UPSSSC Stenographer exam paper 2015

UPSSSC Stenographer exam paper 2015

UPSSSC Stenographer exam paper 2015 : UPSSSC Stenographer भर्ती 2015 का exam paper यहाँ दिया गया है। स्टेनोग्राफर (आशुलिपिक) भर्ती परीक्षा UPSSSC द्वारा 26 जुलाई 2015 को उत्तर प्रदेश राज्य में आयोजित की गयी थी।

पोस्ट :— आशुलिपिक (Stenographer)
परीक्षा आयोजक :— UPSSSC (Uttar Pradesh Subordinate Services Selection Commission)
परीक्षा तिथि :— 26/07/2015
कुल प्रश्न :— 80

UPSSSC Stenographer Previous exam paper 2015

भाग – I
हिन्दी परिज्ञान और लेखन योग्यता

1. भारतीवृत्ति का सम्बन्ध किस रस से हैं ?
A. वीर
B. बीभत्स
C. अद्भुत
D. हास्य

Show Answer

Answer – C

Hide Answer

2. जहाँ बिना कारण के कार्य का होना पाया जाए, वह कौन-सा अलंकार होता है ?
A. विरोधाभास
B. विभावना
C. वक्रोक्ति
D. विशेषोक्ति

Show Answer

Answer – B

Hide Answer

3. रससूत्र के जनक माने जाते हैं –
A. भरतमुनि
B. अभिनवगुप्त
C. तुलसीदास
D. भट्टनायक

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

4. ‘पढ़ रहा था’ इसमें कौन-सी क्रिया है ?
A. संयुक्त क्रिया
B. सामान्य क्रिया
C. पूर्वाकालिक क्रिया
D. असामान्य क्रिया

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

5. पितृ + अनुमति का सही संधिपद है –

A. पित्रानुमति
B. पित्रीनुमति
C. पित्रनुमति
D. पित्रानूमति

Show Answer

Answer – C

Hide Answer

निर्देश (प्रश्न संख्या 6 से 8) : निम्नलिखित पर्यायवाची शब्दों के लिए सही विकल्प चुनें।

6. दूध
A. स्तन्य
B. खीर
C. पेय
D. नवनीत

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

7. प्रेक्षा
A. दीक्षा
B. परीक्षा
C. शिक्षा
D. दृष्टि

Show Answer

Answer – D

Hide Answer

8. विरासत
A. देय
B. प्रदेय
C. दाय
D. धाय

Show Answer

Answer – C

Hide Answer

निर्देश (प्रश्न संख्या 9 से 12) : निम्नलिखित वाक्यों में उनके प्रथम तथा अन्तिम अंश संख्या 1 और 6 के अन्तर्गत दिए गए हैं। बीच वाले चार अंश य, र, ल, व के अन्तर्गत बिना क्रम के हैं। चार अंशों को उचित क्रमानुसार व्यवस्थित कर सही विकल्प चुनें।

9. 1. होलोग्राफी एक विशेष
य. यह साधारण फोटोग्राफी से बिलकुल
र. आवश्यकता नहीं पड़ती है, इसलिए इसे
ल. भिन्न है। इस फोटोग्राफी में किसी कैमरे की
व. प्रकार की फोटोग्राफी है।
6. लेंसलेस फोटोग्राफी भी कहते हैं।
A. र य ल व
B. य र ल व
C. ल य र व
D. व य ल र

Show Answer

Answer – D

Hide Answer

10. 1. भाषा जब
य. प्रशासनिक भाषा बन जाती है
र. साहित्यिक रूप लेने के बाद
ल. सम्पर्क भाषा से
व. तो उसका उत्तरदायित्व
6. बहुत बढ़ जाता है।
A. र य व ल
B. ल य र व
C. ल र य व
D. र व ल य

Show Answer

Answer – C

Hide Answer

11. 1. अवकाश के समय की गतिविधियाँ
य. सामाजिक परिवर्तन की
र. को दूर करने का प्रयत्न करते हैं
ल. सूचक होती हैं जिसके जरिए
व. हम तनावों, निराशाओं आदि
6. और मनोरंजन के साथ रचनात्मक कार्य भी करते हैं।
A. ल य र व
B. र ल व य
C. ल र व य
D. य ल व र

Show Answer

Answer – D

Hide Answer

12. मजदूरों की बस्तियों में
य. वहाँ के बेकार रहने वाले व्यक्तियों के
र. व्यक्तियों के अपेक्षाकृत अनजान होने से
ल. और कल्याणकारी कार्यकलापों के न होने से
व. तथा मनोरंजन, शिक्षा आदि की सुविधाओं
6. बिगड़ने की संभावना रहती है।
A. र व ल य
B. य ल र व
C. व ल य र
D. ल र व य

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

निर्देश (प्रश्न संख्या 13 से 16) : निम्नलिखित अवतरण को पढ़कर सम्बद्ध वैकल्पिक उत्तरों में से सही उत्तर का चयन कर उसे चिह्नित करें।
मैथिलीशरण गुप्त गाँधी-युग के प्रतिनिधि कवि हैं – अपने जीवन के प्रौढकाल में ही वे इस गौरव के अधिकारी हो गए थे। गाँधी-युग का प्रतिनिधित्व एक सीमा तक सम्पूर्ण आधुनिक काल का प्रतिनिधित्व भी माना जा सकता है। गाँधी-युग की प्रायः समस्त मूल प्रवृत्तियाँ-राष्ट्रीय, सामाजिक और सांस्कृतिक आन्दोलन गुप्तजी के काव्य में प्रतिफलित हैं। यह प्रतिफलन प्रत्यक्ष भी है और परोक्ष भी। कुछ रचनाओं में युग-जीवन का स्वर मुखर है और उनमें वातावरण की हलचल का प्रत्यक्ष चित्रण किया गया है। इनमें कवि राष्ट्रकवि के दायित्व का भी पालन करता है। कुछ अन्य रचनाओं में युग-चेतन अत्यन्त प्रखर है, परन्तु वह प्रच्छन्न है। गुप्तजी के संस्कार मूलतः सामन्तीय थे और उनके घर का वातावरण वैष्णव था, तथापि वे समय के साथ चलने का निरन्तर प्रयत्न करते थे तथा देश के विभिन्न आन्दोलनों को समझने का भी प्रयत्न करते थे। उनकी प्रतिक्रिया प्रायः प्रखर और प्रबल होती थी। गाँधी-युग की समस्याओं का चित्रण प्रेमचन्द ने भी किया और अपने ढंग से प्रसाद ने भी। प्रेमचन्द की दृष्टि बहिर्मुखी थी, उनकी चेतना सामाजिक-राजनीतिक थी। प्रसाद की दृष्टि अन्तर्मुखी थी और उनकी चेतना एकान्त रूप में सांस्कृतिक थी। गाँधी-युग की प्रायः सभी प्रमुख समस्याओं को उन्होंने ग्रहण किया, परन्तु उनके बहिरंग में उनकी रुचि नहीं थी। अपने नाटकों में प्रसाद ने उन्हें पूर्णतः सांस्कृतिक रूप में प्रस्तुत किया है और कामायनी में आध्यात्मिक धरातल पर। अपने उपन्यासों में प्रसाद उन्हें राजनीतिक-सामाजिक धरातल पर ग्रहण करते हैं, परन्तु शीघ्र ही उनके बहिरंग रूपों को भेदकर उनमें निहित सांस्कृतिक तत्वों का चित्रण भी करने लगते हैं। गुप्तजी की स्थिति मधतवर्ती है, उनका दृष्टिकोण राष्ट्रीय संस्कृति है। उनमें न तो प्रेमचन्द के समान व्यावहारिकता का आग्रह है और न प्रसाद की तरह दार्शनिकता का। उनमें सगुण तत्व अधिक है। प्रेमचन्द में धर्म-भावना का अभाव है, तो प्रसाद में लोक-भावना का। गुप्तजी में लोक-चेतना का प्रतिनिधित्व अपेक्षाकृत अधिक मिलता है।

13. सही वक्तव्य कौन-सा है ?
A. गुप्तजी के संस्कार सामन्तीय थे
B. प्रसाद के घर का वातावरण वैष्णव था
C. धार्मिक आन्दोलन गाँधी-युग की प्रवृत्ति थी
D. प्रेमचन्द में युग-चेतना अत्यन्त प्रखर है।

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

14. निम्न में कौन-सा वक्तव्य सही नहीं है ?
A. गुप्तजी राष्ट्रकवि के दायित्वबोध से ओतप्रोत हैं
B. गुप्तजी में निर्गुण तत्व अधिक है
C. गुप्तजी आधुनिक काल के प्रतिनिधि कवि हैं
D. प्रसाद के नाटक में गाँधीयुगीन समस्या है

Show Answer

Answer – B

Hide Answer

15. गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक है –
A. आधुनिक हिन्दी दर्शन
B. गाँधी-युग की काव्य-चेतना
C. प्रेमचन्द का साहित्य
D. मैथिलीशरण गुप्त का काव्य

Show Answer

Answer – D

Hide Answer

16. गद्यांश में किस शब्द का प्रयोग नहीं हैं ?
A. जन-काव्य
B. प्रच्छन्न
C. बहिरंग
D. लोक-चेतना

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

निर्देश (प्रश्न संख्या 17 से 20) : निम्नलिखित वाक्यों में कुछ में त्रुटियाँ हैं और कुछ ठीक हैं। त्रुटि वाले वाक्य को चुनें और उसके अनुरूप a, b, c पर चिह्न लगाएँ। यदि वाक्य त्रुटिहीन हों, तो d पर चिह्न लगाएँ।

17. A. कुछ उसके प्राप्त करने में दाव-पेंच लगा रहे हैं।
B. स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद अधिकतर लोग ऐसे हैं।
C. जिनमें कुछ सुख-सम्पन्नता भोगने और उसका लाभ उठाने में मग्न हैं।
D. कोई त्रुटि नहीं

Show Answer

Answer – A

Hide Answer

18. A. मनुष्य की अनुभूतियों का प्राकृतिक रूप पशु प्रवृत्तियों से अभिन्न है।
B. शिक्षा मानव-समाज की अत्यंत महत्वपूर्ण प्रक्रिया है।
C. मनुष्य संसार में अपनी स्वाभाविक और प्राकृतिक विशेषताओं सहित उत्पन्न होता है।
D. कोई त्रुटि नहीं

Show Answer

Answer – D

Hide Answer

19. A. लिपि के माध्यम से भाषा के उच्चारण तत्वों को समझना आवश्यक हो जाता है।
B. भाषा का उच्चरित रूप भाषा का वास्तविक रूप है।
C. लिखित भाषा उच्चरित भाषा के सभी तत्वों को दिखाती है।
D. कोई त्रुटि नहीं

Show Answer

Answer – C

Hide Answer

20. A. परीक्षा के एकमात्र चार ही दिन बचे हैं।
B. परीक्षा के केवल चार दिन बचे हैं।
C. परीक्षा के एकमात्र चार दिन बचे हैं।
D. कोई त्रुटि नहीं है

Show Answer

Answer – B

Hide Answer

प्रातिक्रिया दे

Your email address will not be published.

*