उत्तराखंड राज्य के पारंपरिक परिधान

उत्तराखंड राज्य के पारंपरिक परिधान

उत्तराखंड राज्य के पारंपरिक परिधान ( उत्तराखंड का पहनावा एवं उत्तराखंड की लोक संस्कृति ) : उत्तराखण्ड में मूलतः दो प्रकार के पारंपरिक परिधान पाए जाते हैं, एक कुमाऊनी परिधान (Kumauni Apparel) और दूसरे गढ़वाली परिधान (Garhwali Apparel)। क्योंकि उत्तराखंड राज्य मूलतः दो भागों में बटा हुआ है – कुमाऊँ (Kumaon) और गढ़वाल (Garhwal)। इसलिए यहाँ के पारंपरिक परिधान भी मूलतः दो ही प्रकार के पाए जाते हैं। 

उत्तराखंड की लोक संस्कृति

उत्तराखंड के पारम्परिक परिधान

कुमाऊ व गढ़वाल क्षेत्र के लोगों द्वारा पहनें जाने वाले पारम्परिक परिधान इस प्रकार है –

  • कुमाऊनी पुरुषों के परिधान :-   धोती, पैजामा, सुराव, कोट, कुर्त्ता, भोटू, कमीज मिरजै, टांक (साफा) टोपी आदि।
  • कुमाऊनी स्त्रियों के परिधान :-  घागरा, लहंगा, आंगडी, खानू, चोली, धोती, पिछोड़ आदि।
  • कुमाऊनी बच्चों की परिधान :-   झगुली, झगुल कोट, संतराथ आदि।
  • गढ़वाली पुरुषों के परिधान :- धोती, चूड़ीदार पैजामा, कुर्त्ता, मिरजई, सफेद टोपी, पगडी,  बास्कट, गुलबंद आदि।
  • गढ़वाली स्त्रियों के परिधान :- आंगड़ी, गाती, धोती, पिछवाड़ा आदि।
  • गढ़वाली बच्चों के परिधान :- झगुली, घाघरा, कोट, चूड़ीदार पजामा, संतराथ आदि।

उत्तराखंड के प्रमुख पारम्परिक आभूषण (Ornament / Jewellery)

उत्तराखंड के महिलाओं के द्वारा पहने जाने वालें प्रमुख आभूषण इस प्रकार है –

  • माथे पर       –        सीसफुल, बंदी, सुहाग बिन्दी।
  • कान पर       –        मुर्खली (मुर्खी), बुजनी, तुग्यल, मुनाड, मुदुडें।
  • नाक पर       –        फूली, नथुली, बुलांक, फुल्की।
  • गले पर                तिलहरी, चन्द्रहार, लाकेट, हंसुला, सूत, गुलबंद, चरे।
  • कंधे पर        –        स्यूण-सांगल।
  • कमर पर      –        कमर ज्यौड़ि, तगडी (तिगडी)।
  • हाथ पर        –        धगुला, खंडवे, गुंठी, ठ्वाक।
  • कलाई पर    –        पौछी (पहुंची)।
  • बाजू पर       –        गोंखले।
  • पैरो पर        –        पौटा, झांवर, अमिर्तीतार, इमरती, प्वाल्या (विछुवा)।

उत्तराखंड के प्रमुख सांस्कृतिक संस्थान (Cultural Institution)

उत्तराखंड के प्रमुख सांस्कृतिक संस्थान निम्नलिखित है –

  • संस्कृति, साहित्य एवं कला परिषद (Culture, Literature and Arts Council) – देहरादून
  • संस्कृत अकादमी (Sanskrit Academy) – हरिद्वार
  • राज्य अभिलेखागार (State Archives) – देहरादून
  • रंगमण्डल (Repertoire/Rangmandal) – देहरादून व अल्मोड़ा
  • उदय शंकर नृत्य एवं नाट्य अकादमी (Uday Shankar Dance and Drama Academy) – अल्मोड़ा
  • भातखंडे हिंदुस्तानी संगीत संस्थान (Bhatkhande Hindustani Music Institute) –देहरादून
  • लोक कला संस्थान (Folk Art Institute) – अल्मोड़ा

[Image Source – traveltourguru.in]

पढ़ें उत्तराखंड राज्य में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएँ

You may also like :

1 Comment

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*