उत्तराखंड की प्रमुख पुस्तकें और पत्रिकाएँ

उत्तराखंड की प्रमुख पुस्तकें और पत्रिकाएँ

उत्तराखंड की प्रमुख पुस्तकें और पत्रिकाएँ : उत्तराखंड की प्रमुख पुस्तक (Book) और उनके लेखक (Writer), उत्तराखंड की प्रमुख पत्रिकाओं के नाम व प्रकाशन स्थल की जानकरी —

उत्तराखंड की प्रसिद्ध पुस्तकें और उनके लेखक

(Uttarakhand’s famous books and their authors)

BookAuthor
मेम्बेर्स ऑफ़ देहरादून (Members of Dehradun) (1874)जी. आर. जी. विलियम्स (G. R. G. Williams)
हिमालयन डिस्ट्रिक्ट गजेटियर (Himalayan District Gazetteer)ए. एफ. टी. एटकिन्सन (A. F. T. Atkinson)
Lone Fox Dancing – Autobiographyरस्किन बांड (Ruskin Bond)
The Room on the Roof, The Penguin Book of Indian
Ghost Stories The Penguin Book of Indian Railway Stories
Landour Days
The Rupa Book of Ruskin Bond’s Himalayan Tales
होल्ली हिमालय (Holly Himalayas)ई. सेरमन ओकले (E. Sermn Oakley)
गढ़वाल गजेटियर्स (Garhwal Gajetiers)एच. जी. वाल्टन (H. G. Walton)
ब्रिटिश गढ़वाल गजेटियर (British Garhwal Gazetteers)
अल्मोड़ा गजेटियर (Almora Gazetteer)
देहरादून का गजेटियर (हिंदी अनुवाद) (Gazetteer of Dehradun (Hindi Translation))प्रकाश थपलियाल (Prakash Thapliyal)
मसूरी मेडले (Mussoorie Medley)प्रो. गणेश शैली (Ganesh Shaili)
हिमालयन ट्रेवल्स (Himalayan Travels)जोध सिंह नेगी (Jodh Singh Negi)
हिमालयन फोकलोर (Himalayan Folklore)ई. एस. ओकले (E. S. Oakley ) और तारादत्त गैरोला (Taradutt Gairola)
हिमालय की यात्रा (Himalayan Ki Yatra)काका साहब कालेलकर (Kaka Saheb Kalelkar)
हिमालय परिचय (Himalaya Parichay) – 1 (गढ़वाल)राहुल सांकृत्यायन (Rahul Sankrityayan)
हिमालय परिचय – 2 (कुमाऊं)
भीड़ साक्षी है (The Crowd Bears Witness)रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’)
स्पर्श गंगा
शिखरों से संघर्ष (उपन्यास)
सपने जो सोने न दें
कथाएं पहाड़ों की (कहानी संग्रह)
प्रलय के बीच (उत्तराखंड में 2013 में आयी आपदा पर)
हिमालय का महाकुंभ : नन्दा राजजात (Himalayan Kumbh: Nanda Rajjat)
उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी (Chief freedom fighter of Uttarakhand)डॉक्टर धर्मपाल सिंह मनराल (Dr. Dharam Singh Manral), डॉ. अरुण मित्तल
गढवाल की दिवंगत विभूतियां (The deceased persons Garhwal)भक्त दर्शन (Bhakt Darshan)
मध्य हिमालय का पुरातत्व (Archeology of the Middle Himalayas)डॉ यशवंत सिंह कठौच (Dr. Yashwant Singh Kthauch)
मध्य हिमालय की कला (Central Himalayan Art)
उत्तराखंड का नवीन इतिहास (New history of Uttarakhand)
गढ़वाल पेंटिंग (Garhwal Painting)बैरिस्टर मुकुंदी लाल (Barrister Mukundi Lal)
रुद्रप्रयाग का आदमखोर बाघ (Anthropophagous Tigers in Rudraprayag)जिम कॉर्बेट (Jim Corbett)
आर्यों का मूल स्थान : मध्य हिमालय (Aryan origin: Central Himalayas)भजन सिंह (Bhajan Singh)
उत्तराखंड में कुली बेगार प्रथा (Kuli Begar Practice in Uttarakhand)डॉक्टर शेखर पाठक (Dr Shekhar Pathak)
एशिया की पीठ पर (Asia ke Pitha Par)प्रो. शेखर पाठक एवं प्रो. उमा भट्ट (Prof. Shekhar Pathak and Prof. Uma Bhatt)
ब्रिटिश कुमाऊँ गढ़वाल (British Kumaon Garhwal) – 1815-1818डॉ आर. एस. टोलिया (Dr R. S. Tolia)
ब्रिटिश कुमाऊँ गढ़वाल – 1836-1856
Uttarakhand : Fifteen years of Development
Founders of Modern Administration in Uttarakhand (1815-1884)
पटवारी, घराट एवं चाय
नैन सिंह रावत : अध्यापक, सर्वेक्षक एवं अक्षांश दर्पण
नैन सिंह रावत और जोहार का इतिहास
उत्तराखंड की विभूतियाँ (Uttarakhand Luminaries)शक्ति प्रसाद सकलानी (Shakti Prasad Saklani)
हिल डायलेक्ट्स ऑफ़ द कुमाऊ डिवीज़न (Hill Dialects of the Kumaon Division)गंगा दत्त उप्रेती (Ganga Dutt Upreti)
कुमाउँनी का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन
Descriptive List of the Martial Castes of the Almora
कुमाऊं की चित्रकला (Kumaon painting)डॉ यशोधर मठपाल (Dr. Yashodhar Mathpal)
सेंट्रल हिमालया (Central Himalaya)डॉ एम. एस. एस. रावत (Dr M. S. S. Rawat)
नैनीताल समाचार 25 साल का सफर (Nainital News Journey of 25-year)नैनीताल समाचार टीम (Nainital News Team)
डिस्कवरी राजाजी (Discovery Rajaji)अंजली रवि व पाण्डेय (Anjali Ravi and Pandey)
द बॉय फ्रॉम लमबाटा (The Boy from Lamabta)नारायण सिंह थापा (N. S. Thapa)
उत्तराखंड संस्कृति (Uttarakhand Culture)जसवंत सिंह कठौच (Jaswant Singh Kathuch)
उत्तराखंड समग्र ज्ञानकोश (Uttarakhand overall Knowledge)डॉ. राजेंद्र बलोदी (Dr. Rajendra Balodi)
लोनली फिरोज ऑफ़ द बॉर्डर लेंड (Lonely Feroz land of the Border)कल्याण सिंह पांगती (Kalyan Singh Pangti)
मेघदूत का गढ़वाली में रूपांतरण (Conversion of Meghdoot in Garhwali)आचार्य धर्मानन्द (Acharya Dharmanand)
उत्तराखंड राज्य निर्माण का संक्षिप्त इतिहास (A Brief History of the State Building)केदार सिंह फोनिया (Kedar Singh Fonia)
दून एवं उसके आर्किटेक्ट (Dun and his Architect)देवकी नंदन पांडे (Devaki Nandan Pandey)
हिमालय की खश (Himalayan Khash)डॉ. डी. डी. शर्मा (DR. D. D. Sharma)
गीता का गढ़वाली अनुवाद (Garhwali translation of the Gita)पंडित उमादत्त नैथाणी, नंदकिशोर ढौंडियाल व आदित्य राम (Pandit Umadutt Nathani, Nand Kishore Dhaundiyal and Aditya Ram)
गढ़वाली हिंदी शब्दकोश (Garhwali Hindi dictionary)अरविंद पुरोहित व बीना बेंजवाल (Arvind Purohit and Bina Benjwal)
गढ़वाली व्याकरण की रूपरेखा (Garhwali grammar Profiling)अबोध बन्धु बहुगुणा (Abodh Bandhu Bahuguna)
उत्तराखंड का इतिहास (History of Uttrakhand) – 21 भागडॉक्टर शिवप्रसाद डबराल ‘चारण’ (Dr Shiv Prashad Dabral)
टिहरी का इतिहास
कुमाऊं का इतिहास (History of Kumaon)बद्रीदत्त पांडे (Bdraidutt Pandey)
गढ़वाल का इतिहास (History of Garhwal)हरिकृष्ण रतूड़ी (Harikrishna Rtudi)
युद्ध की प्रकृतिलेफ्टिनेंट जनरल एच. बी. काला
हिमालय का इतिहास (The history of the Himalayas)डॉक्टर मदन चंद्र भट्ट (Dr Madan Chandra Bhatt)
हिस्ट्री ऑफ़ गढ़वाल (History of Garhwal) डॉ अजय रावत (Dr Ajay Rawat)

 

उत्तराखंड की प्रमुख पत्रिकाएं

(Major Magazines of Uttarakhand)

उत्तराखंड के प्रमुख पत्रिकाएँ और उनके प्रकाशित होने के स्थान इस प्रकार है :-

MagazinePlace
उत्तराखंड दर्शन (Uttarakhand Darshan)देहरादून
पर्वतजन (Prwatjan)
युगवाणी (Yugwani)
धाद (Dhad)
पहाड़ (Pahad)नैनीताल
उत्तरा (Uttara)
आज का पहाड़ (Aaj Ka Pahad)पिथौरागढ़
मध्य हिमालय (Madhay Himalaya)
पुरवासी (Purvasi)अल्मोड़ा
उत्तराखंड संस्कृति (Uttarakhand Sanskrti)पौड़ी
राष्ट्रीय ज्वाला (Rashtriy Jwala)दुगड्डा (पौड़ी से)
अंतर ज्वाला (Antar Jwala)

 

स्वतंत्रता के पूर्व के प्रमुख पत्र

  • उत्तराखंड राज्य का प्रथम समाचार (First News Paper) पत्र ‘मसूरी’ (देहरादून) से अंग्रेजी (English) में निकलने वाला ‘द हिल्स’ (The Hills) था।
  • उत्तराखंड राज्य से प्रकाशित प्रथम दैनिक पत्र (The first daily paper) ‘पर्वतीय’ (Parvateey) था।
  • उत्तराखंड राज्य का प्रथम हिंदी समाचार पत्र (The first Hindi newspaper) लैंसडाउन (पौड़ी गढ़वाल) से 1902 में निकलने वाला ‘गढ़वाल समाचार पत्र‘ (Garhwal Newspaper) था।
  • वर्ष 1871 में निकलने वाला कुमाऊनी भाषा (Kumauni language) का प्रथम अखबार (First Newspaper) ‘अल्मोड़ा अखबार (Almora newspaper)’ था। 1913 से इसके संपादक बद्रीदत्त पांडे (Editor Bdraidutt Pandey) रहे। 1918 में यह अखवार बंद हो गया और श्री पांडेय ने ‘सत्य (Satya)’ नामक साप्ताहिक निकालना शुरू कर दिया।
  • वर्ष 1905 में निकलने वाला गढ़वाली भाषा (Garhwali language) का प्रथम अखबार ‘गढ़वाली‘ था। इसका प्रकाशन तत्कालीन टिहरी रियासत (देहरादून) से होता था।

 

स्वतंत्रता से पूर्व के अन्य प्रमुख पत्र

  • विशाल कीर्ति (Vishal Kirti) — पौड़ी गढ़वाल
  • ज्योति (Jyoti) और कुमाऊं कुमुद (Kumaon Kumud) — अल्मोड़ा
  • स्वाधीन प्रजा (Swadhin Prja) (1930) और ‘समता (Samtaa) (1935) — नैनीताल

पढ़ें उत्तराखंड में उपस्थित प्रमुख संस्थान

You may also like :

2 Comments

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*