Category archive

Uttarakhand

हिमालय दिवस

हिमालय का लगभग पच्चीस सौ किलोमीटर लम्बे और तीन सौ किलोमीटर चौड़ाई वाले क्षेत्र के स्वास्थ्य की चिन्ता में पिछले कुछ वर्षों से देश भर और खासकर उत्तराखण्ड और हिमाचल प्रदेश में 9 सितम्बर को ‘हिमालय दिवस’ मनाया जा रहा है। उत्तराखण्ड सहित अन्य हिमालयी राज्यों की सरकारें भले ही पूरे साल जल-जंगल-ज़मीन को नुकसान… Keep Reading

उत्तराखंड में संरक्षित प्राचीन स्मारक और धरोहर – देहरादून मंडल द्वारा

उत्तराखण्ड राज्य के गठन के पश्चात्, प्रदेश की प्राचीन धरोहरों/पुरास्थलों के बेहतर रख-रखाव के उद्देश्य से आगरा मण्डल को विभाजित करके दिनांक 16.06.2003 को देहरादून मण्डल की स्थापना हुई। मण्डल के अन्तर्गत 42 राष्ट्रीय महत्व के संरक्षित स्मारक/पुरास्थल हैं, जो उत्तराखण्ड राज्य के 10 जनपदों (देहरादून, उत्तरकाशी, चमोली, हरिद्वार, अल्मोड़ा, बागेश्वर, चम्पावत, पिथौरागढ़, नैनीताल, ऊधमसिंह… Keep Reading


उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्रीमंडल की लिस्ट

उत्तराखंड राज्य में 11 मार्च को चुनाव का परिणाम आने का बाद 16 मार्च को त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ ग्रहण किया साथ ही 10 और मंत्रियों ने भी कैबिनेट मंत्रियों के रूप में शपथ ग्रहण किया। और इनके मंत्रिमंडलों का विभाजन 23 मार्च 2017 को किया गया। कैबिनेट मंत्री त्रिवेन्द्र सिंह… Keep Reading

उत्तराखंड के प्रमुख जल विद्धुत परियोजनाएं व क्षमता

उत्तराखंड राज्य की जल विद्धुत परियोजनाएं       उत्तराखंड में खनिज, कोयला, पेट्रोलियम आदि की कमी होते हुए भी जल का अपार भंडार है, जिस कारण जल विद्युत की व्यापक संभावनाएं हैं। केंद्र सरकार के आकलन के अनुसार यदि चीन के अनुरूप लघु जल विद्युत परियोजनाओं को विकसित किया जाए तो, यहां लगभग 40,000 मेगावाट जल विद्युत… Keep Reading

उत्तराखण्ड का पामीर ‘दूधातोली’

उत्तराखण्ड का ‘पामीर’ कहे जाने वाली तथा चमोली, गढ़वाल एवं अल्मोड़ा जिलों में फैली दूधातोली श्रृंखला बुग्यालों, चारागाहों और सघन वनों (बाँज, खर्सू व उतीश वृक्षों) से आच्छादित 2000-2400 मीटर की ऊंचाई का वन क्षेत्र है। दूधातोली से निकलने वाले नदियाँ दूधातोली से पांच नदियों पश्चिमी रामगंगा, आटागाड़, पश्चिमी व पूर्वी नयार तथा विनो नदी… Keep Reading

उत्तराखंड को विशेष राज्य का दर्जा

उत्तराखंड को विशेष राज्य का दर्जा 2 मई, 2001 को केंद्र सरकार द्वारा उत्तराखंड को 1 अप्रैल, 2001 से विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने का निर्णय लिया गया। इस प्रकार उत्तराखंड देश के उन राज्यों में सम्मिलित हो गया है जिन्हें विशेष राज्य का दर्जा प्राप्त है। क्या है विशेष राज्य का दर्जा देश… Keep Reading

वृद्धावस्‍था पेंशन योजना

वृद्धावस्‍था पेंशन योजना (Old Age Pension Scheme) राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना की शुरुआत वर्ष 1995 में की गयी थी। इस योजना का क्रियान्वयन राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों की ओर से किया जाता है। इसके लिए भारत सरकार राज्य सरकार को अतिरिक्त वित्तीय सहायता प्रदान करती है। जिससे राज्य सरकार वृद्धावस्था पेंशन का निवाहन… Keep Reading

तिलू रौतेली विशेष पेंशन योजना

तिलू रौतेली विशेष पेंशन योजना (Tilu Rauteli special pension scheme) उत्तराखंड में वेसे तो कई समाज सुधारक व समाज कल्याण सम्बन्धी योजनाये चल रही हैं, उन्ही में से एक योजना है जिसक नाम “तिलू रौतेली विशेष पेंशन योजना” है। योजना की शुरुआत :- 01 अप्रैल, 2014 लाभान्वित :- चालीस फीसदी से कम विकलांग महिलाये जिनकी आयु… Keep Reading

उत्तराखंड के प्रमुख ताल व उनके स्थल

उत्तराखंड के प्रमुख ताल (Famous Lakes in Uttarakhand) उत्तराखंड में कई तरह के छोटे-बड़े ताल या झील या कुण्ड है, जिनमें से कुछ इस प्रकार है, जो निम्नलिखित स्थानों पर स्थित है – नैनीताल – नैनीताल भीमताल – भीमताल (नैनीताल में कुँमाऊ की सबसे बड़ी ताल) नौकुछिया ताल – नैनीताल (कुँमाऊ की सबसे गहरी ताल)… Keep Reading

रम्माण उत्सव – यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर में घोषित उत्सव

रम्माण उत्सव (Ramman Festival) उत्तराखण्ड का जिक्र वैदिक काल से होता आ रहा है, इस लिए आज भी उत्तराखंड में रामायण-महाभारत काल की सेकड़ों विधाएं मौजूद हैं, जिनमें से कई विधाएं विलुप्त हो गई है और कई विधाएं विलुप्त होने की कगार पर पहुच चुकी है, लेकिन कई लोगों के अथक प्रयासों एवं दृढ़ निश्चय… Keep Reading

1 2 3 10