उत्तराखंड की प्रमुख जल विद्युत परियोजना एवं उनकी क्षमता

उत्तराखंड की प्रमुख जल विद्युत परियोजना एवं उनकी क्षमता

उत्तराखंड जल विद्युत परियोजना (Power Project) : उत्तराखंड की प्रमुख जल विद्युत परियोजना, उत्तराखंड की प्रमुख जल विद्युत परियोजनाएं, वह किस नदी पर स्थित हैं एवं जल विद्युत परियोजनाओं की क्षमता की जानकारी निचे दी गयी है –

उत्तराखंड राज्य की जल विद्युत परियोजनाएं

उत्तराखंड में खनिज, कोयला, पेट्रोलियम आदि की कमी होते हुए भी जल का अपार भंडार है, जिस कारण जल विद्युत की व्यापक संभावनाएं हैं।

केंद्र सरकार के आकलन के अनुसार यदि चीन के अनुरूप लघु जल विद्युत परियोजनाओं को विकसित किया जाए तो, यहां लगभग 40,000 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन किया जा सकता है। इनमें से कुछ परियोजनाएँ इस प्रकार है।

अलकनंदा नदी घाटी

परियोजनाएंनदीस्थान   क्षमता (मेगावाट)
विष्णु गाड़ परियोजनाअलकनंदाचमोली400
राजवाक्ती परियोजनाअलकनंदानंदप्रयाग (चमोली)4.4
बिरही गंगा परियोजनाअलकनंदाचमोली7.2
देवल (चमोली हाइड्रो पॉवर लि.)कालीगंगाचमोली5
ऋषिगंगा परियोजनाऋषिगंगाचमोली13.5
बनाला (हीमा ऊर्जा प्रा.लि.)नंदाकिनी नदीचमोली15
उत्यासू बाँध परियोजनाअलकनंदापौड़ी1000

उत्तराखंड के देव प्रयाग में अलकनंदा और भागीरथी का संगम होता है जिसके बाद अलकनंदा नदी को गंगा नदी के नाम से जाना जाता है।

भागीरथी नदी घाटी की परियोजनाएं

परियोजनाएंनदीस्थान   क्षमता (मेगावाट)
लोहारीनाग-पाला परियोजनाभगीरथीउत्तरकाशी600
मनेरी भाली-1 परियोजनाभगीरथीउत्तरकाशी90
मनेरी भाली-2 परियोजनाभगीरथीउत्तरकाशी304
कोटलीभेल परियोजनागंगा नदीटिहरी100
टिहरी बाँध परियोजनाभगीरथीटिहरी1000
कोटेश्वर बाँध परियोजनाभगीरथीटिहरी400
भिलंगना परियोजनाभिलंगनाटिहरी22.5
भिलंगना 2 परियोजनाभिलंगनाटिहरी24
चिल्ला परियोजनाभागीरथी और अलकनंदापौड़ी144
पथरी परियोजनागंगा नहरहरिद्वार20.4
मोहम्मदपुरगंगा नहरहरिद्वार9.3

भागीरथी नदी उत्तराखण्ड राज्य में बहने वाली एक नदी है जिसे किरात नदी के नाम से भी जाना जाता है। भागीरथी नदी देवप्रयाग में अलकनंदा से मिलकर गंगा नदी का निर्माण करती है। रुद्रागंगा, केदारगंगा, जाडगंगा (जाह्नवी), सियागंगा, असीगंगा, भिलंगना (भिलंगना की सहायक नदियां – मेडगंगा, दूधगंगा,बालगंगा), अलकनंदा आदि भागीरथी नदी की सहायक नदियां हैं।

रामगंगा घाटी की परियोजनाएं

परियोजनाएंनदीस्थान   क्षमता (मेगावाट)
रामगंगारामगंगापौड़ी गढ़वाल198
सूरगरामगंगा7
लोहारखेतरामगंगाबागेश्वर4.8

रामगंगा नदी का उद्गम उत्तराखण्ड के पौड़ी गढ़वाल जिले में दूधातोली नामक पहाड़ी की दक्षिणी ढलानों से होता है।

शारदा नदी घाटी की परियोजनाएं

परियोजनाएंनदीस्थान   क्षमता (मेगावाट)
धौलीगंगाधौलीगंगाधारचूला (पिथौरागढ)280
टनकपुरशारदा नदीटनकपुर (चंपावत)94.5
खटीमाशारदा नदीखटीमा (उधमसिंह नगर)41.4
छिरकिल्लाधौलीगंगाधारचूला (पिथौरागढ)1.5
कुलागाड़काली नदीधारचूला (पिथौरागढ)1.2
कुंच्योतीकाली नदीधारचूला (पिथौरागढ)2

काली नदी को महाकाली, कालीगंगा या शारदा नदी के नाम से भी जाना जाता है। कूटी, धौलीगंगा, गोरी, चमेलिया, रामगुण, लढ़िया आदि काली नदी की प्रमुख सहायक नदियां हैं। काली नदी, सरयू नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है।

यमुना नदी घाटी की परियोजनाएं

परियोजनाएंनदीस्थान   क्षमता (मेगावाट)
छिबरोटोंस नदीसाम्बरखेरा (देहरादून)240
ढकरानीटोंस नदीदेहरादून33.75
ढालीपुरटोंस नदीदेहरादून51
कुल्हालटोंस नदीदेहरादून30
खोदरीटोंस नदीदेहरादून120
ग्लोगीभट्टा फालमसूरी (देहरादून)3
किशाऊ बांध परियोजनाटोंस नदीदेहरादून600

टोंस नदी उत्तराखण्ड के उत्तरकाशी ज़िले के बंदरपूंछ पर्वत के उत्तरी डाल पर स्थित स्वर्गारोहिनी ग्लेशियर से निकलने वाली सूपिन नदी तथा हिमाचल प्रदेश के डोगरा क्वार से निकलने वाली रूपी नदी के मिलने से बनती है जो कुछ दूरी तक तमसा नदी के नाम से जानी जाती है और कालसी में जाकर यमुना नदी में मिल जाती है।

Uttarakhand GK Notes पढ़ने के लिए — यहाँ क्लिक करें

2 Comments

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*