियरउत्तरकाशी
खतलिंग ग्लेशियरटिहरी और रुद्रप्रयाग
चौराबाड़ी ग्लेशियररुद्रप्रयाग
केदारनाथ ग्लेशियररुद्रप्रयाग
दूनागिरी ग्लेशियरचमोली
बद्रीनाथ ग्लेशियरचमोली
सतोपंथ ग्लेशियरचमोली

 

उत्तराखंड राज्य के कुछ प्रमुख हिमनदों की जानकारी —

गंगोत्री हिमनद (Gangotri Glacier)

  • लम्बाई – 30 किलोमीटर
  • चौड़ाई –  2 किलोमीटर

उत्तरकाशी जिले में स्थित हैं। यह राज्य का सबसे बड़ा हिमनद है, यह कई हिमनदों से जुड़ा हुआ है, इस हिमनद के गौमुख से भागीरथी नदी निकलती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह हिमनद प्रतिवर्ष 22.23 मीटर पीछे खिसक रहा है।


पिंडारी हिमनद (Pindari Glacier)

  • लम्बाई – 30 किलोमीटर
  • चौड़ाई – 400 मीटर

यह कुमाऊं मंडल के बागेश्वर, पिथौरागढ़ तथा गढ़वाल मंडल के चमोली क्षेत्र में स्थित है। यह राज्य का दूसरा सबसे बड़ा ग्लेशियर है, यह त्रिशूल, नंदादेवी, नंदाकोट शिखरो के मध्य स्थित है। यहां पर मोनाल, कस्तूरी मृग, ब्रह्मकमल तथा भोजपत्र के वृक्ष मिलते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि पिछले 40 वर्षों में यह हिमनद अपने मूल स्थान से आधा किलोमीटर नीचे खिसका है।


मिलम हिमनद (Milam Glacier)

  •  लम्बाई – 16 किलोमीटर

यह हिमनद पिथौरागढ़ के मुनस्यारी तहसील में स्थित है, यह हिमनद शुद्ध रूप से कुमाऊ मंडल का सबसे बड़ा ग्लेशियर है, इस ग्लेशियर से पिंडर की सहायक नदी मिलम व काली की सहायक नदी गोरी गंगा निकलती है। यहां जाने के लिए सरकार की अनुमति लेनी पड़ती है।


सतोपंथ व भागीरथी हिमनद (Satopanth and Bhagirathi Glacier)

  • लम्बाई – 13 – 18 किलोमीटर

यह दोनों ग्लेशियर बद्रीनाथ से 17 किलोमीटर की दूरी पर नीलकंठ पर्वत के पूर्वी भाग में आराम कुर्सी की भांति स्थित है, इस स्थान को अलकापुरी कहा जाता है।


खतलिंग हिमनद (Khatling Glacier)

यह केदारनाथ से लगभग 10 किलोमीटर पश्चिम पर स्थित है, इस हिमनद की प्रमुख चोटियों जोगिन, स्फटिक ,बार्त कौटर तथा कीर्ति स्तंभ है।


चोराबाड़ी हिमनद (Chorabari Glacier)

हिमनद केदारनाथ मंदिर से लगभग 3 किलोमीटर पूर्व में स्थित है, जिसकी लंबाई 14 किलोमीटर है, इस हिमनद से अलकनंदा की सहायक नदी मंदाकिनी निकलती है। इस हिमनद के निकट गांधी सरोवर स्थित है।


बंदरपूंछ हिमनद (Bandarpunch Glacier)

यह हिमनद उत्तरकाशी जिले में बंदरपूंछ पर्वत के उत्तरी ढाल पर स्थित हैं, इसकी लंबाई 12 किलोमीटर है।

 

पढ़ें उत्तराखंड राज्य की प्रमुख ताल व झीलें एवं उनकी विस्तृत जानकारी

You may also like :

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*